Tuesday, 15 August 2017

जागरूकता जरुरी है

    लोगों  को  अपना  गुलाम  बनाना ,  उनका  शोषण  करना ,   अन्याय , अत्याचार  करना ,  नारी  जाति  को  उत्पीड़ित  करना  ----- यह  हर  उस  व्यक्ति  की  प्रवृति  है  जिसके  पास  थोड़ी  भी  ताकत  है  l    यदि   दंड  का  भय  न  हो  तो   समाज  में  कायरता  बढ़  जाती  है   l  समाज  में  सारे  उत्पीड़न  का  दायित्व  कायर  लोगों  पर  है  ,  कायरता  इस  समाज  का  सबसे  बड़ा  कलंक  है  l  इसी  वजह  से  हम  सदियों  तक  गुलाम  रहे  l  राजनैतिक  रूप  से  चाहे  हम  आजाद  हो  गए  हों  ,  पर  शोषण , अत्याचार , अन्याय  समाप्त  नहीं  हुआ  l  अत्याचारी  के  चेहरे  बदल  गए  ,  नये  कलाकार  आ  गये  l
  सही  मायने  में  हम  तभी  आजाद  होंगे  जब  लोगों  की  दुष्प्रवृत्तियों  पर  अंकुश  होगा  l    दुष्प्रवृत्तियों  का  अंधकार  बहुत  सघन  है  ,  जनता  अपना  रोल -माँडल  किसे  चुने   ?

Friday, 11 August 2017

ऐसी शिक्षण संस्थाएं खुलें जो लोगों को जीना सिखाएं

  आज  की  सबसे  बड़ी  समस्या  है  कि  लोगों  को  जीना  नहीं  आता   l     गरीब   के  जीवन  में  विभिन्न  परेशानी  आती  हैं  तो  अपनी  गरीबी  के  साथ  वह  उन्हें  भी  झेल  लेता  है   और  अपने   सीमित  साधनों  में  तीज - त्योहार  आदि  अवसर  पर  अपने  परिवार  और  अपने  समाज  के  साथ  खुशियाँ  भी  मना  लेता  है  l  कष्ट  कठिनाइयों  में  रहने  से  उसकी  संघर्ष  क्षमता  विकसित  हो  जाती  है  l
  लेकिन  जो  लोग   सुख - सुविधाओं  में  रहते हैं ,  आरामतलबी  का  जीवन  जीते  हैं  ,  उनकी   श्रम  करने  की  आदत  नहीं   होती    l  थोड़ी  सी  परेशानी  भी  उन्हें  विचलित  कर  देती  है   l
  शिक्षा  ऐसी  हो  जो  व्यक्ति  को  श्रम  करना ,  कर्तव्य  पालन  करना ,  ईमानदारी  और  सच्चाई  से  रहना  सिखाये  l    लोग  थोडा  सा  धन - वैभव  और  किताबी  ज्ञान  होने  से  अहंकारी  हो  जाते  है  ,  उनके  पैर  जमीन  पर  नहीं  पड़ते   l  ऐसे  लोगों  का  अहंकार  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  घातक  हो  जाता  है  l
  नम्रता ,  करुणा ,  संवेदना ,  परोपकार   जैसी  भावनाएं   जब  जीवन  की  शुरुआत  से  ही  बच्चों  को  सिखाई  जाएँगी   तभी  एक  स्वस्थ , सुन्दर समाज  होगा  l   इन  भावनाओं  के   अभाव  में  व्यक्ति  निर्दयी  हो  जाता  है  l 

Tuesday, 8 August 2017

आचरण से शिक्षा दें -----

  प्रवचनों  का  , उपदेशों  का  लोगों  पर  कोई  विशेष  प्रभाव  तब  तक  नहीं  पड़ता   जब  तक     उपदेश  देने  वाला  स्वयं  उन  बातों  को  अपने  आचरण  में  नहीं   उतारता  l  जब  कोई  व्यक्ति  स्वयं  श्रेष्ठ  आचरण  करता  है  और  फिर  वैसा  ही  श्रेष्ठ  आचरण  करने  का  लोगों  को  उपदेश  देता  है  तो  उसकी  वाणी  में  प्राण  आ  जाते  है  और  उसकी  कही  हुई  बात  श्रोताओं  के  ह्रदय  में    उतर  जाती  है  और  वे  उसकी  बताई  राह  पर  चलने  लगते  हैं  l  ऐसे  लोग  आज  बहुत  कम  हैं   l    धन  की  चकाचौंध  ने  व्यक्ति  को  दोरंगा  बना  दिया  l  परदे  के  सामने  कुछ  है  और  परदे  के  पीछे  कुछ  और  है   l  चाहे  पारिवारिक  जीवन  हो ,  सामाजिक  या  राजनीतिक,    यह  खोखलापन  सब  जगह  है   l  बूढ़े  होते  लोग  भी   अपनी  कामना ,  वासना ,  लोभ ,  लालच  का  त्याग  नहीं  कर  पाते  ,   तो  वे  समाज  को  क्या  शिक्षा  देंगे  ?  कौन  सा  आदर्श  प्रस्तुत  करेंगे  ?    प्रकृति  ने  ऐसी  व्यवस्था  की  है  कि    मृत्यु  होने  पर  कोई  अपने  साथ  कुछ  नहीं  ले  जा  सकता ,  अन्यथा  आज  का  मनुष्य   सारा  धन - वैभव   अपने  साथ  बाँध  कर  ले  जाता  l 

