Sunday, 30 October 2016

मानसिक प्रदूषण कम करना जरुरी है

   जब  लोगों  के  विचार  अच्छे  होंगे ,  मन  बेलगाम  नहीं  होगा ,  उस   पर    थोड़ा - बहुत  नियंत्रण  होगा   तभी   संसार    में  शान्ति  होगी   ।  आज  के  समय  में  मन  को   स्थिर  व  शांत  रखने  वाले  साधन  कम
  हैं ।    सामान्य  जनता  फिल्मों  का  अनुसरण  करती  है  ।  हीरो , हिरोइन  के  वस्त्र   डिजाइन   आदि  से  ही  सामान्य  जनता  में  फैशन  आता  है   ।   फिल्मों  में  प्रदर्शन  और  अश्लीलता  की  वजह  से  ही  सबसे  ज्यादा  मानसिक  प्रदूषण  होता  है  ।
   संसार  में  अति  प्राचीन  काल  से  ही  पुरुष  प्रधानता  है ,  पुरुष  को  श्रेष्ठ  समझा  जाता  है ,  यही  स्थिति  आज  भी  है  ।    चाहे  आज  हम  आधुनिक  समाज  में  हैं  लेकिन  नारी  पर  अत्याचार  कम  नहीं  हुए ,  बढ़  ही  गये  हैं  ।   पुरुष  ने   हमेशा  ही  नारी  को  अपने  से  कम  साबित  किया  है  ।   यदि  फिल्मों  में  अंग  प्रदर्शन   सम्मानजनक  और  श्रेष्ठता  की  बात  होती   तो  पुरुष  समाज  कभी  भी  इसमें  पीछे  नहीं  रहता   लेकिन  नारी  को  इस  कार्य  के  लिए  आगे  रखना  --- उसके  माध्यम  से  धन  कमाना  और  फिल्मों  को  हिट    करना  है   ।
  जागरूकता    जरुरी  है   ,  तभी  परिवार  में , समाज  में   शान्ति  होगी   । 

Saturday, 29 October 2016

लोग लक्ष्मी की नहीं धन की पूजा करते हैं इसीलिए संसार में आशांति है

  '  हम  सब एक  माला  के  मोती  हैं ,  इस  माला  के  आधे  से  अधिक  फूल  पददलित , कुम्हलाये  हुए  और  प्रदूषित  हों  तो  वह  माला  व्यर्थ  है  ।  '
  इन  सबके  पीछे  वास्तविक  कारण  है --- धन  का  लालच  और  स्वार्थ  ।    लोग  वास्तव  में  व्यक्ति  का  चाहे  वह  पुरुष  हो  या  नारी   उसका   सम्मान  नहीं  करते ,  उस   के  माध्यम  से  वे  कितना  धन  कमा  सकते  हैं ,  अपना  प्रमोशन  करा  सकते  हैं , अपनी  मनमानी  कर  सकते  हैं  ,  उस  सम्मान  के  पीछे  यही  उद्देश्य  होता  है  ।  
     समाज  में  धन  को  इतना   महत्व    देने  के  कारण  ही    लोगों  ने  पर्यावरण  को  प्रदूषित  कर  दिया ,  लोगों  को  नशे  का  आदी  बना  दिया  , ,  कला  को  ऐसा  बना  दिया  जो  लोगों  की  कुत्सित  भावना  को  और  भड़का   दे  और  नारी  जो  युगों  से  शोषित  और  उत्पीड़ित  है  ,  उसे  भी  प्रदर्शन  की  आड़  में  अपमानित  कर  दिया  ।  
  कर्मकाण्ड  भी  जरुरी  है लेकिन  मानसिकता  प्रदूषित  है,  भावनाओं  की  पवित्रता  नहीं  है  तो  सब  कर्मकाण्ड  व्यर्थ  हैं  ।
  ऐसा  नहीं  है  कि  संसार  में  सब  भ्रष्ट  हैं ,  अनेक  अच्छे  लोग  हैं ,  पुण्यात्मा  हैं   जिनके  पुण्यों  से  यह  धरती  टिकी  है  लेकिन  अंधकार  बहुत  सघन  है  उसे  मिटाने  के  लिए  दृढ  संकल्प  और  शक्ति  के  साथ  सद्बुद्धि  की  आवश्यकता  है  ।  ऐसे  पवित्र अवसर  पर  हम   ईश्वर  से  धन  नहीं  सद्बुद्धि  मांगे   ।  केवल  सद्बुद्धि  होने  से  ही  संसार  की  सभी  समस्याओं  का  हल  हो  जाता  है  चाहे  वे  पारिवारिक  हों  सामाजिक  हों  या  राजनैतिक  हों   ।  उन्हें  हल  करने  के  लिए  किसी  झगड़े,  दंगे  और  युद्ध  की  आवश्यकता  नहीं  है  ।
       

