Sunday, 26 March 2017

संसार में अशांति का कारण वातावरण में नकारात्मकता है

 व्यक्ति  जो  भी  अच्छे - बुरे  कार्य  करता  है  उसका  प्रभाव  उस  स्थान  विशेष  के  वातावरण  पर  पड़ता
 है ।  युगों - युगों  से  शक्तिशाली वर्ग ने   अपने  से  कमजोर  को  सताया  है  ,   असहनीय  कष्ट  दिया  है  ।  इसका  कारण  विभिन्न  देशों  में  भिन्न - भिन्न  होगा ,  लेकिन  आधिक्य  उन्ही  घटनाओं  का  रहा   जिसमे  लोगों  को  बहुत  अधिक  शारीरिक  और  मानसिक  कष्ट  दिया  गया  ।  कहते  हैं   उन  उत्पीड़ित  लोगों  की  आहें  उस  स्थान  विशेष  पर  वायुमंडल  में  रहती  हैं    इसलिए   परिवार  हो  या  राष्ट्र  ----  चाहें  कितनी  भी  भौतिक  सम्पन्नता  हो  ,  इस  नकारात्मकता  के  कारण   अशान्ति  रहती  है  ।
  इससे  बचने  का  एक  ही  तरीका  है   कि  अब  वर्तमान  में  किसी  पर  अत्याचार  न  करे  ,  किसी  को  कष्ट  न  दे   और  जितना  संभव  हो  नि:स्वार्थ  भाव  से  सेवा - परोपकार  के  कार्य  करे   ताकि  इससे  उत्पन्न  सकारात्मकता  ,  वातावरण  की  नकारात्मकता  को  दूर  भगा  दे   । 

No comments:

Post a comment