Friday, 7 June 2019

समाज जागरूक हो

  अपराध  छोटा   हो  या   बड़ा    उस  पर  नियंत्रण  व  अपराधी  को  सजा  जरुरी  है  l  लेकिन  जब  अपराधी  संगठित  हो   कर  एक  मजबूत  श्रंखला  बना  लेते  हैं   तो  सबसे  बड़ी  समस्या  यह  होती  है  कि  सजा  कौन  दे  ?   हर  व्यक्ति  अपने  स्वार्थ ,  कामना , वासना  और  विभिन्न  कमजोरियों  के  आगे  विवश  होता  है  ,  अपनी - अपनी  दुकान  चलती  रहे   इस  कारण  हर  अपराधी   दूसरे   को  संरक्षण  देता  है   l
 सब  समस्याओं  का  एकमात्र  हल है --- संवेदना  l   कहने  को  आधुनिक  युग  है  ,  लेकिन  चेतना  के  स्तर  पर    क्या  है  ?   स्वयं  का  आंकलन  प्रत्येक  व्यक्ति    करे  l  अपनी  कमजोरियों  को  समझें    और  उसे  दूर  करें  ,  तभी  समाज  में  शांति  संभव  है   l 











Monday, 3 June 2019

विचारों का परिष्कार जरुरी है

विभिन्न  धर्मों ,  जातियों  और  समाज  में  युगों  से  महिलाओं  पर  अत्याचार  किये  गए   l  अब  महिला   सशक्तिकरण  के  नाम  पर  देश - दुनिया  में  बहुत  काम  हो  रहे  हैं   लेकिन  जब  तक  पुरुष  वर्ग  की  मानसिकता  नहीं  बदलती  तब  तक  इन  विभिन्न  प्रयासों  से  कोई  सच्चा    लाभ  नहीं है  l  देखने  में  तो   यह  स्पष्ट   है  कि    महिलाएं  उच्च  व  महत्वपूर्ण  पदों  पर  हैं    लेकिन  सशक्त  वे  तभी  कहलाएंगी  जब  वे  अपने  विवेक  और  अपने  स्वयं  के  ज्ञान  व  समझ  से  निर्णय  लेंगी   l  दुर्भाग्य  यह  है  कि   जो  महिलाएं   पुरुषों  के  स्वार्थ , भ्रष्टाचार  आदि  गलत  कार्यों  में  सहयोग  न  दें   उन्हें   उपेक्षित  व  अपमानित किया  जाता  है   l  जो  अपने  विवेक  से  कार्य  करे ,  पुरुष  प्रधानता  को, सामंती  व्यवस्था  को    चुनौती  दे   उन्हें  वृहद  स्तर  पर  अपमानित करने  व  '  चिढ़ाने  '  जैसा  तुच्छ  कार्य  किया  जाता  है  l   यह  सशक्तिकरण  नहीं  है  l  समस्या  विकट  तब  और  हो  जाती   है  जब  महिलाएं  ही  अपनी  किन्ही  कमजोरियों  के  कारण   किसी  महिला  को  उत्पीड़ित  करने  के  लिए  ,  उसके  विरुद्ध  षड्यंत्र  रचने  के  लिए   पुरुषों  का  साथ  देने  लगती  हैं  l   सामाजिक  स्थिति  चाहे  वह  महिलाओं  की   हो  या  दलितों  की ,  उसमे  सुधार  तभी  संभव  है   जब  लोगों  के  ह्रदय  में  संवेदना  होगी  , मानवता  होगी ,  उनके  विचार  परिष्कृत  होंगे   l  

