Sunday, 29 March 2015

मन की शांति के लिए हमें जागरूक रहने की जरुरत है

यदि  आप  सुख-शांति  का  जीवन  जीना  चाहते  हैं  तो  आपको  अपने  आस-पास  के  लोगों  के  प्रति  भी  चौकन्ना   रहने  की  जरुरत  है  |  आज  के  समय  में  लोग  अपनी  वास्तविकता  को  छुपाने  के  लिए  शराफत  का  मुखौटा  लगा  लेते  हैं  और  अधिकांश  लोगों  की  यह  कमजोरी  होती  है  कि  वह  दूसरों  की  धन-दौलत,  वैभव  देखकर  बहुत  जल्दी   प्रभावित  हों  जाते  हैं  ।  और   उनके   साथ   मित्रता   रखते   हैं   ।
                  जैसे --- एक   व्यक्ति   शराब   नहीं   पीता , मांसाहार   नहीं   करता , सिगरेट   छोड़   दी --- केवल   यही   उसकी    अच्छाई   का   मापदंड   नहीं   है ,   मांसाहार   नहीं   करता   लेकिन  ऐसे   व्यक्तियों   के   साथ   मिलकर   काम  करता    है  जो   जानवरों   को   सताते   हैं  उनके   खुर , सींग  खाल   आदि   बेचकर   पैसा   कमाते   हैं   तो   ऐसे   व्यक्ति   की  कसाई -वृति   आपके   मन   को   भी   अशांत   कर    देगी    । ऐसे   व्यक्ति   कब   घातक  हो   जाये , कब   धोखा   दें  , उन पर  भरोसा  नहीं किया  जा  सकता
    इसलिए  आज  के  समय  में  जब  चारों  ओर  हिंसा-अपराध  की  घटनाएँ  हैं,  धन  कमाने  के  अनुचित  तरीकों  से  समाज  में  नकारात्मकता  बढ़  गई  है,  प्रकृति  रुष्ट  हो  गई  तो   ऐसी  विकट  परिस्थितियों  में  हम  निष्काम  कर्म,  सेवा-परोपकार  का  कोई  कार्य  अवश्य  करें  ताकि  हमारे  घर  का  वातावरण  सकारात्मक  हो  जो  बाहर  से  आने  वाली  नकारात्मकता  को  पराजित  कर  दे  । 

Saturday, 28 March 2015

हम सब एक ही मोतियों के हार में गुंथे हुए हैं

हम  सब  एक  मोतियों  के  हार  में  गुंथे  हैं  इसलिए  समाज  में  होने  वाली  विभिन्न  घटनाएं  हमारी  मन:स्थिति  को  भी  प्रभावित  करती   हैं  |   जैसे  किसी  संत-महात्मा  के  प्रवचन  सुनने  से,  पवित्र  स्थान  पर  जाने  से,  श्रेष्ठ  विचारों  के  व्यक्तियों  से  बात  करने  से,  सत्साहित्य  पढ़ने   से  हमारे  मन  को  शांति  मिलती  है,  जीवन  की  अनेक  समस्यायों  का  हल  मिल  जाता  है,  श्रेष्ठता  के  निकट  होने  से  हमारे  मन  में   भी  सकारात्मक  विचार  आते  हैं  |
 इसके  विपरीत   जहाँ    अनैतिक  कार्य  करने  वाले,  अपराधिक  प्रवृति  के   व्यक्ति  हैं  तो  उस  स्थान  के  आस-पास  का  वातावरण  अशांत  होगा,  ऐसे  लोगों  की  संगत  में  नकारात्मक  विचार  ही  आयेंगे  |
जैसे   सिगरेट   के  धुएं  से  प्रदूषण  होता   जो  उस  व्यक्ति  के  साथ-साथ  आस-पास  के  लोगों  को  भी  नुकसान  पहुंचाता  है  उसी  प्रकार  जो  लोग  धन  के  लालच  में  अनैतिक  व्यापार  करते  हैं,  अमीर-और  अमीर  होने  की  चाहत  में  निरपराध  जानवरों  को  मारकर  उनके  खुर,  सींग,  खाल  आदि  का  व्यापार  करते  हैं,  विभिन्न  अपराधिक  गतिविधियों  में  संलग्न  है  ऐसे  लोग  स्वयं  अपने  जीवन  में  तो  अशांति  और  मुसीबतों  को  न्योता  देते  हैं,  इसके  साथ  ही  उनके  शरीर  से  निकलने  वाली  तरंगे  आस-पास  के  वातावरण  को  बोझिल,  अशांत  और  नकारात्मक  बन  देती  हैं  |
इसलिए  हमारे  मन  की  शांति  के  लिए  जरुरी  है  कि  धन  के  बजाय  सद्गुणों  कों  महत्व  दिया  जाये  |
श्रेष्ठ  विचार  और  सत्साहित्य  की  संगत  में  रहें  |