Friday, 28 October 2016

संसार की आधी से अधिक जनसँख्या पीड़ित व शोषित है तो शान्ति कैसे होगी

    पीड़ित  और  शोषित  में  दो  वर्ग  हैं ----- निर्धन वर्ग  और   नारी  ।  संसार  का  कोई  भी  देश  हो ,  कोई  जाति ,   कोई  धर्म   हो ,  परिवार  हो  या  कार्यालय   सब  अपने - अपने  तरीके  से  इनका  शोषण  व  उत्पीड़न  करते  हैं   और  यह  उत्पीड़न  युगों  से  हो  रहा  है   ।
  आज  हम  वैज्ञानिक  युग  में  जी  रहें  हैं ,  महिलाओं  को  आगे  बढ़ने  का ,  आत्म  निर्भर  होने  का  अधिकार  है   लेकिन  पुरुषों  की   मानसिकता  नहीं  बदली   l  अहंकार  और  नारी  को  आगे  बढ़ते  देख   ईर्ष्या  का  भाव  ही  महिलाओं  के  उत्पीड़न  का  बड़ा  कारण  है  ।  जिसे  समाज  में  अपहरण , बलात्कार , हत्या ,   बालिका  भ्रूण  हत्या , दहेज़  उत्पीड़न   आदि  विभिन्न  रूपों  में  देखा  जा  सकता  है  l
        ऐसे  अपराधों  में  व्यक्ति  की  विकृत  मानसिकता  होती  है  ।   निरन्तर  मांसाहार  करने  से  मनुष्य  में  पशु  प्रवृति  बढ्ती  जाती  है  ,  लेकिन  इसके   साथ  शराब ,  तम्बाकू  आदि  नशीले  पदार्थों  का  सेवन  करने  से  बुद्धि  स्थिर  नहीं  रहती  ,  और  शरीर  में  इतनी   शक्ति  नहीं  रहती   कि  अपने  जैसे  लोगों  से  भी  लड़  सके  ।   इसलिए  उसका  अहंकार ,  उसकी  अपनी  समस्याएं  विकराल  रूप  में  ,  महिलाओं  के  प्रति   अपराध  और  पारिवारिक  विघटन  के  रूप  में   दिखाई  देती  हैं  ।   हर  क्रिया  की  प्रतिक्रिया  होती  है  ,   इस  तरह  के   व्यवहार  से  पुरुषों  को  भी  वह  सम्मान ,  वह  इज्जत  नहीं  मिल  पाती  जो  उनके  आत्मविश्वास  को  बढ़ा  दे  ।
        संसार  में  शान्ति  चाहिए   तो  लोगों  को  अपनी  जीवन  शैली  को  बदलना  होगा  ।   महिलाओं  का   सम्मान  तो  बहुत  दूर  की  बात  है  ,  केवल  उत्पीड़ित  ही  न  करें  ,  उनके  अस्तित्व  को  स्वीकार  करें   तभी  संसार  में  शान्ति  होगी   ।   लक्ष्मी - पूजा , नवरात्रि  पूजन   आदि  का  पुण्य  तो  तभी  मिलेगा  जब  परिवार  में   नारी  और  पुरुष  एक  दूसरे  के   महत्व   को   स्वीकार  करेंगे  ।  पारिवारिक  शान्ति  से  ही  समाज  में  शान्ति  होगी  ।  

