Friday, 31 March 2017

सुख - शान्ति से जीने के लिए विवेक की जरुरत है

आज  के  समय  में  लोग  अपने  शरीर  को  स्वस्थ  और  सुडौल  बनाने  के  लिए  बहुत  समय  व  धन  खर्च  करते  हैं  ,  इन  सबसे  स्वास्थ्य  अच्छा  हो  भी  जाता  है    लेकिन  जब  तक   मनुष्य  का  चरित्र ,  चाल - चलन ,  उसके  विचार  अच्छे  न  होंगे  उसका  मन  भटकता  ही  रहेगा ,  शांति  नहीं  मिलेगी  ।   स्वास्थ्य  अच्छा  है  लेकिन  क्रोध  बहुत  है  तो  परिवार  में  झगडे  होंगे  ,  अहंकार ,  लालच ,  बेईमानी ,  छल - कपट  आदि  दुर्गुण  हैं   तो  ऐसा  व्यक्ति  चाहे  शारीरिक  द्रष्टि  से  स्वस्थ  हो  लेकिन   वह   स्वयं  के  लिए  और  समाज  के  लिए  हानिकारक  है  ।  अपनी  बुरी  आदतों  को  दूर  करना ,  सद्गुणों  को  अपनाना  बहुत  बड़ा  तप  है   ।  बुराई  में  रहते   हुए  व्यक्ति  उसी  का   अभ्यस्त  हो  जाता  है  ,  अच्छाई  को  देखने   से ,  सुनने  से  डरता  है  ।  इसलिए  जरुरी  है  कि  अच्छाई  संगठित  हो   ताकि  उसकी  चमक  देखकर   अन्य  लोगों   को  भी  सन्मार्ग  पर  चलने  की  प्रेरणा  प्राप्त  हो   ।  

No comments:

Post a comment