Friday, 23 December 2016

अशान्ति का कारण है दूसरों को अपमानित करना

    संसार  में  अमीर - गरीब ,  ऊँच - नीच ,  कमजोर  - शक्तिसंपन्न  ,  मालिक - नौकर  के  बीच  जो  अन्तर  है ,  वह  इतना  दुःखद  नहीं  है  ।  समाज  में  अशान्ति  और  असंतोष  उत्पन्न  होने  का  बहुत  बड़ा  कारण  है  कि ---- जो  लोग  धनवान  हैं ,  शक्ति संपन्न  हैं  ,  उनमे   अहंकार  होता  है    और  इस  अहंकार  की  तृप्ति  न  होने  के  कारण  वे    लोगों  की  खिल्ली   उड़ा  कर ,  उनका  तिरस्कार  कर   अपने  को    बहुत  बड़ा   और  हर  तरह  से  योग्य  सिद्ध  करने  की  कोशिश  करते  हैं   ।
     कई  लोग  अपमान  व  तिरस्कार  सहन  कर  उसे  अपनी  ताकत  बना  लेते  हैं  और  उन्नति  के  शिखर  पर  आगे  बढ़ते  जाते  हैं   ।   निरन्तर  अपमान  व  तिरस्कार  सहने  वाले  को   यदि  कहीं  अपनापन  और  सम्मान  मिले  तो  उसका  झुकाव  उस   ओर   हो  जाता  है   ।    यदि  अपनापन  और  सम्मान  देने  वाला  चालाक  है ,   ऐसे  कार्यों  में  संलग्न  है   जिससे  समाज  में  अत्याचार  बढ़ता  है  ,  तो  वह  उनकी  कमजोरी  का  फायदा  उठाकर  उनकी  प्रतिभा  का  उपयोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए  करने  लगते  हैं   ।  यह  स्थिति  समाज  के  लिए  घातक  होती  है   ।
   महाभारत  का   एक  पात्र  है ---- कर्ण --- ये  महादानी  था ,  बहुत  पराक्रमी  था  ,  भगवान  कृष्ण  स्वयं  उसकी  प्रशंसा  करते  थे    लेकिन  समाज  ने  पग - पग  पर    उसका  तिरस्कार  किया  ' सूत - पुत्र '  कहकर  उसकी  खिल्ली  उड़ाई  ।     दुर्योधन  ने जो   अत्याचारी  और  अन्यायी  तो  था  लेकिन   चालाक  भी  था  ,  उसने  कर्ण  को  सहारा  दिया ,   भरी  सभा  में  उसका  तिलक  कर  उसे  अंगदेश  का  राजा  बना  दिया    जिससे  कर्ण  जैसा  वीर  और  दानी  उसकी  मित्रता  का  ऋणी  हो  गया  ।
  कर्ण  को  जब  यह  ज्ञात  भी  हो  गया  कि  वह  सूर्य पुत्र  है ,  महारानी  कुन्ती  उसकी  माँ  हैं ,  तब  भी  उसने   दुर्योधन  का  साथ  नहीं  छोड़ा   और  आखिरी  सांस  तक   अर्जुन  के  विरुद्ध  युद्ध  कर  दुर्योधन  की  मित्रता  का  कर्ज  चुकाया   ।
    आज  समाज  को  जागरूक  होने  की  जरुरत  है  ,  कोई  अत्याचारी ,  अन्यायी  हमारी  कमजोरी  का  फायदा  न  उठा  ले  ।    अपने  मन  को  मजबूत  बनायें ,   और   ईश्वर   से  प्रार्थना  कर  जीवन  का  सही  मार्ग  चुने  । 