Thursday, 26 March 2015

सरल जीवन जियें

आज  भौतिक  प्रगति  के  इस  युग  में  प्रत्येक  मनुष्य    स्वयं  को  सभ्य  दिखाने  के  लिए   बनावटी   जीवन   जी  रहा  है   |  बात-बात  पर  अभिनय  करना , अपनी  सच्चाई  को  छुपाकर  एक मुखौटा  लगाकर   रहने  से  जीवन  की  सारी  शान्ति  समाप्त  हो  गई  है  । हम  क्या  हैं  ? कैसे  हैं ? यह  बात  हमारा  मन ,  हमारी   आत्मा    अच्छी   तरह  जानती  है  लेकिन  स्वयं  को  अच्छा  वा  सभ्य  दिखाने  की  लिए   समय -समय  पर  भिन्न  -भिन्न   मुखौटे   ओढ़ने   से ,  इस  दोहरेपन  से  जीवन  का   सारा   रस  सूख  गया  है  ।
     बनावटीपन  मे  शान्ति  नही  है ,    सरलता  में , सहजता  में  शान्ति  है  । 

Tuesday, 24 March 2015

श्रेष्ठता की ओर कैसे बढ़ें-------

हमारे  मन  में  अच्छा  बनने  की  चाहत  होनी  चाहिए,  कहते  हैं  सच्चाई   की   राह  बहुत  कठिन  है   लेकिन   यदि   हम   संकल्प   ले   लें   तो   यह   राह   आसान   हो   जाती   है   ।   मन   बड़ा   चंचल   होता   है , तनिक  से  लालच   में  ही  डाँवाडोल  हो  जाता है   ।   इसलिए   अनेकों   सद्गुणों   में   से   हम   केवल   एक   सद्गुण   अपनाकर   श्रेष्ठता  की  राह  पर  पहला  कदम  बढ़ायें ------
अपने  स्वाभाव , सुविधा , सरलता  के  अनुसार  एक  सद्गुण  को  अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित   करें   जैसे --- अब  हमेशा  सत्य  बोलेंगे ,     परनिंदा  नही  करेंगे ,यदि  कोई  कर  रहा  है  तो  अनसुनी  करेंगे , उसमे  रूचि  नहीं  लेंगे ,      ईमानदारी ,    जहां  और  जैसी  भी स्थिति  में  हैं  अपना  कर्तव्य  पालन  मन  से  करेंगे ,   आदि   अनेक  सद्गुण  हैं   फिर  सभी  धर्मों  की  नैतिक  शिक्षाएं  एक  सी  हैं ,  हम  कोई   सी   भी   एक  शिक्षा   को   अपनाने   का   संकल्प  लें   और  कितनी  भी  बाधाएं   आयें    विचलित   न  हों  ।
एक  गुण  में  ही  इतनी  शक्ति  होती  है  कि   धीरे -धीरे   अन्य   सद्गुण  भी   खिंचे  चले   आते   हैं   ।
     नियमित   सत्कर्म  करने  से   मन  को  शक्ति  मिलती  है  कि  संकल्पों  पर  दृढ़  रहें , इसके  साथ   ईश्वर  का  सुमिरन  और  प्रार्थना   करने  से    श्रेष्ठता   की  राह  पर   भी   ईश्वर  की  कृपा  से  चल  पाते  हैं   ।
    

