Friday, 23 June 2017

सुख - साधनों ने व्यक्ति को आलसी बना दिया

   विकास  के  लिए  वैज्ञानिक  आविष्कार  जरुरी  हैं   लेकिन  इन  आविष्कारों  में  जो   शरीर  को  आराम  देने  वाले  हैं  उनके  अधिक  उपयोग  से  मनुष्य  आलसी  हो  गया  है  l  शारीरिक  श्रम  न  करने  से  अनेक  बीमारियाँ  घेरती  हैं  l  घर  हो ,  ऑफिस हो  या  कोई  कम्पनी  हो   , तकनीकी  सुविधाओं  से  जब  लोग  अपना  काम  जल्दी  कर  के  फालतू  हो  जाते  हैं   तो  उनका  समय  व्यर्थ  की  बातों  में ,  नकारात्मक  कार्यों  में  बीतता  है  l कहा  भी  जाता  है --' खाली  मन  शैतान  का  घर  l '    इसलिए  लोगों  को  स्वयं  जागरूक  होना  पड़ेगा  कि  वे  अपने  फालतू  समय   में   व्यर्थ  की   बातों  में  अपनी  ऊर्जा  न  गंवाकर  ,  कुछ  समय  मौन  रहकर  श्रेष्ठ  चिंतन  करें  l  कोई  सकारात्मक  कार्य  करें ,  सत्साहित्य  पढ़ने  की  व्यवस्था  हो  l  ऐसा  होने  से  लोगों  का  मन  शांत  रहेगा ,  इससे  धीरे - धीरे  परिवार  और  समाज  में  भी  शांति  रहेगी  

Wednesday, 21 June 2017

तन के साथ मन का स्वस्थ होना भी जरुरी है

 मनुष्य  के  सारे  प्रयास  शरीर  को  स्वस्थ  रखने  के  लिए  होते  हैं  ,  मन  को  स्वस्थ  और   परिष्कृत  करने  का  कोई  प्रयास  मनुष्य  नहीं  करता   l    काम , क्रोध , लोभ   , ईर्ष्या, द्वेष, स्वार्थ    जिसके  मन  में  है  वह  न  तो  खुद  शान्ति  से  रहता  है   और  न  और  किसी  को  शान्ति  से  जीने  देता  है  l  एक  व्यक्ति  जो  क्रोधी  है , अहंकारी  है  , तो  उसका  यह  दुर्गुण  परिवार , समाज  सब  जगह  अशान्ति  उत्पन्न  करता  है  l  जिसे  सिगरेट   आदि  नशे  की  लत  है  वह  समाज  में  कोई  सकारात्मक  योगदान  नहीं  देते  वरन  अपने  जैसे  पचास  और  नशेड़ी  तैयार  कर  लेते  हैं   l  इसी  प्रकार  जो  लोभी  है  , लालची  है   वह  अपने  साथ  बेईमानों  की  पूरी  श्रंखला  तैयार  कर  लेता  है  l  ऐसे  दुष्प्रवृत्तियों  वाले  लोगों  की  अधिकता  से  ही  दंगे , अपराध , लूटमार   होते  हैं   l   आज  जरुरत  है  कि  पूरी  दुनिया  में  ऐसी  संस्थाएं  हों  जो  लोगों  को  ईमानदारी , सच्चाई , संवेदना , ईश्वरविश्वास  , धैर्य , कर्तव्यपालन  जैसे  सद्गुण सिखाएं और   क्रोध ,  लालच , ईर्ष्या-द्वेष  जैसे  दुर्गुणों  को  त्यागना ,  आदि    की  शिक्षा  देकर  ' नैतिकता ' में  बड़ी -बड़ी  डिग्री  दें    l   इन  सब  के  साथ   जरुरी  है   लोग  आलस  को  त्यागे ,  कर्मयोगी  बने  l 

Tuesday, 20 June 2017

आत्मविश्वास जरुरी है

   जीवन  में  सफलता  के  लिए  आत्मविश्वास  जरुरी  है  l  अनेक  लोग  ऐसे  होते  हैं  जो  संघर्ष  कर के  जीवन  में  आगे  बढ़ते  हैं ,  सफल  भी  होते  हैं लेकिन  आत्मविश्वास  की  कमी  के  कारण वे  हमेशा  अपने  से  पद  व धन -सम्पन्नता  में  बड़े  व्यक्ति  की  चापलूसी  करते  रहते  हैं ,  उनके  सब  कार्य  उस  व्यक्ति  को  खुश  करने  के  लिए  होते  हैं   l इसलिए  उनसे  कोई  लोक कल्याण नहीं  हो  पाता  l   अति  चापलूसी  से  व्यक्तित्व  भी  प्रभावशाली  नहीं  रह  जाता  l  सर्वप्रथम  हमें  अपनी  योग्यता  पर  विश्वास  होना  चाहिए ,  अहंकार  नहीं  l   हमारा  प्रत्येक  कार्य  किसी  व्यक्ति विशेष  को  खुश  करने  के  लिए  नहीं ,  ईश्वर  को  प्रसन्न  करने  के  लिए  होना  चाहिए  l  ईश्वर  को  प्रसन्न  करने  के  लिए  जब  ईमानदारी , सच्चाई और  मनोयोग  से  जब  हम  कोई  छोटा  सा  काम  भी  करते  हैं  तो  वह  पूजा  बन  जाता  है   जिससे  आगे  सफलता  के  रास्ते  खुलते  जाते  हैं  l 

