Wednesday, 29 March 2017

दूषित विचार ही संसार में अशान्ति का कारण हैं

   आज  समाज  में  महिलाओं  और  बच्चों  के  प्रति  अपराध ,  उन्हें  अमानवीय  तरीके  से  उत्पीड़ित  करना ,  हत्या  कर  देना  ---- यह  सब  पशु - प्रवृति  बढ़ती  जा  रही  है  ।  इसका  कारण   हमेशा  दूषित  विचारों  की  संगत  में  रहना  ।  फिल्मों  की  अश्लीलता ,  दूषित  साहित्य  --- यह  सब  मनुष्य  के  मन  को  विषैला  कर  देते  हैं ,  जो  कुछ  व्यक्ति  फिल्मों  में  देखता  है  ,  या  ऐसे  गंदे  साहित्य  में  पढ़ता  है  ,   वही   विचार  उसके  मन  में  चलते  रहते  हैं   ।  वह  कोई  भी  कार्य  करे ,  इन  दूषित  विचारों  से  मुक्त  नहीं  हो  पाता,  उसकी  बुद्धि ,  विवेक  समाप्त  हो  जाता  है   और  वह  विभिन्न  अपराधों  में  संलग्न  हो  जाता  है  ।  बिना  श्रेष्ठ  चरित्र  के  कोई  भी  संस्कृति  जीवित  नहीं  रह  सकती  ।  ऐसे  दूषित  प्रवृति  के  लोग   अपने  परिवार ,  समाज  और  राष्ट्र  सभी  के  लिए  घातक  हैं  ।  विचार  परिष्कार  के  बिना  शान्ति  संभव  नहीं  है  । 

No comments:

Post a comment