Sunday, 22 March 2015

सुख- शांति का साम्राज्य तभी होगा जब सद्गुणी व्यक्ति अधिक होंगे

मनुष्य  की  अशांति  का  सबसे  बड़ा  कारण  यही  है  कि  वह  अपने कष्ट,  अपनी  अशांति  के  लिए  दूसरों  को,  परिस्थिति   को  दोष  देता  है ,  स्वयं  अपना  सुधार  नहीं  करता  है  । दुनिया  के  विभिन्न  देशों  ने   गुलामी,  दास-प्रथा,  राजतन्त्र,  तानाशाही  के  विरुद्ध  भीषण  संघर्ष  किया,  शांति  के  लिए,  अपने  अधिकारों  के  लिए  बड़े-बड़े   युद्ध  किये ,  सफलता   भी   मिली  ,  आज    गुलामी,  दास-प्रथा, राजतन्त्र, तानाशाही  समाप्त हो  गई  लेकिन    शांति  अब  भी  नहीं  है--- अन्याय,  अत्याचार,  शोषण,  अनाचार,  अपराध, हत्या, ,बेईमानी,  लूट,  कमजोर  की  सम्पति-अधिकारों  का  हनन  आज   भी     है  और  जो   लोग  ऐसा  करते  हैं  उनकी  आने  वाली    पीढ़ी  बचपन  से  इन्ही  दुर्गुणों  के  बीच   परवरिश  पाकर   बड़ी  होती  है,  अत्याचार शोषण,  अन्याय  इन  लोगों  के  स्वभाव  में,  आदत  मे  आ  जाता  है  |  जनसँख्या  बड़ी  तेजी  से   बढ़ती  है  इसलिए  ऐसे  अत्याचारियों  की  इस  धरती  पर  भरमार  हों  गई  है,  इनके  मन  अशांत  हैं  इसलिए  ऐसे  लोग  अपने  गलत  और  अनैतिक  कार्यों  से   दूसरों  को  भी  चैन  से  जीने  नहीं  देते  |
  आज  जरुरत   है--- व्यक्ति  में  स्वयं सुधार  की  ।
 लेकिन   जब  तक  ह्रदय  में,  अपने  अंतर्मन  में  अपनी  गलतियों  को  समझने  की  समझ  और  सुधरने  की  इच्छा  न  हो  तब  तक  दुष्प्रवृत्तियां  कैसे  दूर  हों  ?
हमारे  आचार्य,  ऋषि,  महर्षियों  ने  अपने  अनुभवों  के  आधार  पर  बताया  कि  निष्काम  कर्म  के  साथ  गायत्री  मन्त्र  का  जप  करने  से  वातावरण  में  ऐसी  तरंगे  पैदा  होती  हैं  जो  व्यक्ति  को  सद्बुद्धि  देतीं  हैं,  सन्मार्ग  के  लिए  प्रेरित  करती  हैं  । इसलिए  प्रत्येक  व्यक्ति   चाहे  वह  किसी  भी  धर्म-सम्प्रदाय  का  हो,  हम  सबके  प्राणदाता-  सूर्य  भगवान  के  मन्त्र--- गायत्री  मन्त्र  का  जप  करे  तो  इससे  सद्बुद्धि  आती  है,  व्यक्ति  स्वयं  अपनी  दुष्प्रवृतियों  से  युद्ध  कर  सन्मार्ग  पर  चल पड़ेगा  । 

Friday, 20 March 2015

स्वस्थ रहने के लिए स्वाद पर नियंत्रण रखें

यदि  आप  स्वस्थ  रहना  चाहते   हैं  तो  कम-से-कम  उन  वस्तुओं  का  प्रयोग तो  छोड़ना  ही  पड़ेगा  जिनके   बारे  में  विज्ञान, डॉक्टर  सभी  प्रमाणित  कर  चुके  हैं  कि  वे  स्वास्थ्य  के  लिए  हानिकारक  हैं  ।  हम  सबके  धार्मिक  ग्रंथ,  धर्म  गुरु--  सिगरेट, शराब, मांसाहार   से  दूर  रहने  की,  इनका  प्रयोग  न  करने  की  सलाह  देते   हैं  लेकिन  फिर  भी   यदि  आप   इनका  प्रयोग  करते  हैं   तो  इसका  अर्थ  यही  है  कि  बुद्धि,   दुर्बुद्धि  में   बदल    चुकी  है,  आपको  अपने  आप  से  ही  प्यार  नहीं  रहा  ।
महत्ता   इस   बात  की  नहीं  कि  महंगे  अस्पताल  में  बड़े  डॉक्टर  से  इलाज  कराया,
महत्व  इस  बात  का  है  कि  पिछले  कई  वर्षों  से  डॉक्टर  के   पास   गये  नहीं,  पूर्ण  स्वस्थ  हैं   ।
इसलिए  यदि  आप  स्वस्थ  रहना  चाहते   हैं  तो    सिगरेट ,  शराब   और   मांसाहार   को   मन   से  छोड़ना   होगा ,  इन   तीनो   से   विरक्ति   हो   जाये   तो    स्वास्थ्य   भी  अच्छा   होगा ,  धन   की  बचत   होगी   और   पारिवारिक   जीवन   भी   सुखमय  होगा   । 

