Saturday, 18 June 2016

अशान्ति का कारण है ------- भाग्यवादिता

  समाज  में  अशान्ति , उत्पीड़न  इसलिए    बढ़  रहा  है  क्योंकि  लोग  भाग्यवादी  हैं  ।  वैज्ञानिक  प्रगति  जिस  तीव्र  गति  से  होती  जा  रही  है ,  मनुष्य  मानसिक  रूप  से  उतना  ही  आलसी  होता  जा  रहा  है  ।  अपने  जीवन , अपनी  परिस्थितियों   को  अच्छा  बनाने , परिवार  में  आने  वाली  विपरीत  परिस्थितियों ,  दुःख , तकलीफों  को  दूर  करने  के  लिए  स्वयं  कोई  प्रयत्न  करना  नहीं  चाहता  है  ।  चाहे   अमीर   हो  या  गरीब   हर  व्यक्ति  सोचता  है   कि  पंडितों  को  ,  ज्योतिषी को  कुछ  धन  दे   दो,  वे  पूजा - पाठ , तंत्र - मन्त्र  कुछ  कर  देंगे   तो  घर  में  सुख  की  वर्षा  होने  लगेगी   ।   सुख - शान्ति  तो  श्रेष्ठ  कर्म  करने , सेवा - परोपकार  के  कार्य  करने  से  आती  है   ।  इसे  धन  खर्च  करके  ख़रीदा  नहीं  जा  सकता  ।
  पूजा - पाठ ,  मन्त्र - जप  सबका  बहुत   महत्व,  लेकिन  तब  जब  व्यक्ति  स्वयं  श्रद्धा  और  विश्वास  के  साथ  जप  करे  ।  हमारे  आचार्य , ऋषि,  महर्षि  ने  बताया  है  कि  गायत्री  मन्त्र  में  वो  शक्ति  है  जो  प्रारब्ध  को  काट  दे  ,  दुर्भाग्य  को  सौभाग्य  में  बदल  दे   ।   लेकिन  ऐसा  तभी  संभव  होगा  जब  व्यक्ति  श्रद्धा  और  विश्वास  से  स्वयं  नियमित  जप  करे  ।  इसके  साथ  जरुरी  है  कि  नि:स्वार्थ  भाव  से  सेवा , परोपकार  के  कार्य  करे  ,  और  अपनी  दुष्प्रवृत्तियों  को   दूर   कर  सन्मार्ग  पर  चलने  का  प्रयास  करे  ।
 यह  भी  पुरुषार्थ  है  ,  पुरुषार्थ  के  अनुरूप   सफलता   अवश्य  मिलती    है    ।

No comments:

Post a comment