Thursday, 22 December 2016

प्रतिभा का सदुपयोग हो

  संसार  में  एक  से  बढ़  कर  एक  प्रतिभाशाली  व्यक्ति  हैं  ,  अनेक  ऐसे  व्यक्ति  हैं   जो  ईमानदार  और  कर्तव्य निष्ठ  हैं  ,  परिश्रमी  हैं    ।  लेकिन  यह  किसी  भी  समाज  का  दुर्भाग्य  है  कि  उनकी  इस  प्रतिभा  का  उपयोग  भ्रष्टाचारी  और  बेईमान  व्यक्ति  कर  लेते  हैं   ।
  इसलिए  ऐसे  लोग  कहते   हैं  कि हम  तो  इतने  ईमानदार   हैं ,  कर्तव्य  पालन  करते  हैं   फिर  भी  जीवन  विभिन्न  समस्याओं  से  ग्रस्त  है  ।    इसका  कारण  है  कि  उनके  ये  गुण  ऐसे  लोगों  को  मजबूत  बना  रहें  हैं  जो  समाज  में  अत्याचार  और  अन्याय  करते  हैं   ।   इसलिए  हमें  जागरूक  होना  चाहिए  कि  हमारे  गुणों  से  समाज  को  लाभ  हो  ,  किसी  का  अहित  न  हो  ।
  महाभारत  के  प्रसंग  हमें  जीवन  जीने   की  कला  सिखाते  हैं  ----  भीष्म पितामह   इतने  पराक्रमी  थे ,  उन्हें  इच्छा मृत्यु  का  वरदान  था  ,  गुरु  द्रोणाचार्य  के  समान  कोई   धर्नुधर  नहीं  था    लेकिन  इन  दोनों  ने  ही  सब  जानते  हुए  भी  दुर्योधन  का  साथ  दिया    जो  कि  अन्यायी  था  ,  उसने  अपने  भाइयों  का  राज्य  हड़पा  था  और  उन्हें  सताने  के  लिए  षड्यंत्र  रचता  था   ।  इस  कारण  इतने  पराक्रमी  होते  हुए  भी  गुरु  द्रोणाचार्य  और  भीष्म  पितामह    दोनों  का  पतन  हुआ   । 

Wednesday, 21 December 2016

अशान्ति का कारण है ------ जागरूकता की कमी

     संसार  में  अत्याचार  और  अन्याय  इसलिए  बढ़  रहा  है   क्योंकि  लोगों  में  जागरूकता  की  कमी  है  ,  अनेक  पढ़े - लिखे  लोग  भी   अपने  ऊपर  हो  रहे  अत्याचार  को  अपना  दुर्भाग्य  समझ  कर  स्वीकार  कर  लेते  हैं  ,  चतुराई  से  उसका  सामना  नहीं  करते  इसलिए  अत्याचारियों  के  हौसले  बुलंद  होते  जाते  हैं  |
  अनेक  लोग  अपने  स्वार्थ   और  लालच  की  वजह  से  अत्याचारियों  का  साथ  देते  हैं ,  इस  कारण  ऐसे  लोगों  की  संख्या  बढ़ती  जाती  है  |
  आज  के  युग  की  सबसे  बढ़ी  जरुरत  है  -- कर्मयोगी  बने   |   संसार  और  अध्यात्म  के  सुन्दर  समन्वय  से  ही  समस्याओं  पर  विजय  पा  सकते  हैं    और  इस  अशांत  संसार  में  शान्ति  से  रह  सकते  हैं   |

Saturday, 17 December 2016

लालच ----- अशान्ति का कारण है

   लालच    की  वजह  से   व्यक्ति  की  बुद्धि  भ्रमित  हो  जाती  है  |  धन ,  पद ,  कामना ,  वासना   इन  में  यदि  कोई  नियंत्रण  न  हो  तो  व्यक्ति  का  लालच  और  असंतोष  इतना  बढ़  जाता  है  कि  वह  अत्याचारी  हो  जाता  है  ,  लोगों  पर  तो  अत्याचार  करता  ही  है    साथ  ही  अपना  नाश  भी  करता  है   ।
         इसलिए  अत्याचार ,  अन्याय  के  विरुद्ध    संगठित  रूप  से  खड़े  होना   अनिवार्य  है  अन्यथा   उसका  यह  नशा  बढ़ता  जाता  है   और   अन्य   लोग  भी  अपने  अपने  क्षेत्र  में   शोषण  व  अत्याचार  करने  लगते  हैं   । 