Wednesday, 2 August 2017

अति स्वार्थ के कारण व्यक्ति नीचे गिरता चला जाता है

   मनुष्य  पर  स्वार्थ  हावी  हो  जाता  है ,  कहते  हैं  मनुष्य    स्वार्थ  में  अन्धा  हो  जाता  है  l  ऐसा  व्यक्ति  किसी  भी  स्तर  तक  नीचे  गिर  सकता  है  l   जिन्दगी  में  जब  ऐसे  व्यक्तियों  से  सामना  हो   तब  हमें  अपना  आत्मविश्वास    बनाये  रखना  चाहिए  l    लोग  क्या  कहते  हैं , समाज  क्या  कहता  है  ?  यह  सब  सोचकर  अपने  मन  को  नहीं  गिरने  देना  हैअ  सही  है    l  यदि  हमारे  जीवन  की   दिशा  सही  है   तो  रास्ते  की  सभी  बाधाएं  हट  जाएँगी ,        '  जीत  हमेशा  सत्य  की  होती  है  l '

Monday, 31 July 2017

धन का लालच और असीमित इच्छाओं के कारण वीरता और स्वाभिमान जैसे गुण लुप्त हो रहे हैं

अति  महत्वाकांक्षा  और  बढ़ती  हुई  तृष्णा  ने  मनुष्य  की  कायरता  में  वृद्धि  की  है  l  अपने  से  कमजोर को  संरक्षण  देने  के  बजाय  व्यक्ति  उसे  लूटने  में ,  उसे  गलत  दिशा  दिखाने  में  तत्पर  रहता  है  ताकि  वे  समर्थ  होकर  उसकी  बराबरी  में  न  आ  जाये  l  ' स्वाभिमान '  जैसा   गुण  जिससे   व्यक्ति  और  समाज  गर्व  से  सिर  उठाकर  रहते  हैं  ,  मिलना  बड़ा  मुश्किल  हो  गया  है  l  लोगों  का  दोहरा  व्यक्तित्व  है  l  बढ़ती  हुई  कामनाओं  और  वासना  की  पूर्ति  के  लिए  लोग  अपनी  आत्मा  को  बेच  देते  हैं  l  ऐसे  ही  लोग  समाज  में  अपने  अस्तित्व  को  बनाये  रखने  के  लिए  अत्याचार  और  अन्याय  का  सहारा  लेते  हैं  ,  इस  वजह  से  समाज  में  अशान्ति  बढ़ती  है  l 