Saturday, 30 March 2019

विचार श्रेष्ठ और सकारात्मक हों

  कहते  हैं  --विचार  कभी  नष्ट  नहीं  होते  ,  एक  बंद  कमरे में  ,  एक  गुफा  में  बैठ  कर  भी  आप  विचार  करेंगे  तो  वे  संसार  में  फैल  जायेंगे  और  अपना  प्रभाव  दिखायेंगे  l    मजदूरों  की  दीन-  हीन   दशा  को   सुधारने   के    लिए , शोषण  से  मुक्ति  के  लिए    कार्ल  मार्क्स  ने  क्रांतिकारी  विचार  प्रस्तुत  किये  ,  इससे  पूंजीपति  भयभीत  हो  गए  ,  उन  पर  तरह - तरह   से  प्रतिबन्ध  लगाये  गए  ,  देश - निकला  भी  दिया  गया   l  लेकिन  उनके  विचार  सारे  संसार  में  फैल  गए   और  उनका  प्रभाव   समाज  में , संसार  में  देखा  जा  सकता  है  l
  आज  समाज  में  जो  अत्याचार  और  अन्याय  बढ़  रहा  है  ,  वीरता  समाप्त  हुई  है  कायरता  बढ़ी  है   l किसी  भी  अपराध  के  पीछे  वास्तविक  अपराधी  कौन  है  ?  यह  जानना  भी  कठिन  हो  गया  है  l   ऐसे  समय  में  यदि   हमारी  कल्पनाएँ ,  हमारे  विचार   श्रेष्ठ  और  सकारात्मक  हों   l  विचार  के  साथ  आचरण  भी  श्रेष्ठ  हो   तो  सुधार  संभव  है   l   

Friday, 29 March 2019

धन और पद के लालच से मनुष्य की बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है

 जब  व्यक्ति  का  लोभ  व  लालच   मर्यादा  की  सीमा  रेखा  पार  कर  जाता है   तब  ऐसा  व्यक्ति  कायर  व  संवेदनहीन  हो  जाता  है   और  अपने  साथ  ऐसे  कायर व  संवेदनहीन  लोगों  की  भीड़  इकट्ठी  कर  लेता  है   और  इनके  पास सिर्फ  एक  ही  काम  होता  है   कि  हर  उचित - अनुचित  तरीके  से   योग्य  व्यक्ति  को  आगे  मत  आने  दो ,  अन्यथा  उनकी   अयोग्यता   का  पर्दाफाश  हो  जायेगा  l  गलत  तरीके  से  जो  साजो - सामान ,  वैभव  इकट्ठा  किया  है , उन्हें    उसका  भय  सताता  है  l  इस कारण  ऐसे  कायर  व्यक्ति  अपनी  योग्यता  नहीं  बढ़ाते ,   अपनी  सारी  शक्ति  योग्य  व  कुशल  व्यक्ति  को  पीछे  धकेलने  में  लगा  देते  हैं  l
  अँधेरा  कितना  भी  घना  हो ,  आखिर  सूर्योदय  तो  होता  ही  है  l
  गुलामी  के  दिनों  में  अंग्रेजों  ने   भारतीयों  को  बहुत  दीन- हीन  व  कमजोर  समझा ,  बहुत  अत्याचार  किये   l  उन  विपरीत  परिस्थितियों  में  भी  अनेक  महान  व्यक्ति  हुए  जिनके  प्रयासों  से  देश  को  आजादी  मिली  l  बुद्धिमानी  इसी  में  है   कि  दूसरों  को  धक्का  देकर  आगे  बढ़ने  के   बजाय  अपनी  योग्यता   बढ़ाओ  l 

Thursday, 21 March 2019

अनजाने भय के कारण व्यक्ति सत्य से दूर हो जाता है

  मनुष्य  अपनी  दुर्गति  के  लिए  स्वयं  जिम्मेदार  है  l  आज  कर्मकांड  तो  बहुत  हैं  लेकिन  लोगों  को  ईश्वर  की  सत्ता  में  विश्वास  नहीं  है  l   यही  कारण  है  कि  प्रत्येक  व्यक्ति   अपने  से  थोड़े  भी  ताकतवर  को  अपना  भाग्य विधाता  मान  कर  उसकी  गुलामी  शुरू  कर  देता  है   l   बेजान  चीजों  में  लोग  संसार  के  आश्चर्य  देखने   जाते  हैं   लेकिन  संसार  का  सबसे  बड़ा  आश्चर्य ---- वे  जीते - जागते  प्राणी  हैं  ,  जो  हर  तरह  से  संपन्न  हैं  ,  समाज   में  जिनकी  अलग  पहचान  है  ,  अनेकों  को  प्रभावित  भी  करते  हैं ,  ईश्वर  ने  उन्हें  सब  कुछ  दिया  है   लेकिन  अपनी  कमजोरियों  के  कारण  वे  मानसिक  गुलाम  हैं  l 
  एक  मजदूर  जो  दिन  भर  मजदूरी  करता  है ,   मेहनत    से  कमाता  है  और  स्वाभिमान  से   जीवन  जीता  है   लेकिन  संपन्न  और  समर्थ  व्यक्ति   किसी  न  किसी  के  हाथ  की  कठपुतली  बन  कर  रहता  है   l   आज  सबसे बड़ी  जरुरत  है  कि  प्रत्येक  व्यक्ति  सद्बुद्धि  की  प्रार्थना  करे   क्योंकि  ' यूज  एंड  थ्रो '    केवल  बेजान  चीजों  पर  लागू  नहीं  होता  l
   सद्बुद्धि  होगी ,  तभी  विवेक  होगा   l  विवेकशील  व्यक्ति  ही  स्वाभिमानी  होगा  l  निरंतर   सद्बुद्धि  की  प्रार्थना   करने  से   युगों  से  जो  गुलामी  की  आदत  बनी  हुई  है ,  वह  धीरे - धीरे  जाएगी  l  और  तभी  एक  स्वस्थ  समाज  का  निर्माण  होगा   l   

