Monday, 1 May 2017

सुख - शांति से जीना है तो अपना मुखौटा उतारना होगा

  सच्चाई  और  ईमानदारी  में  गजब  का  आकर्षण  होता  है  ,  इसलिए  समाज  में  अनेक  लोग  जो   अनैतिक  और  अपराधिक  गतिविधियों  में  संलग्न  होते  हैं   अपने  ऊपर   शराफत  का  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  l   वे  समाज  में  अपनी  पहचान  ऐसे  रूप  में  दिखाना  चाहते  हैं  कि  उनके  बराबर  कोई  सच्चा , ईमानदार  और  सह्रदय  कोई  है  ही  नहीं  |   ऐसे  लोग  स्वयं  परेशान  रहते  हैं  ,  उनका  सारा  जीवन  इसी  उधेड़बुन  में  चला  जाता  है  कि  इस  झूठी  पहचान  को  कैसे  बनाये  रखा  जाये  ,  इस  कारण  वे  तनावग्रस्त  रहते  हैं  l   ऐसे  लोगों  की  असलियत  जानने  वाले  भी  बहुत  होते  हैं    जो  अपना  मुंह  बंद  रखने  के  लिए   ऐसे  लोगों  से  बहुत  धन  कमा  लेते  हैं  l
  शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है  कि  हम  सद्गुणों  को  अपनाएं ,  सच्चाई  की  राह  पर  चलें   ताकि  हमें  ऐसे  किसी  मुखौटे  की  जरुरत  ही  न  पड़े  l 

No comments:

Post a Comment