Monday, 24 July 2017

अत्याचारी को पहचानना कठिन है

 एक  जमाना  था  -- जब  डाकू   होते  थे  ,  पहले  से  ही  घोषणा  कर  के  डाके  डालने  आया  करते  थे  l  उनका  भी  ईमान  था , धर्म  था ,  देवी  के  भक्त  थे    और  समाज  से  बाहर  बीहड़ों  में  रहते  थे  l  लेकिन  अब   भ्रष्टाचार   के  युग   ने  सब  पर  लीपापोती  कर  दी   l  अब  तो  अपराधी  शराफत  का  नकाब  पहन  कर  समाज  में  सब  के  साथ  हिल -मिल  कर  रहता  है  l  विज्ञान  के  युग  में  लोगों  के  पास  दूसरों  का  शोषण  करने  के  बहुत  हथकंडे  हैं  l  थोड़े  बहुत  अपराध  तो  हर  युग  में  होते  रहे  हैं ,  लेकिन  तब  लोग  अपराधियों  को  , गुंडों  को  अपने  समाज  , अपनी  जाति  से  बहिष्कृत  कर  देते  थे   l  आज  की  स्थिति  में  यदि  किसी  तरह  अपराधी  पकड़  भी  जाये   तो  सबूत , गवाह ----- आदि  लम्बी  प्रक्रिया  से  वर्षों  खुला  घूमता  है  और  अपने  जैसे  अनेक  अपराधी  तैयार  करता  है   l   आज  समाज  की  अधिकांश  समस्याएं   बुद्धि  भ्रष्ट  होने  से ,  सद्बुद्धि  की  कमी  से  उत्पन्न  हुई  हैं   l  स्वतंत्रता  से पूर्व  ,  देश  की  आजादी  के  लिए  लोगों  को  जागरूक  करने  के  लिए   जो    देशभक्त   भाषण  देते , लेख  लिखते ,  अपनी  जान  जोखिम  में  डालते  उन्हें  अति  कठोर  जेल , काले  पानी  की  सजा ,  असहनीय  कष्ट  दिया  जाता  था    लेकिन   अब   मासूम  बच्चियों  से  बलात्कार  करने  वाले ,  छोटे  बच्चों  का  अपहरण  कर   उन्हें  सताने  वाले ,  बड़े - बड़े  अपराध  करने  वाले   समाज  में   खुले  घूमते  हैं  l    आज  जरुरत  है  -- ऐसे  लोगों  की  जिनके  पास  सद्बुद्धि  हो , विवेक  हो   जो  जाति  व  धर्म  के  आधार  पर  लोगों  को  न  बांटे  l  ऐसा  भेद  हो  जिसमे  एक   ओर  ईमानदार,  सच्चे  और  नेक  दिल  वाले  लोग  हों   और  दूसरी  तरफ  समाज  को  अंधकार  में  ले  जाने  वाले   अपराधी ,  अत्याचारी , अन्यायी  हों   l  इस  अंधकार  तरफ  के  लोगों  को  कठोर  सजा  भी  हो  और  सुधरने  का   प्रयास  भी  हो  तभी  एक  सुन्दर  समाज  का  निर्माण  हो  सकता  है  l 

Saturday, 22 July 2017

अशान्ति इसलिए है क्योंकि लोग अत्याचार को चुपचाप सहन करते हैं

  नैतिकता और  मानवीय  मूल्यों  का  ज्ञान  न  होने  से   जो  समर्थ  हैं ,  जिनके  पास  धन  और  पद  की  ताकत  है ,  वे  अपनी  शक्ति  का  सदुपयोग  नहीं  करते  l  अपने  अहंकार  में  ,  शक्ति  के  मद  में  वे  कमजोर  पर  अत्याचार  करते  हैं  l  कहते  हैं  अत्याचार  में  भी  एक  नशा  होता  है  ,  यदि  अत्याचार  को  सहन  किया  जाये  तो  वह  धीरे - धीरे  बढ़ता  जाता  है ,  संगठित  हो  जाता  है   और  अपने  विरुद्ध  उठने  वाली  हर  आवाज  को  बंद  कर  देता  है  l
  समस्या  इसलिए  बढ़ती  जाती  है  --- यदि  छोटे बच्चे - बच्चियों  पर अत्याचार हुआ ,  उन्हें  तरह -तरह  से  सताया  गया ,  तो  वे  बेचारे  छोटे  हैं , ऐसे  आतताइयों  का  मुकाबला  कैसे  करेंगे  ? समाज  के  गरीब , कमजोर  लोगों   का  शोषण  हो , विभिन्न  संस्थाओं  में  उत्पीड़न  हो   तो  अकेला  उत्पीड़ित  व्यक्ति    कैसे   मुकाबला  करे  ?   सबसे  बड़ी  गलती  समाज  के  उस  वर्ग  की  है    जो  धन  के  लालच में ,  कुछ  सुविधाओं  के  लिए   और  सबसे  बढ़कर  अपने  चेहरे  पर  जो  शराफत  का  नकाब   है  उसे  बचाने  के  लिए  वे  अत्याचारियों  का  साथ  देते  हैं ,   उनकी  मदद  करते   हैं  , उनका  साथ  दे  कर  उन्हें  मजबूत  बनाते  हैं  l
  आज    अच्छाई  को  ,  सत्य  को  संगठित  होने  की  जरुरत  है   l   यश  प्राप्त  करने  की  कामना  को  त्याग  कर   जब  सुख-शांतिपूर्ण  समाज  व्यवस्था  की  चाह  रखने  वाले  लोग  संगठित  होंगे ,  जियो  और  जीने  दो ,    हम  सब  एक  माला  के  मोती  हैं --- इस  विचारधारा  के  लोग  संगठित  होंगे ,  अत्याचार  के  विरुद्ध  तुरन्त  संगठित  होकर  खड़े  होंगे    तभी  समाज  से  नशा , जीव हत्या ,  अत्याचार - अन्याय    समाप्त  हो  सकेगा   l