Wednesday, 18 March 2015

मन की शांति के लिए अच्छाई की ओर एक कदम बढायें

हम  सब  इनसान  हैं,  हम  में  बहुत  कमियाँ  हैं,  बुराइयाँ  हैं,  हम  समझते  हैं  कि  अमुक  काम  गलत  है  फिर  भी  मन  के  आगे  विवश  हैं,  गलतियाँ  हो  जाती  हैं  ।  जो  कुछ  अब  तक  बीत  चुका  उस  पर  अब  पश्चाताप  करने  से  कोई  लाभ  नहीं,  अब  हम  अपने  वर्तमान  को  अच्छा  बनायें,  सुन्दर  बनाये  ताकि  हर  आने  वाले  दिन  को  सुख-शांति  से  व्यतीत  कर  सकें------
अब  एक  बार  में  ही  सब  बुराइयों  को  छोड़ना   या   सारे  सद्गुणों  को  एक  साथ  अपनाना  व्यवहारिक  रूप  से  संभव  नहीं  है ,  हम  केवल  एक  बुराई  छोड़  दें ---- वर्षों  की  आदतें  आसानी  से  नहीं  छूटती,  हम  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि  '  हमें  शक्ति  दें '  और  अब  अपनी  वह  बुराई   छोड़  दें ,   जिसे  छोड़कर  आप  स्वस्थ  रहेंगे,   आपके  चेहरे  पर  कोमलता  आ  जायेगी,  ह्रदय  में  औरों  के  लिये  संवेदना  पैदा  होगी,  सबसे  बढ़कर  क्रोध  पर  नियंत्रण  होगा, -----  '  आप   मांसाहार  छोड़  दें  '
       हम  सबका  जीवन   अनमोल   है----  जैसे-   स्नान  करने  से  शरीर  तो  साफ-स्वच्छ  हो  जाता  है  लेकिन  मन  का  मैल,  बुरी  आदतें  और  बीमारियाँ  नहाने-धोने  से   नहीं  जातीं,      इसी  प्रकार
 मांसाहार  में--------' आप  उसे  कितना  ही   पानी  से  या  विभिन्न  तरीकों  से  साफ  कर  लें,   उसमे  निहित  प्रवृति,  उसकी  बीमारी,   जो  मांसाहार  आप ले  रहें  हैं,    उसने  अपने  जीवन  में  जो  कुछ  खाया  उसका  भी  उस में   अंश  रहता  है  '------
निष्काम  कर्म  अवश्य  करें  इससे  अपने  संकल्प  को  निभाने  की   शक्ति  मिलती  है  । 

Monday, 16 March 2015

स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन के लिए जागरूक रहें

स्वस्थ  रहें  और  सुख-शांति  से  रहें-- यह  प्रत्येक  मनुष्य  की  हार्दिक   इच्छा  होती  है  लेकिन  सद्बुद्धि  और  जागरूकता  के  अभाव  में  व्यक्ति  स्वयं  अपने  लिए  भयंकर  और  लाइलाज  बीमारी  खरीद  लेता  है  ।
संसार  में  अपना  पेट  भरने  के  लिए   शाकाहारी  भोजन  की  कोंई  कमी  नहीं  है  लेकिन  फिर  भी  लोग मांसाहार  करते  हैं  ।   हमारे  हाथ  में  सुई  चुभ  जाये,  कहीं  चोट  लग  जाये  तो   कितना  कष्ट  होता  है  फिर  जानवरों  को  जिस  बेरहमी  से  मारा  जाता  है  उनकी  चीत्कारें  पूरे  वायुमंडल  में  भर  गईं  हैं,  उन्ही  की  आहें   नकारात्मक  उर्जा    उत्पन्न  करती  हैं  इसी  कारण  सुविधासंपन्न  होते  हुए  भी  लोग  लोग  अशांत  व  परेशान  हैं,  उनकी  जिंदगी  में  चैन  नहीं  है  ।
कभी  एकांत  में  बैठकर  विचार  कीजिये --- आज  के   समय  मे   जब  बूढ़े  माँ-बाप  को  लोग  बड़ी  मुश्किल  से  अपने  पास  रखते  हैं  तो  बूढ़े  जानवरों  को------ ?  ये  जानवर  बेचारे  सड़कों  पर  मारे-मारे  फिरते  हैं,  जो  भी  पड़ा  हुआ  मिल  गया  वह  खा  लिया  ।  ऐसे  जानवरों  का  मांस  खा-खा  कर  अब  तो  गिद्ध  भी  खत्म  हो  गये  ।  जब  संसार  में  इतना  भ्रष्टाचार,  इतना  अन्याय  बढ़  गया  है,  लखपति,    करोड़पति  होना  चाहता  है  और  करोड़पति,     अरबपति  होना  चाहता  है  तो  एक मांस  बेचने  वाले  से  हम  सच्चाई  और  ईमानदारी  की  उम्मीद  नहीं  रख  सकते  ।
यदि  मांसाहार  छोड़  दें  तो  अधिकांश  शारीरिक  और  मानसिक   बीमारियाँ  तो  बिना  दवा  के  ही  ठीक  हो  जायें  ।   हम  सब  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि  वे  सबको  सद्बुद्धि  दें   !