Wednesday, 26 October 2016

समाज में अशान्ति का कारण शोषण करने की मनोवृति है

   राजतन्त्र  और  सामन्तवाद  यद्दपि  समाप्त  हो  गया  लेकिन   लोगों  के  ह्रदय  में  अभी  भी  जिन्दा  है  |
  अधिकांश  लोग  अपना  काम  स्वयं  न  करके   उसे  अपने    ही  साथ  के  किसी  न  किसी  से  करवाना  चाहता  है  ।  यह  बात   पारिवारिक  ,  सामाजिक  , आदि  सभी  क्षेत्रों  में  है   ।  कुछ  लोग  सर्वेसर्वा  बन  जाते  हैं  और   अन्य  लोगों    पर  काम  का  बोझ   लादकर   उनका  शोषण  करते  हैं   ।
       केवल  चेहरे  बदल  गए  ।   जब  देश  पराधीन  था  तब    जिन  बातों  के  लिए    विदेशी  लोगों  को  दोष  दिया  जाता  था  ,   आज   वही   सब  देश  के  लोग  कर  रहे  हैं  ।   मानसिकता  नहीं  बदली  ।
  पहले  एक  लक्ष्य  था  --- देश  को  आजाद  कराना  है  ,  विदेशियों  के  शोषण  से  मुक्त  होना  है  लेकिन  अब  ऐसे  लोगों  के  बीच  रहकर  जीवन  का  सफर  तय  करना  है  जो  दूसरों  का  शोषण  करते  हैं ,  हक  छीनते  हैं बिना  वजह  सिर्फ  अपने  मनोरंजन  के  लिए  दूसरों  को  सताते  हैं  --- यह  स्थिति  और  भी  कष्टदायी  है  ।  इसी  से  व्यापक  अशान्ति   ।
  

Sunday, 23 October 2016

जीवन में सुख - शान्ति के लिए भावनाओं की पवित्रता जरुरी है

      संसार  में  अनेक  लोग  पुण्य  के  कार्य  करते  हैं , सेवा - परोपकार  करते  हैं  लेकिन  यदि  वे  उस  कार्य  को  दिखावे  के  लिए  या  बोझ  समझकर  करेंगे  तो  उसका  उतना  पुण्य - प्रतिफल  नहीं  मिलेगा  ।   अर्थशास्त्र  का  एक  सिद्धान्त  है  कि  यदि  अर्थव्यवस्था  में  मंदी  है  उस    समय  यदि  सरकार   सार्वजनिक  निर्माण  कार्यों  पर   थोड़ा  भी  विनियोग  करेगी   तो  रोजगार  में  गुणक  गुना  वृद्धि  होगी  ।
   यही  सिद्धान्त  जीवन  पर  भी  लागू  होता  है  ---- यदि  जीवन  में  रिक्तता  है ,  निराशा है ,  डिप्रेशन  है    तो  इसे  दूर  करने  के  लिए   अपना  थोड़ा  सा  धन , थोड़ा  समय  बड़ी  खुशी  के  साथ   दूसरों  को  ,  किसी  जरूरतमंद  को  खुश  करने  के  लिए  उसके  कष्टों  पर  मलहम  लगाने  के  लिए  खर्च  कीजिये  ,  उसका  परिणाम  होगा  आपके  जीवन  में  खुशियों  में  ,  सुख  में  गुणक  गुना  वृद्धि  होगी  ।
       त्योहारों  पर  धन संपन्न   लोग ,  कुछ  कम्पनियां  अपने  मजदूरों  को ,  कर्मचारियों  को  बोनस  देते  हैं  ,  सामान्य  परिवारों  के  लोग  भी  अपने  घरों  में  काम  करने  वाले  को  उपहार ,  मजदूरी  के  अतिरिक्त    रूपये  आदि   देते   हैं  ।  इस  कार्य  को  यदि  बोझ  समझ  कर  करेंगे  ,  उपेक्षा  से  देंगे   तो  जेब  का  पैसा  भी  खर्च  हुआ  और  पुण्य  भी  नहीं  मिला   ।
  यदि  किसी  को  कुछ  दो    तो  यह  भावना  रखो  कि  इस  धरती  पर  जीने  का ,  खुशियाँ  मनाने  का  हक  सबको  है   ।   ईश्वर  तो  कीट - पतंगे   सभी  का  पेट  भर  रहें  हैं  ,  हमने  तो  केवल  अपनी  खुशियों  को  बढ़ाने  के  लिए  छोटा  सा  परोपकार  किया   । 

