Thursday, 16 March 2017

सद्बुद्धि कैसे जाग्रत हो

    आज  संसार  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  प्रत्येक  व्यक्ति  जाने - अनजाने  स्वयं  का  ही  अहित  कर  रहा  है  |    जब  कला ,  साहित्य ,  पर्यावरण   सभी  कुछ  प्रदूषित  है  तो  सद्बुद्धि  कैसे  आये   ?
  विचारों  में  परिवर्तन  इतना  आसान  नहीं  होता  ,  मनुष्य  अपने  विचारों  के  प्रति  बड़ा  जड़  होता  है  ,  स्वयं  को  बदलना  नहीं  चाहता   |   आज  के  इस  युग  में   जब  मनुष्य  बिना  सोचे - समझे  धन  के  पीछे  भाग  रहा  है   ,  इच्छाओं  का  अंत  नहीं  है  ,  ऐसी  स्थिति  में  सद्बुद्धि  के  लिए  एक  छोटा - सा  प्रयास  जरुरी  है  ,  वह  है ----- निष्काम  कर्म  |  नि:स्वार्थ   भाव  से   व्यक्ति  सेवा - परोपकार  का  कोई  भी  कार्य  नियमित  करे   तो  स्वयं  के  जीवन  में  , व्यक्तित्व  में  ऐसा  सकारात्मक  परिवर्तन  होगा  कि  स्वयं  को  आश्चर्य  होगा  |     अपने  धार्मिक  कर्मकांड  के  साथ  यदि  अज्ञात  शक्ति  को  याद  करते  हुए  गायत्री  मन्त्र  का  जप  कर  लिया  जाये   तो  इस  मन्त्र   की  शक्ति  को   आप  स्वयं   अनुभव  करेंगे   |   

No comments:

Post a Comment