Sunday, 15 March 2015

सुख-शांति से जीना चाहते हैं ------ उधार न लें

जीवन  में  सुख-शान्ति  तभी  होंगी  जब  इच्छाओं  पर  नियंत्रण  होगा,  और  दूसरों  का  वैभव  देखकर  उनका  अन्धानुकरण  नहीं   करेंगे  ।
उधार  लेते   ही  व्यक्ति   अपने   हाथों   से  अपने  लिए   अशांति   मोल   लेता   है  ।  हर   महीने   ब्याज   चुकाने   की   चिंता ,  फिर   किसी   कारण  यदि   एक   महीने   ब्याज   नहीं   चुकाया   तो   अगले   महीने   दोगुना   ब्याज   चुकाने   की   चिंता   !
शांति   से   जीने   के   लिए   हम   उधार   के   बजाय     बचत   करने   को   प्राथमिकता   दें   ।   माना   आपको  आज   कार   खरीदनी   है  ।  अब  यह   हिसाब   लगायें   कि   यदि   आप   लोन   लेते   हैं   तो   प्रतिमाह   कितना    और   कब   तक  ब्याज  चुकायेंगे   ।   अब   अपने   मन   पर   थोड़ा   नियंत्रण   रखें ,  धैर्य   रखें ----- कार   आज   न   लेकर   डेढ़   या  दो  वर्ष   बाद   लें --- जो   ब्याज   आप   चुकाते   , इस   राशि   को   प्रति   माह   अपने   खाते   में   जमा   करें ,  अपने   पान ,  शराब , सिगरेट   आदि   विभिन्न   शौक   के   खर्चों   में   कटौती   कर   वह   राशि   भी   जमा   करें   ।  ऐसा   करने   से   लगभग   दो   वर्ष   में  आपके   पास   पर्याप्त   धन  राशि   जमा   हो   जायेगी  ,  इसमें  कुछ   और   जमा   मिलकर   आप   नकद   राशि   देकर   कार   खरीद   सकेंगे   ।  इससे   आपको   अनोखी   ख़ुशी   मिलेगी ,  आत्म विश्वास   भी   बढ़ेगा , पूरा   परिवार   मिलकर   बचत  करेगा   इससे   परस्पर   तालमेल   भी  बढ़ेगा   ।   हम   अपने   बजट   के   अंतर्गत   ही  सामान   खरीदें
दिखावे   और   दूसरों  से  तुलना  करने  में   अनावश्यक  धन  खर्च  न  करे  । 