Friday, 16 December 2016

दण्ड का भय न होने से समाज में अपराध बढ़ते हैं

       कहते  हैं  जिस  बात  की  ज्यादा  चर्चा  करो  वह  बात  बढ़ती  जाती  है   ।  विभिन्न  समाचारों  में  देश - दुनिया  में  महिलाओं  के  प्रति ,  छोटी  बच्चियों  के  प्रति  जो  अपराध  होते  हैं ,  उसे  बड़े  विस्तार  से  बताया  जाता  है    ।  लेकिन  ऐसे  जघन्य  अपराध  करने  वालों  को  क्या   दंड  मिला  -- प्रकृति  से ,  समाज  से ,  कानून  से  क्या  दण्ड  मिला  ,  इसका  ऐसा  वर्णन  नहीं  मिलता   कि  ऐसी  अपराधी  प्रवृति  के  लोगों  के  दिल  में   ऐसा  भय  समा  जाये  कि  अपराध  करने  के  लिए     कदम  ही  न  उठें  ।
     श्रेष्ठता  की  राह  पर  चलना  बड़ा  कठिन  है ,  लेकिन  पतन  की  राह  सरल  होती  है  ,  पानी  बड़ी  तेजी  से  नीचे  की  और  गिरता  है   ।    दण्ड ,  सामाजिक  बहिष्कार    जैसा  कोई  भय  ही  न  हो   तो    पाशविक  प्रवृति  ,  चरित्र  की  गिरावट    की  कोई  सीमा  नहीं  रह  जाती  ।
  चरित्रहीनता   भी  एक  संक्रामक  रोग  की  तरह  है     जो  अमीर - गरीब ,  ऊँच - नीच ,   बूढ़े ,  जवान ,  बच्चे  हर  किसी  को  अपनी  गिरफ्त  में  ले  लेती  है    ।  परिवार  टूटते  हैं ,  सामाजिक  जीवन  भी  दिखावे  और  स्वार्थ  का  हो  जाता  है   ।   श्रेष्ठ  चरित्र  से  ही    संस्कृति   की  रक्षा  संभव  है  । 

Thursday, 15 December 2016

सुख - शांतिपूर्ण समाज के लिए एक मजबूत आधार की जरुरत है

  केवल  धन ,  पद  और  भौतिक  सुख सुविधाएँ  होने  से  जीवन  में  सुख  नहीं  आता   ।  महत्वपूर्ण  बात  ये  है  कि  जिन   कारणों  से  परिवार  और  समाज  में  अशांति  और  अपराध  होते  हैं  उन्हें  सख्ती  से  दूर  किया  जाये    जैसे ---- नशे  से  अनेकों  परिवार  चौपट  हो  रहे  हैं  ,   नशा  करने  वाले  चाहे  अमीर  हों  या   मजदूर  हों   या  उच्च  पदों  पर  कार्य  करने  वाले  हों  --- यदि  उन्हें  नशे  की  आदत  है    तो  वे  देश  के  विकास  में  ,  एक   सुन्दर  समाज  के  निर्माण  में  कोई  योगदान  नहीं  दे  सकते  ,  उनके  दिमाग  में  हरदम  नशा  ही  घूमेगा   ।   इस लिए  नशे  पर  नियंत्रण   जरुरी    है   ।
  इसी  तरह    जो  लोग  अश्लील  फ़िल्में  देखते  हैं ,  निम्न  स्तर  का  साहित्य  पढ़ते  हैं   वे  भी  कभी  कोई  सकारात्मक  कार्य  नहीं  कर  सकते  ,  यह  प्रवृति  ही  समाज  में  अपराध  को  जन्म  देती  है  ,  चरित्र  की  इस  कमजोरी  की  वजह  से  ही  परिवारों  में  कलह  होती  है ,  बच्चे  राह  भटक  जाते  हैं   |
  स्वयं  के  सुधार   से  ही  एक  श्रेष्ठ  समाज  का  निर्माण  संभव  है  l 