Saturday, 22 October 2016

जीवन में सफलता और सुख - शान्ति के लिए निष्काम कर्म जरुरी है

आज  के  समय  में  जीवन  बहुत  कठिन  है  l  घर - बाहर  दोनों  ही  जगह  अनेक  समस्याओं  का  सामना  करना  पड़ता  है   l   हम  नहीं  जानते  कि  हमारा  हित    किसमें    है   इसलिए  उचित  यही  है  की   नियमित  निष्काम  कर्म  करें  |  ऐसा  करने  से  दुआएं  मिलती  हैं  ,  समस्याएं  अपने  आप  हल  होती  जाती  हैं  और  सफलता  का  पथ  प्रशस्त  होता  है  |  |
  कर्तव्य  पालन  के  साथ  जब  व्यक्ति   निष्काम  कर्म  करता  है   तो  उसमे  एक  अनोखी  शक्ति  आ  जाती  है  ---- सफलता  का  मार्ग  यही  है  l 

Thursday, 20 October 2016

वैज्ञानिक प्रगति का लाभ तभी है जब नशे और मांसाहार पर प्रतिबन्ध हो

आज  हम  देखते  हैं  कि  सुरक्षा  के  साधनों ,  संचार  के  साधन  ,  मनुष्य  के  लिए  विभिन्न  सुख - सुविधा  के  साधन  इन  सभी  में  बहुत  प्रगति  हुई  है  लेकिन  जहाँ  तक  सुख  शान्ति  का  सवाल  है  ,    शान्ति  तो  इन  साधनों  के  सदुपयोग  से  ही  संभव  है    और  इन  सबका  सदुपयोग  तभी  होगा  जब  मनुष्य  की  बुद्धि  स्थिर  होगी     ।  विभिन्न  तरह  के  नशे  करने  से  और  मांसाहार  करने  से  मनुष्य  की  बुद्धि  स्थिर  नहीं  रहती  और  अस्थिर  बुद्धि  से  किया  गया  कोई  भी  काम   समाज  का  हित  नहीं  करता   ।
   मांसाहार  करने  से  मनुष्य  की  पाशविक  प्रवृतियां  बढ़  जाती  हैं  उसके  लिए  किसी  की  हत्या  करना  बहुत  सरल  काम  हो  जाता  है  ।  संसार  में  शान्ति  के  लिए  जरुरी  है    कि   मन  को   अस्थिर  करने  वाले  साधनों  कर   रोक    लगायी  जाये   । 

Wednesday, 19 October 2016

स्वयं का सुधार जरुरी है

 अपने  जीवन  को  सुखमय  बनाना  प्रत्येक  व्यक्ति  के  अपने  हाथ  में  है   ।   सुख  शान्तिपूर्ण  जीवन  जीने  की  सच्ची  चाहत  होनी  चाहिए  ।   पारिवारिक  संबंध  अच्छे  हों  , उनमे  दिखावा  न  हो  ।  बच्चे   ,  माता - पिता  का  ही  प्रतिरूप  होते  हैं    इसलिए  दो  काम  एक  साथ  होने  चाहिए  ---- बच्चों  को  अच्छे  संस्कार   और  नैतिक  मूल्यों  की  शिक्षा  दी  जाये   और  सबसे  जरुरी  है  की  उनके  माता - पिता  और  परिवार  में  जो  बड़ी  उम्र  के  सदस्य  हैं  उनके  जीवन  की  दिशा  सही  हो  ।   ये  लोग  जब  भ्रष्टाचार  से  दूर ,  सच्चाई  और  ईमानदारी  से  रहेंगे ,  चरित्र  अच्छा  होगा   उसी  का  अनुकरण  नई  पीढ़ी  करेगी  ।
  एक  वैचारिक  क्रांति  की  जरुरत   है   ।    लोग  प्रकृति  के  दण्ड  विधान  को  समझें   कि  गलत  काम  करने  से  ,  अपराध  करने  से  --- कैसे  उस  पाप  की  छाया  स्वयं  पर  और  बच्चों  पर  पड़ती  है  ,  कुछ  ऐसा  घटित  हो  जाता  है  कि  सब  कुछ  होते  हुए  भी  जीवन  में  सूनापन   होता  है ,  मानसिक  शान्ति  नहीं  रहती  ---- यह  समझ  जब  आएगी  तभी  व्यक्ति  सुधरेगा   ।  

