Saturday, 30 July 2016

सांसारिक जीवन के साथ अध्यात्म का समन्वय बहुत जरुरी

सुख  शान्ति  से  जीवन  जीने  के  लिए  जरुरी  है  की  हम  सांसारिक  जीवन  जीते  हुए  उसमे  अध्यात्म  का  समावेश   करें  ।   अध्यात्म  का  अर्थ  कर्मकांड  नहीं  है  । अध्यात्म  तो  जीवन  जीने  का  ऐसा  तरीका  है  जिससे  हम  ईश्वर  को ,  प्रकृति  को  प्रसन्न  कर  लें  ,  इससे  हमारे  जीवन  की  सारी  समस्याएं  स्वत:  ही  हल  हो  जायेंगी  ।  -    सांसारिक  जीवन   जीने  के  साथ  हम  आध्यात्मिक  हों   इसके  लिए    जरुरी   है
कि  जो  व्यक्ति  जहाँ ,  जिस  क्षेत्र  में  है  ईमानदारी  से  कर्तव्य पालन  करे   |  नि:स्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करे   |  इस  छोटी  सी  शुरुआत  से  ही  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में  प्रगति  संभव  है   |  आज  के  व्यस्त  और  आप -धापी  के  जीवन  में   चलते - फिरते ,  काम  करते  हुए  ही  ईश्वर  को   याद    कर  ले  ।  ईश्वर  को  हर  पल   अपने  साथ  उपस्थित  मानने  से   गलत  कार्यों  से  अरुचि  होगी   और  आत्म  विश्वास  बढ़ेगा  । 

No comments:

Post a comment