Wednesday, 14 December 2016

आज की सबसे बड़ी जरुरत है ----- विवेक जाग्रत हो

       यह  दुर्बुद्धि  है  कि  मनुष्य  स्वयं  अपना  अहित  कर  रहा  है-----  समाज  में  अश्लीलता  और  महिलाओं   के  प्रति     अपराध  बढ़ते  जा  रहे  हैं   ,  इससे  नारी  जाति   तो   कष्ट  व  उत्पीड़न   सहन  कर  रही  है   ,   इस  के  प्रभाव  से  पुरुष  वर्ग  भी  अछूता  नहीं  रहेगा  ।     मन  को  कुमार्गगामी  बनाने  वाले  सब  साधन  समाज  में  मौजूद  हैं  ,  ऐसे  में  कहीं  चरित्र  हनन  की  घटनाएँ  होती  हैं    तो  कहीं   मन  पर  नियंत्रण  न  रख  पाने  के  कारण  व्यक्ति  स्वयं  पथभ्रष्ट  हो  जाता  है   ।   पुरुष  के  अहं  को  सबसे  ज्यादा  ठेस  तब  पहुँचती  है  जब  वह  अपने  ही  परिवार  में   मर्यादाहीन  आचरण  देखता  है   ।
  श्रेष्ठ  चरित्र  से  ही    सुखी  व  शांतिपूर्ण  परिवार  व  समाज  का  निर्माण   हो    सकता  है   । 

Tuesday, 13 December 2016

अशान्ति की एक वजह है ----- चापलूसों पर निर्भर रहना

   कोई  छोटी  से  छोटी  संस्था  हो  या  बड़ी  से  बड़ी  संस्था  और  संगठन  हो     ,  उनमे  अनेक  लोग  अपने  अधिकारी  को  खुश  रखने  के  लिए  उसकी  चापलूसी  करने  लगते  हैं  ,  उसकी  हाँ  में  हाँ   मिलाते    हैं  उसे  खुश  रखने  के  लिए  उसके  गलत  कार्यों  की  भी  तारीफ  करते  हैं   |   गलती  को  न  सुधारने  से    वह  धीरे - धीरे  बढ़ती  जाती  है  ,  ऐसे  व्यक्ति  फिर  अनेक  क्षेत्रों  में  गलतियाँ   करते  हैं  ,  इन  गलतियों  से  जो  व्यक्ति  प्रभावित  होते  हैं   वे  अशांत  और  परेशान  होते  हैं  ।
     आज  के  समय   में    चापलूसों  का  साम्राज्य  इतना  बढ़  गया  है  कि  वे  अपनी  संस्था  या  संगठन  के  कार्यों  और  निर्णय   में  भी  दखल  देते  हैं  ।  अब  क्योंकि  लोगों  के ह्रदय  में  संवेदना  नहीं  है  ,   अधिकांश  व्यक्ति   ऐसे  हैं  जो  अपना   स्वार्थ  तो  पूरा  करना  चाहते  हैं    लेकिन  इसके  साथ  वो  चाहते  हैं  कि  दूसरे  का  नुकसान  हो  ,  दूसरा  व्यक्ति  चैन  से  न  रह  पाये  ।  ऐसी    मानसिकता  से  ही   समाज  में   असंतोष  व  अशान्ति  बढ़ती  है    ।
  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  लोगों  के  ह्रदय   में  संवेदना  हो  ,  विचारों  में  शुद्धता  हो   । 

Monday, 12 December 2016

संसार में अशांति का कारण है ----- लोग अपराधियों से दूर नहीं , उनके संरक्षण में रहना चाहते हैं

    आज  की  सबसे  बड़ी  विडम्बना  यह  है  कि  लोग  समाज  में  अपना  वर्चस्व  बनाये  रखने  के  लिए  ,  अपने  अनैतिक  धन्धों  के  लिए   तथाकथित  ' गुंडों '  का   सहारा  लेते  हैं  ,  उनको  विभिन्न  तरीकों  से  धन  दे  कर  उनका  पोषण  करते  हैं    ।  यही ' गुंडे  '  जब  हत्या ,  अपहरण ,  बलात्कार  जैसे  जघन्य  अपराध  करते  हैं   तो  उनकी  शिकायत  करने  से  भी  हर  कोई  डरता  है ,  यदि  किसी  ने  हिम्मत  कर  के  शिकायत  कर  भी  दी    तो  अपने  '  आकाओं '  की  दम  पर  वे  छूट  जाते  हैं    और   खुलेआम  घूमते  हैं  ।  इससे  अन्य  अपराधी  प्रवृति  के  लोगों  की  हिम्मत  खुल  जाती  है   ।
    समाज  में  शान्ति  तभी  होगी   जब  लोगों  को  अच्छे - बुरे  व्यक्तियों  की  पहचान  होगी   ।  आज  लोगों  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  --- जो  भ्रष्टाचार  में  लिप्त  है ,  दूसरों  की  जमीने ,  सम्पति   हड़प  लेता  है ,  धोखाधड़ी  करता  है  ,  नशे  आदि  का  व्यापार  करता  है  ,  समाज  का  चारित्रिक  पतन  करने  में  महत्वपूर्ण  भूमिका  निभाता  है  --- ऐसे  लोगों  को  समाज  सम्मान  देता  है  ,  उनके  गलत  कार्य  भी  उनके  गुण  हैं  ।
                 जो  सच्चाई ,  ईमानदारी  का  जीवन  व्यतीत  करते  हैं  ,  परोपकार ,  सेवा  के  कार्य  करते  हैं    उन्हें  उपेक्षित  किया  जाता  है   ।  ऐसे  में  अशान्ति  तो  होगी  ही  ।  सही  और  सकारात्मक  सोच  की  जरुरत  है  । 