Friday, 14 October 2016

शान्ति चाहिए तो किसी से कोई उम्मीद न रखें

  सारा  कष्ट  उम्मीद  रखने  से  होता  है  ।  हम  किसी  से  कोई  उम्मीद  न  रखें ,  फिर  कोई  हमारे  लिए  थोड़ा  भी  कुछ  करेगा  तो  उससे  बहुत  ख़ुशी  मिलेगी  ।
लोगों  की  आदत  होती  है  सपने  संजोने  की  ,  जब  वे  पूरे  नहीं  होते  तो  बहुत  दुःख  होता  है  ।  इसलिए  जरुरी  है  की  सपने  संजोये  ही  नहीं   ।    ईश्वर   ने  जो  दिया  वह  --- अच्छा,  और  जो  नहीं    दिया  ---- तो  और  अच्छा     ।      ईश्वर   की  सत्ता  में  विश्वास  रखें ,  अपना  कर्तव्य  पालन  ईमानदारी  से  करें   और  निष्काम  कर्म  करें  तो  किसी  से  कोई  उम्मीद  रखने  की  जरुरत  ही  नहीं  रहेगी   । 

Wednesday, 12 October 2016

आज की सबसे बड़ी जरुरत ---- जीवन जीने की कला

        लोग  बड़ी  जल्दी  समस्याओं  से  घबरा  कर  निराश  हो  जाते  हैं ,   कभी - कभी  निराशा  इतनी  बढ़  जाती  है  कि  आत्महत्या  करने  पर  उतारू  हो  जाते  हैं  ।   इसके  अनेक  कारण  हो  सकते  हैं    लेकिन   हमें  समाधान  खोजना  होगा  कि  व्यक्ति  डरपोक  न  बने ,  समस्याओं  से  भागे  नहीं  ।
  निराशा  से  निपटने  के  लिए  जरुरी  है  धैर्य  और   अज्ञात  शक्ति  पर ---  ईश्वर   पर  अटूट  विश्वास  ।
       ' हानि - लाभ ,  सुख - दुःख ,  यश - अपयश ,  उत्थान - पतन ,  प्रेम - धोखा ---- ये  सब  जिन्दगी  से  जुड़ी  हुई  बाते  हैं  ।  आत्महत्या  के  बाद  जब  नया  जन्म  होगा    तो   फिर  से  यही  सब  होगा  ,   इसलिए  मरने  से  कोई  फायदा  ही  नहीं  हुआ  ।
   इसलिए  समस्याओं  का  सकारात्मक  तरीके  से  डटकर   मुकाबला  करो  ।  प्रकृति  में  ऐसा  कभी  नहीं  हुआ  कि  रात  के  बाद  ,  सुबह  न  हुई  हो ।  सुबह  जरुर  होगी  ।
    वास्तव  में  प्रकृति  की  शक्तियां  चाहती  हैं कि  मनुष्य  अपनी  आंतरिक  शक्तियों  को  पहचाने ,  और  ऊँचा  उठे  ।  ईश्वर  ने  यह  संसार  बनाया ,  वे  मनुष्य  का  जीवन  सुखमय  बनाना  चाहते  हैं   ।
भगवान  श्री  कृष्ण  ने  अर्जुन  को  यही  समझाया  कि  संसार  से  भागो  मत  ,  कर्तव्य  पालन  करो  ।
  ' गीता '  का  ज्ञान  हमें  जीवन  जीने  की  कला  सिखाता  है    । 

Tuesday, 11 October 2016

जब तक लोगों में ईर्ष्या और अहंकार है शान्ति संभव नहीं है

अहंकारी  और  ईर्ष्यालु  व्यक्ति  इस  संसार  में  युगों  से  हैं  ,  ऐसे  व्यक्तियों  के  कारण    ही   युद्ध ,  अपराध  और  तनाव  उत्पन्न  होते  हैं   । संसार   में  ये  दुर्गुण  कम  या  ज्यादा  हो  सकते  हैं   लेकिन  ऐसे  ईर्ष्यालु  और  अहंकारी  संसार  में   हमेशा  रहेंगे   ।  इसलिए  बच्चों  को  प्रारम्भ  से  ही  जीवन  जीने  की  कला       की  शिक्षा  देनी  चाहिए   ।   ताकि  वो  संसार  की  चोटों  से  घायल  न  हो   ,  ।