Wednesday, 20 March 2019

स्वविवेक जरुरी है

   व्यक्ति  कितना  भी  पढ़ - लिख  जाये ,  उच्च  पद  पर  पहुँच  जाये   , लेकिन  यदि  वह  स्वविवेक  से  काम  नहीं  लेता   तो  उसकी  शिक्षा  व्यर्थ  है  l   अधिकांश  लोग  कान  के  कच्चे  होते  हैं  ,  बिना  देखे ,  बिना  सोचे - समझे  दूसरों  की  बात  का  विश्वास  कर  लेते  हैं  l   अधिकांश  लोग  धन  का  लालच ,  अपनी  असीमित  कामना , वासना  के  कारण  अपना  जीवन  कठपुतली  बन  कर  ही  गुजार  देते  हैं   l  समाज  में  जाति,   धर्म  आदि  को  लेकर  झगड़े, दंगे   मनुष्य  की  इसी  कमजोरी  के  कारण  होते  हैं  l 
 अधिकांश  संस्थाओं  में   अधिकारियों  से मन - मुटाव ,  विभागीय झगड़े  इसी  कारण    उत्पन्न  होते हैं   l  एक  पक्ष   , दूसरे  पक्ष  से    उन  गलतियों  की  वजह  से   चिढ़ा  हुआ  है ,  जो   दूसरे  पक्ष  ने  कभी  की  ही  नहीं  l  स्वविवेक  न  होने  के  कारण  ही  आज  मनुष्य  ' बिकाऊ '  है  l   गरीबी , भुखमरी , दिवालिया  आदि  कारणों  से   कोई  व्यक्ति   अपना  घर - परिवार  बेच  दे ,  स्वयं  को  भी  बेच  दे  ,  तो  यह  उसकी  मज़बूरी  है   लेकिन   हर  तरह  से  संपन्न  लोग जब   अपना  स्वाभिमान  गिरवी  रखकर  , किसी  के  हाथ  की कठपुतली  बन  जाते  हैं  ,  मानसिक  गुलाम  बन  जाते  हैं   और  ऐसा  कर  के  बहुत  खुश  भी  होते  हैं ---- तो  यह  उनकी  दुर्बुद्धि  है  l
  आज  की  सबसे बड़ी  जरुरत  है  कि  बच्चों  को  शिक्षा  के  साथ  स्वाभिमान  से  जीना  सिखाया  जाये  l  भौतिक  प्रगति  ही  विकास का  मानदंड  नहीं  है  l  परिवार   और  देश  का  उत्थान   उसके  सदस्यों  के  श्रेष्ठ  चरित्र  से  होता  है   l    

Thursday, 31 January 2019

सत्य में हजार हाथियों का बल होता है , सत्य कभी पराजित नहीं होता

 इस  संसार  में  सदा  से  ही  अच्छाई  और  बुराई  में  संघर्ष  चलता  रहता  है  l  बुराई  के  पास  स्वयं  को  जीवित  रखने  का  केवल  एक  ही  तरीका  है   कि   सच्चाई  की  राह  पर  चलने  वालों  को  हर  संभव  प्रयास  कर  के  आत्महीनता  की  स्थिति  में  पटक  दे ,  जिससे  वे  तरक्की  न कर  पायें  और   बुराई  का  साम्राज्य  कायम  हो  जाये  l   इसलिए  सत्य  की  राह  पर  चलने  वालों  को  जागरूक  रहना  चाहिए ,  किसी  भी  परिस्थिति  में  अपना  आत्मविश्वास  डिगने  न  दे  l  आत्मविश्वास  ही  ईश्वर  विश्वास  है  l  अंधकार  कितना  भी   क्यों  न  हो  , सुबह  अवश्य  होती  है  l