Sunday, 11 December 2016

बुद्धिजीवी वर्ग की उदासीनता से ही समाज में विभिन्न समस्याएं उत्पन्न होती हैं

  समाज  में  अमीर  और  गरीब  के  बीच  बहुत  गहरी  खाई  है   ।  जो  अमीर  हैं ,  जिनके  हाथ  में  ताकत  है  वे    गरीबों  का  इतना  शोषण  करते  हैं ,  उन्हें  इतना  लूटते  हैं  कि  निर्धन  व्यक्ति   केवल  रोटी - पानी  की  चिन्ता  में  मगन  रहे   ,   वो  समझ  ही  न  सके  कि  यह  अत्याचार  और  अन्याय  है  ,  शोषण  व  अत्याचार  को  वह  अपना  दुर्भाग्य  समझ  कर  स्वीकार  कर  ले  ,  इस  निर्धनता  की  वजह  से  उसमे  अत्याचार  और  अन्याय    के   खिलाफ  खड़े  होने  का  साहस  ही  न  रहे   ।
    जो  बुद्धिजीवी  वर्ग  है   उसमे  समझ  है  ।  वह   सही - गलत  को  ,  अत्याचार ,  अन्याय  को   समझता  तो  है    लेकिन  उसकी  अपनी  मानसिक  और  शारीरिक  कमजोरियां  हैं  ,  धन व  पद  का  लालच ,  कामना  और  वासना  है    ।   इन  सबकी  वजह  से  बुद्धिजीवी  वर्ग  बिक  जाता  है  ,  अपनी  आंखों  पर  पट्टी  बाँध  लेता  है    -  इसी  कारण   से  समाज  में  अपराध ,  अत्याचार ,  शोषण  बढ़ता  जाता  है  ।  
    आज  सबसे  ज्यादा  जरुरत  है ---- विवेक  की   ।   क्योंकि  ऐसे  समाज  में  शान्ति  कहीं  नहीं  होती  ,  ,  हर  व्यक्ति  परेशान  रहता  है   । 

Saturday, 10 December 2016

अशांति का कारण है ------- हीनता का भाव

     गरीबी ,  बीमारी ,  सुन्दर  न  होना ,  शारीरिक  कमी  होना ----- इन  कारणों  से  व्यक्ति  में  इतना  हीनता  का  भाव  नहीं  आता ,  जितना  कि  अपने  ईमान  को ,  अपनी  आत्मा  को  बेच  देने  से  आता  है  ।  जब  व्यक्ति  धन  के  लालच  में  किसी  के  हाथ  की  कठपुतली  बन  जाता  है   तो  कहीं  न  कहीं  उसकी  आत्मा  उसे  कचोटने  लगती  है   ।   किसी  से  धन ,  पद  या  कोई  विशेष  सुविधा  पाने  के  लिए  उसे  अपने  स्वाभिमान  को  इतना  गिरवी  रख  देना  पड़ता  है   कि  एकान्त  उसे  कचोटने  लगता  है   ।  वह  अपनी  खीज  अपने  परिवार  पर  या  अपने  से  कमजोर   पर  निकालता  है  ,  शराब  के  नशे  में  उसे  भुलाने  की  कोशिश  करता  है   ।  इससे  पारिवारिक  जीवन  में  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है   ।   ऐसे  लोगों  की  अधिकता  है  इसलिए  समाज  में  भी   अशान्ति  है  |