Thursday, 12 March 2015

सुख-शांति से जीने के लिए जरुरी है--- विनम्र के साथ निर्भीक बने

सच्चाई  की  राह  बहुत  कठिन  है ।  कोई सच्चाई   की  राह  पर  चलकर  सरलता  से  जीवन  जीना  चाहता  है । किन्तु  समाज  के  ऐसे  लोग  जो  दबंग  हैं,  अत्याचारी  हैं,  सीधे-सरल  लोगों  को   कमजोर  समझकर  तरह-तरह  से  परेशान  कर  उनकी  मन  की  शांति  को  भंग  करते  हैं,   उन्हें  मानसिक  रूप  से  पीड़ित  करते   हैं  ।  इसलिए  हमारे  आचार्य,  ऋषियों  ने  कहा  है  कि  व्यक्ति  में  सरलता  के  साथ  निर्भीकता  होनी   चाहिए  |
       अत्याचार,  अन्याय  के  खिलाफ  आवाज  उठानी  चाहिए  ।  यह   समस्या  युगों  से  है  कि  दुष्ट  प्रवृति  के,  अत्याचारी  संख्या  में  बहुत   हैं  व   संगठित  हैं  ।  इनसे  मोर्चा  लेने  के  लिए,  उनकी   इस  अत्याचारी  मनोवृति  को  समाप्त  करने  के  लिए  अच्छाई   को,  श्रेष्ठ   प्रवृति  के  लोगों  को  संगठित  होना  पड़ेगा  ।
            निर्भीकता  आती  है--- ईश्वर  विश्वास  से  । ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ  है--- हम   अपने  तरीके   से  पूजा,  प्रार्थना  करने  के  साथ  सत्कर्म  भी  करें  । जब  हम  किसी  का  बुरा  नही  करेंगे  तो  हमारा  भी  बुरा  नहीं  होगा   ।
 संसार  की  प्रत्येक  समस्या  को  सुलझाने   के  लिए  विवेक   की   सद्बुद्धि   की  आवश्यकता  होती  है  । हमें  कब,   कहाँ  विनम्रता  का  व्यवहार  करना  है,  और   कब   आवश्यकता  पड़ने  पर  अपनी  निर्भीकता  को  प्रकट  करना  है,  इसके  लिए  हमारी  बुद्धि  संतुलित  और  विवेकपूर्ण  होनी  चाहिए--- यह  विवेक  जाग्रत  होता  है--- सत्कर्म  के  साथ  गायत्री मंत्र  का  जप  करने  से  ।  यही  एक  तरीका  है  जिससे  हम  इस  संसार  में  सफलता  के  साथ  शांतिपूर्ण  जीवन  जी  सकते   हैं  । 

Tuesday, 10 March 2015

मन की शांति के लिए सहनशीलता अनिवार्य है

आज  दुनिया  मे  सब  विश्वशांति  की  बात  करते  हैं  ।  हम  सबसे  मिलकर  ही  तो  समाज, राष्ट्र  और  विश्व  बना  है,  जब  तक  हम  सबके  मन  मे  शान्ति  नही  होगी,    विश्व  में  कैसे  शान्ति  होगी  ।  छोटी-छोटी  बातों  पर  हमें    क्रोध  आ  जाता  है,  छोटी  सी   बात  बड़ी  लड़ाई  का  रूप  ले  लेती   है   ।
       यह   बात    स्पष्ट  है  कि  लड़ाई  में  दो  पक्ष  होते    हैं  चाहे  वह   पारिवारिक  झगड़ा  हों  या  घर  से  बाहर  किसी  से  विवाद  हो  ।    हम  दूसरे  पक्ष  को  नहीं   समझा  सकते  । उचित  यही  होगा  कि  हम  शांत रहें , एक  पक्ष  अकेला  कब   तक  बोलेगा , कब  तक लड़ेगा  |
हम  सब  ईश्वर से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमे  सद्बुद्धि   दें , हम  इस  सत्य  को  समझें  कि  लड़ाई   में  हमारी  ऊर्जा  और  समय  की  बरबादी  है ,  इससे  लाभ   किसी   को   भी    नहीं   है  ।  
यदि  किसी  ने   हमें  अपशब्द   कहे , भला -बुरा  कहा   तो  इससे   हमारा   क्या  नुकसान  हुआ  ?   उस  व्यक्ति  ने  अनुचित  बोलकर  अपना  अंतर , अपने  आपको  हमारे  सामने  प्रकट  कर  दिया  | उचित  यही  है  कि  हम  शांत  रहें ,    कुछ  भी  न  कहें ,उसके  क्रोध  को   न भड़काएं   ।
यहां  शांत  रहने  का  अर्थ  डरपोक  होना  या  कायरता  नहीं  है ,  हमारे भीतर  समझ  विकसित  हो  चुकी  है  कि  हम   व्यर्थ के   झगड़ों  में  अपना  समय  व  ऊर्जा  बर्बाद  न  कर  उसे  सकारात्मक  कार्य  मे  लगाना  चाहते  हैं  । हम  प्रयास  करें कि  हमारे  मन  में  भी  क्रोध  न  रहे , स्वयं  को  सत्कर्म  व  सकरात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रखें  ।  