Monday, 19 June 2017

शांति कैसे हो ? जब लोग स्वयं को सुधारना ही नहीं चाहते

  संसार  में  अच्छे  लोग  भी  हैं   लेकिन  उनकी  संख्या  कम  है  और   वे  बिखरे  हुए  हैं   l  अधिकांश  लोग  अहंकारी  हैं  ,  जो  सिर्फ  अपनी  हुकूमत चलाना  चाहते  हैं   जिन्हें  लोगों  के  हित  से  कोई  मतलब  नहीं  है  ,  केवल  उनका  स्वार्थ  पूरा  होना  चाहिए  l   ऐसे  लोग  बदलना  नहीं  चाहते  l  अहंकार  की  वजह  से  स्वयं  को  गलत  समझते  ही  नहीं  हैं  तो   सुधार    कैसे  हो  ?  जब  अच्छाई  संगठित  हो  उसका  प्रभाव  जन -मानस  पर  पड़े  तभी  शांति  संभव  है   l 

Friday, 16 June 2017

सुख शान्ति से जीने के लिए हमें आध्यात्मिक होना होगा l

  अध्यात्म  का  अर्थ -  जीवन  से  भागना  नहीं  है , संन्यासी बनना  नहीं  है l   अध्यात्म  का  अर्थ है -- अपने  अवगुणों  को  पहचानकर  उन्हें  दूर  करना , सद्गुणों  को  अपनाना , कार्य  को  कुशलता  से  करना l  कुशलता  का  मतलब  चालाकी  नहीं  l   कर्तव्य  पालन  ईमानदारी  से  हो  तो  संसार  की  अधिकांश  समस्याएं  हल  हो  जाएँ  l  योग  की  विभिन्न  क्रियाओं  से  लाभ  प्राप्त  करने  के  लिए  मन  का  परिष्कार  जरुरी  है   l
  यदि  मन  में  छल - कपट , ईर्ष्या-द्वेष  है ,  हमारा  मन  दूसरों  को  धोखा देने , उन्हें नीचा  दिखाने,  उनका हक  छीनने  में  लगा  है   तो  सारी  बाहरी  क्रियाएं  व्यर्थ  हैं  l  तरह  तरह  के  आसन  कर के  भी  चेहरा मलिन  रहेगा  l आध्यात्मिक  क्षेत्र  में  कोई  प्रगति  नहीं  हो  सकेगी  l  मन  का  परिष्कार  ही  अध्यात्म  है  l 

Wednesday, 14 June 2017

सुख शान्ति से जीने के लिए संवेदना की जरुरत है

संवेदना  न  होने  से   परिवार  टूट  रहे  हैं  , अत्याचार  और  अन्याय  बढ़ा  है  l  पहले  छोटी - छोटी  रियासते  थीं ,  तो  यह  स्पष्ट  था  कि  वहीँ  के  शक्तिशाली  कमजोर  पर  अत्याचार  कर  रहे  हैं   l  अब  वैश्विकरण  का   युग  है  ,  बाजार  की  तरह  अत्याचार , अन्याय , भ्रष्टाचार  और  अपराध ---- यह  सब  भी  वैश्विक  स्तर  पर  है  l    आज  इंटरनेट  के  युग  में  यह  समझना  बहुत  कठिन  है   कि  सामने  जो  अपराध  या  अत्याचार  कर  रहा  है     उसकी  डोर  किस  के  हाथ  में  है ,  अपनी  कमजोरियों  के  कारण  वह  किसके  इशारों  पर  काम  कर  रहा  है  l   आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  --हम  अपना  आत्मिक  बल  बढ़ाएं   l  नि:स्वार्थ  भाव  से ,  ईमानदारी  से   कर्तव्य  पालन   करना   ही  एक  तपस्या  है  l  ऐसा  कर  के   शान्ति     से  रहा   जा      सकता  है    है   

संसार में सुख - शांति के लिए जीवन में नैतिक मूल्यों की स्थापना अनिवार्य है

   नारी  और  पुरुष  एक  ही  गाड़ी   के  दो  पहिये  हैं  ,  एक  पहिया  अच्छा  हो  और  दूसरा  पंक्चर  हो  तो  गाड़ी  नहीं  चलेगी  l  इसी  तरह  नारी  और  पुरुष  में  से  एक  वर्ग  सन्मार्ग  पर  चले  और  दूसरा  स्वेच्छाचारी  हो  तो  समाज  का  सही  ढंग  से  विकास  नहीं  हो  सकता  l   सबसे  बड़ी  जरुरत  यही  है   कि  नारी  और  पुरुष  दोनों  ही    सद्गुणों को  अपने    जीवन  में अपनाएं  तभी  वे  आने  वाली   पीढ़ी  को  सही  दिशा  दे  सकेंगे  l