Friday, 9 December 2016

संसार में अशांति का कारण ईर्ष्या - द्वेष है

    जब  समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  होता  है  तब  लोगों  को  सही  बात  भी  गलत  नजर  आने  लगती  है  ,  लोग   दुराचारी  और  भ्रष्टाचारी  को   पसंद  करने  लगते  हैं   ,  जो  सच्चाई  पर  है  ईमानदार  है  वह  लोगों  की  आँखों  में  चुभने  लगता  है   |  इसका  सबसे  बड़ा  कारण  यही  है  कि     बेईमान   व्यक्ति    के  सहारे   उन्हें  भी  धन   कमाने  को  मिल   जाता  लेकिन   ईमानदार  व्यक्ति  लोगों    की  आँखों  में  चुभता  है  क्योंकि  उसकी  सहायता  से  वे  धन  नहीं  कमा  सकते  |    ईमानदार  , कर्तव्यनिष्ठ   व्यक्ति   से   कुछ  सीखने  के   बजाय   लोग  उसके  व्यक्तित्व  से   ईर्ष्या   करते  हैं  ,  उसे   मिटाने    के  लिए  षड्यंत्र  रचते  हैं    |
  दुष्ट  प्रवृति  का  व्यक्ति  न  खुद  चैन  से  रहता  है   न  दूसरों  को  चैन  से जीने  देता  है   ।  आज  समाज  में  ऐसे  लोगों  की  अधिकता  है  ,  आमने - सामने  की   लड़ाई   नहीं  होती   ।  लोग  दूसरों  की  जड़  खोदने  में  ,  अच्छाई  को  मिटाने  के  प्रयास  में     लगे  रहते  हैं   ।  इसी  कारण    अशांति  है  ।  

Thursday, 8 December 2016

जब जागो तब सवेरा

    जो  लोग  अपनी  इच्छा  से ,  अपनी  किसी  कमजोरी  के  कारण  या  किसी  मजबूरीवश  गलत  राह  पर  चल   पड़े  हैं  ,  वे  यदि  इस  सत्य  को  समझते  हैं  कि  उनकी  राह  गलत  है  ,  उनके  ह्रदय  में  इस  बुरे  मार्ग  को  छोड़ने  की  तड़प  है    तो  वापस  लौटने के    उनके   लिए  सारे  मार्ग  खुले  हैं   ।  जरुरी  है  दृढ  संकल्प  की    ।   ईश्वर   से  प्रार्थना  करनी  चाहिए  कि  वे  सन्मार्ग  पर  चलने  की  शक्ति  प्रदान  करें   ।
  सुख  शान्ति  से  जीना  है  तो  अपनी   दुष्प्रवृत्तियों  को    छोड़कर     सही  मार्ग  पर  चलना   ही  होगा   । 

Wednesday, 7 December 2016

बुराई को दूर करने के लिए जड़ पर प्रहार जरुरी है

  आज  समाज  में  नशा ,  तम्बाकू , सिगरेट ,  मांसाहार ,  अश्लील  फ़िल्में  और  साहित्य  की  भरमार  है   ।  ये  सब  बातें  मनुष्य  की  सोचने - समझने   और  निर्णय  लेने  की  क्षमता  को   समाप्त  कर  देती  है  ।  मन  चंचल  होता  है  ,  इन  सब  बुरी  आदतों  की  वजह  से  जीवन  में  सकारात्मक  कार्य  संभव  नहीं  हो  पाता  ।
       अच्छे  समाज  का  निर्माण  करना  हो  तो  इन  पहले  इन  बुराइयों  को  मिटाना  होगा   ।    जो  लोग  इन  बुराइयों  को  समाज  को  परोसते  हैं  वे  सोचते  हैं  कि  वे   और  उनका  परिवार  इससे   बच    जायेगा   लेकिन  ऐसा  संभव  नहीं  होता   ।   धन  के  लालच  में  चाहे  व्यक्ति  अनदेखा  कर  दे   लेकिन  अपनी  आँखों  के  आगे   अपने  परिवार  का   पतन  शूल  की  तरह  चुभता  है   ।
  व्यक्ति  से  मिलकर  ही  परिवार  और  समाज  व  राष्ट्र  का  निर्माण  होता  है  ,  इसलिए  अब  जरुरत  है --- जागने  की   ।  सतत  विकास   बेजान  साधनों  से  नहीं  ,  परिष्कृत  मन - मस्तिष्क  वाले  मनुष्यों  से  होता  है    जिनकी  चेतना  जाग्रत  हो ,  जिनमे  संवेदना  हो   ।  