Monday, 9 March 2015

सुख-शांति से जीने का आसान सूत्र

आज  विश्व  के  अधिकांश देश  राजनीतिक  रुप  से  स्वतंत्र  हें  लेकिन  हम    अपने  मन  के  गुलाम  हैं,  सारी  सुख-सुविधाएँ  जोड़ने   के  बाद   भी  मन  असंतुष्ट  रह्ता  है,  इसीलिए  अशांत  रहता  है   |
यदि  हम  मन  की  गुलामी  से  मुक्त हो  जायें    तो  सारी  समस्याएं  हल  हो जाएँ  |
इस गुलामी से  मुक्ति  का सब से  आसान  रास्ता  यही  है  कि  हम  जों  भी  कार्य  करें  वह  पूर्ण  मनोयोग  से  करें,  मन  को  भटकने  का  मौका  ही  न  दें  ।  ऐसी   कोई  तकनीक,  कोई  मशीन  नही  है  जों  मन  को  नियंत्रण  मे  कर  सके  ।    हमारे  आचार्य,  ऋषियों  ने   बताया  कि   निष्काम  कर्म  करने  से  मन  निर्मल  हो  जाता  है  |   हम  अपने  जीवन  में  सन्तुलन  रखें---- सांसारिक  क्षेत्र  में-- अपने  कर्तव्य  का  पालन  पूर्ण  मनोयोग  से  करें  और  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में--- अपने  ईश्वर  का  स्मरण  करने  के  साथ निःस्वार्थ  सेवा  के  कार्य  करने  से  ही  मन  कों  शांति,  सन्तोष  व  आनंद  प्राप्त  होगा  । 

Sunday, 8 March 2015

मन की शांति के लिये --- अपनी स्थिति में संतुष्ट रहते हुए उन्नति के लिये प्रयास करें

जब  व्यक्ति  अपनी  स्थिति  से  संतुष्ट  नहीं  होता तभी  वह  अशांत  रहता  है,  संतुष्ट  रहने  का  अर्थ  ये  नहीं  कि   आलस  करें ,    संतोष  का  अर्थ  है--- जो  कुछ  अपने  पास  है  उसमे  खुश  रहते  हुए  अपनी  तरक्की  के   लिए  निरंतर  सही  तरीके  से   प्रयास  करें 
यदि  दूसरों  के  सुख-वैभव,  पद-प्रतिष्ठा  से  अपनी  तुलना  करेंगे  तो  मन  में  निराशा  आयेगी,  मन  अशांत  होगा   और  जों  कुछ  अपने  पास   है  उसका  भी  आनंद  नहीं  उठा  पायेंगे  ।  ईश्वर  ने  जो  हमें  दिया  उसकी  खुशी  मनाते  हुए  जों  कुछ  पाना  चाहते  हैं  उसके  लिए  ईमानदारी  से  प्रयास करें  । 
सत्कर्म   को  अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित  करने  से    जीवन  में  आने  वाली  विभिन्न बाधाएं  दूर  होती  हैं
  हमारा  उद्देश्य  हो---- सफल  भी  हों,  स्वस्थ   भी   रहें  और  मन   भी  शांत  रहे
ऐसा  तभी  संभव  है  जब  हम  सुख-भोग  की  अंधी  दौड़  मे  नहीं  भागेंगे,   अपनी  तरक्की  के  लिए  किसी  का  हक  नहीं  छीनेगें,  किसी  को  धक्का  देकर  आगे  नहीं  बढ़ेंगे  |
सत्कर्म  और  सच्चाई    के  साथ  प्रयास  करने  से   ही  जीवन  में  सुख-शांति  मिलती  है  ।  

Wednesday, 4 March 2015

सुख-शांति से जीने के लिये सर्वप्रथम स्वयं से प्यार करें

आज   मनुष्य   को  स्वयं  से   प्यार   नहीं   है ,  उसे  प्यार  है  धन  से ,  सुख -साधनों   से   ।  जीवन   मे  जिसे  प्राथमिकता  दो  वही   मिल जाती  है  ।  हमें  इस  सत्य  को  समझना  होगा  कि  जब  शरीर  स्वस्थ  होगा , मन  शांत  होगा  तभी  उस  धन  का , साधन -सुविधाओं  का   आनंद  है ।  इसलिये  हमें  महत्व  स्वयं  के  जीवन  को  देना   होगा  ।  जब  प्रत्येक  व्यक्ति  स्वयं  से प्यार  करेगा  तो  वह  कोई भी  ऐसा  काम  नहीं  करेगा  जिससे  उसके  स्वास्थ्य  को  नुकसान  हों  ।  परस्पर  ईर्ष्या -द्धेष , लड़ाई -झगड़ा  से किसी  का  भी  भला  नहीं  हुआ  । हम  अपना  अहंकार छोड़कर  अपने  मन  को  निर्मल  बनाने  का  प्रयास  करे  ।  जब  हम  अपने  क्रोध  पर , अपने  लालच , अपनी  कामनाओं  पर   नियंत्रण  कर  लेंगे  तो  संसार  के  कोलाहल  के   बीच  भी  शांत  और  स्वस्थ  रहेंगे  । 