Monday, 5 December 2016

सन्मार्ग पर चलने को किसी को विवश नहीं किया जा सकता

  लोगों  को  विभिन्न  तर्कों  से  समझाया  जा  सकता  है  कि  उनका  हित  किस  में  है  ,  लेकिन   किसी  भी  अच्छी  आदत  को  अपनाने  के  लिए  उन्हें  विवश  नहीं  किया  जा  सकता  है   ।  
  जैसे  व्यक्ति  को  मालूम  है  कि  सिगरेट  और  तम्बाकू  उसके  स्वास्थ्य  के  लिए  हानिकारक  हैं    फिर  भी  वह  उन्हें  छोड़ता  नहीं  है  ।   इसे  छोड़ने  के  सिर्फ  दो  ही  तरीके  हैं  --- सिगरेट  और  तम्बाकू  का  व्यवसाय  करने  वालों  की  चेतना  इतनी  विकसित  हो  जाये  कि  वे  इस  व्यवसाय  को  ही  छोड़  दें , बाजार  में  सिगरेट  व  तम्बाकू  मिलना  ही  बंद  हो  जाये   ।
  दूसरा  तरीका  है  कि   इनका  सेवन  करने  वालों  को  समझ  आ  जाये  कि  अपने  अमूल्य  शरीर  को  नष्ट  करने  से  कोई  फायदा  नहीं ,  शरीर  के  स्वस्थ  रहने  पर  ही  संसार  के  सारे  सुख  प्राप्त  हो  सकते  हैं  ।
        नशा  कोई  भी  हो ---  जब  वह  सिर  पर  सवार  हो  जाता  है   तो  व्यक्ति  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है    और  इस  एक  बुराई  से  न  केवल  उसका  पतन  होता  है  अपितु  सम्पूर्ण  समाज  पर  उसका  दुष्प्रभाव  पड़ता  है  ---- अपनी  गलत  आदतों  को  संतुष्ट  करने  के  लिए   वह  गलत  तरीके  से  धन  कमाता  है ,  दूसरों  का  हक  छीनता  है ,  भ्रष्टाचार  में  संलग्न  होता  है ,  अनेक  व्यक्तियों  को  ऐसे   अनैतिक  कार्यों  में  जोड़कर  अपना  क्षेत्र  बढ़ाता  है   ।  दुष्प्रवृत्तियां   इतनी  बढ़  जाती  हैं   कि  सत्प्रवृतियां    उपेक्षित  हो  जाती  हैं   ।
  जैसे  नदियों  पर  बाँध  बनाना  पड़ता  है   उसी  प्रकार  मनुष्य  के  मन  को  गिराने  वाले  जो  विभिन्न  उपकरण  संसार  में  हैं  उन  पर  भी  नियंत्रण  जरुरी  है   अन्यथा  जब  बाढ़  आती  है  तो  सब  कुछ   ख़त्म  हो  जाता  है  ।
     

Sunday, 4 December 2016

परिश्रम और ईमानदारी जैसे सद्गुणों का विवेकपूर्ण उपयोग जरुरी है

   इस  संसार  में  अनेक  लोग  ऐसे  हैं  जो  बहुत  परिश्रमी  हैं  और  अपने  कार्य  में  ईमानदार  हैं    लेकिन  यदि  उनकी  दिशा  गलत  है   तो  ये  सद्गुण  व्यर्थ  हो  जाते  हैं  ,  उनसे  सुख - चैन  की  जिन्दगी ,  मन  की  शान्ति    जैसा  कुछ  नहीं  मिलता   ।   जैसे  एक  व्यक्ति   नशे  का  व्यापार  करता  है  --- वह  इस  कार्य  को  बड़ी   मेहनत  से  करता  है   ,  इस   व्यापार  में  हजारों  लोग  लगे  हैं  जो  बड़ी  मेहनत  और  ईमानदारी  से   नशे  के  कारोबार  को    अन्य   देशों  में  फैला  देते  हैं ,  बच्चों  और  युवाओं  को  नशे  की  लत   लगा  देते  हैं   ---- तो    ऐसा  कार्य  जिससे  समाज  का  पतन  हो  जाये ,  लोगों  का  जीवन   बर्बाद    हो  जाये  -- उनमे  परिश्रम  करने  से  ,  बुरे  कार्यों  में  ईमानदारी  से  जुड़े  रहने  से     सुकून  की  जिन्दगी  नहीं  मिलती   ।    देखने  में  ऐसा  लगता  है  कि  बहुत  धन  जोड़  लिया   लेकिन  वास्तव  में  ऐसा   कार्य  कर  के  व्यक्ति   स्वयं  अपने  लिए  और  अपनी  आने  वाली  पीढ़ी  के  लिए  दुःख  और  कष्ट  का  इंतजाम  करता  है   ।
     धन  के  लालच   में    लोगों  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है   ,  छोटे - छोटे    और  तात्कालिक  लाभ  के  लिए  वे  अपराधिक    कार्यों  की  श्रंखला  से  जुड़  जाते  हैं   फिर  पूजा , प्रार्थना ,  कर्मकांड  कुछ  भी  कर  लें  उन्हें  कोई  लाभ  नहीं  होता  है   ।   इसी  तरह  एक  व्यक्ति  न  तो  मांस  खाता  है   न  शराब  पीता  है    लेकिन  बड़ी   मेहनत  से   गाय , भैस  ढूंढ  कर ,  चोरी  कर  कसाई  के  पास  पहुंचाता    है    तो  यह  उसका  भयंकर  पाप  कर्म  हुआ  ।   प्रकृति  में  ऐसे  पापों  के  लिए  क्षमा  का  कोई  प्रावधान  नहीं  है   । 

Saturday, 3 December 2016

कर्मयोगी बन कर ही सुख से रहा जा सकता है

       आज  के  समय   में  जब  पाप , अपराध , भ्रष्टाचार ,  अत्याचार , अन्याय  बढ़ता  ही  जा  रहा  है  ,  ऐसी  स्थिति  में  अपने  अस्तित्व  की  रक्षा  करने  के  लिए  व्यक्ति  को  कर्मयोगी  बनना  होगा   ।  इसके  लिए  कर्तव्यपालन  में  ईमानदारी   और  नैतिकता  होनी  चाहिए   ।   बुराई  का  साम्राज्य  बहुत  बड़ा  और  संगठित  है   ,   उसका   सामना  करने  और  स्वयं  को  सुरक्षित  रखने  के  लिए  दैवी  कृपा  की  जरुरत  है  ।
           मनुष्य  बुराई  की  तरफ  बड़ी  जल्दी  आकर्षित  हो  जाता  है    लेकिन  ईश्वर  अच्छाई  की  ओर  आकर्षित  होते  हैं  । इसलिए    जो  लोग  सद्गुणी  हैं ,  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  निष्काम  कर्म  करते  हैं  उन्हें  दैवी  सहायता  प्राप्त  होती  है   जो  तमाम  मुसीबतों  से  उनकी  रक्षा  करती  है    ।
    जैसे  दुर्योधन  के  पास  भगवान  कृष्ण  की  ग्यारह  अक्षोहिणी    सेना   थी  एक से  बढ़कर  एक  वीर  राजा  उसके  पक्ष  में  थे   ,  फिर  भी  महाभारत  के  युद्ध  में   वह  बन्धु - बान्धवों  समेत  मारा  गया  ।    लेकिन   पांडव  अकेले  थे ,  वे  धर्म  और  न्याय  पर  थे  ,  उनके  साथ  भगवान  कृष्ण  स्वयं  थे  ,  वे  निहत्थे  थे  लेकिन  उनका  आशीर्वाद  पांडवों  के  साथ  था  ,  इसलिए  पांडव  विजयी  हुए   ।