Tuesday, 3 March 2015

मन की अशांति का कारण व्यक्ति स्वयं है

आज  व्यक्ति  इतना  अशान्त  है,  जितना  विकास  हुआ  है  उतनी  ही  बड़ी-बड़ी  बीमारियाँ  भी  हैं,  इसका  कारण  व्यक्ति    स्वयं   है  ।  आज  मनुष्य   का  विवेक  सों   गया  है,  जिन  पांच  तत्वों  से  मिलकर  मनुष्य शरीर बना    मनुष्य    इन्ही  पञ्च  तत्वों को नष्ट  करने  पर  उतारू  है   ।  जब पर्यावरण    इतना  प्रदूषित  होगा  तब  अचछा  स्वास्थ्य  और  मन  की  शान्ति  कैसे  प्रप्त  होगी  ?

Monday, 2 March 2015

सुख शांति से जीने के लिये सद्बुद्धि जरुरी है

आज  संसार  में  जितनी  भी  समस्याएँ  हैं  उन  सब  के  मूल में  एक   ही  कारण  है -----  सद्बुद्धि  की  कमी  । आज  मनुष्य  स्वयं  अपनी  मृत्यु  का  सामान  जुटा  रहा  है  ।  मन  की  शांति  सब  चाहते  हैं  लेकिन   केवल  चाहने  से  शांति  नहीं  मिलती  यह  तो  ईश्वर  की  कृपा  से  मिलती  है  ।  ईश्वर   की  कृपा  से  ही  हमारे   भीतर  विवेक  जाग्रत  होता  हैं   और विवेक  जाग्रत  होने  पर   ही  हम  लोभ -लालच , कामना -वासना  के  जाल  में  नहीं फंसते  |  ये  क्षणिक  सुख  मन   को ललचाते  रह्ते  हैं  लेकिन  यदि  ईश्वरीय  कृपा  से  हमारा  विवेक  जाग्रत  है , हम  अपना  भला -बुरा  समझते  हैं   तो   कोई  भी  आकर्षण    हमे  विचलित  नही  कर  सकता  ।  इसलिए  जरुरी  हैं  कि  नेक  रास्ते  पर  चलकर   निः स्वार्थ  भाव  से   सेवा  परोपकार   के  कार्य   कर  हम  ईश्वरीय  कृपा  के  पात्र  बने  ताकि  अनमोल  जीवन  को  शांति  से  जी  सकें  । 

Sunday, 1 March 2015

मन को शांत रखना है तो स्वार्थ को छोड़ना होगा

आज  समाज   में   जितनी  भी   समस्याएं   हैं   चाहें   वह  पारिवारिक   हो , सामाजिक  या  राजनीतिक  हों , उनका  प्रमुख  कारण  यही  है  कि  आज  व्यक्ति  बहुत  स्वार्थी  हो  गया,    है   ।  प्रत्येक  व्यक्ति  केवल  अपना  सुख  चाहता  है  चाहे  वह  किसी  भी  कीमत  पर  मिले   ।  आज   लोगों  के  हृदय  में  संवेदना  नहीं  है   ।  अपने  हित  को  पूरा  करने  के  लिये  दूसरों  को , प्रकृति  को  कितना  भी  कष्ट  हो  जाये  उन्हें  कोई  फर्क  नहीं पड़ता ,  लेकिन  ऐसे   कार्यों  की  प्रतिक्रिया  अवश्य  होती  है   ।
हम  सब  एक  माला  के  मोती  है --- इस  सत्य  को  स्वीकार करना  होगा   ।  दूसरे  को  कष्ट  देकर  अपना  हित  पूरा  करने  से  कभी  शांति  नहीं  मिलती  ।  स्वार्थ व्यक्ति  को  अँधा  कर  देता है ,  स्वार्थी  व्यक्ति   में  विवेक  नहीं होता  इसलिए  उसके  निर्णय  गलत  हो  जाते  हैं   और  ये  गलत  निर्णय  ही  उसकी  अशांति  का कारण  होते  हैं      ।    हम  सब  ईश्वर  से  सद्बुद्धि   की  याचना करें ,  सद्बुद्धि   होगी  तभी  हम  समझ  सकेंगे   कि   हमारा   हित  किसमें   है   ।