Tuesday, 28 November 2017

अशांति का कारण है ----- कायरता

कहते  हैं '  कायरता   समाज  का  सबसे  बड़ा कलंक  है   और  अशांति  का  सबसे  बड़ा  कारण  है  l '
     यदि  व्यक्ति  को  यह  समझ  आ  जाये  कि  कोई  उससे  दुश्मनी  क्यों  रखे  है   ? क्यों  उसका  अहित  करना  चाहता  है  ?   तो  शांत  प्रवृति  का  व्यक्ति  उस   दुश्मनी  के  कारण  को  दूर  करने  का  प्रयत्न  करेगा   ताकि  दोनों  लोग  शांति  से  रह  सकें  l  लेकिन  आज  के  समय  में  धन ,  पद  का  लालच  ,  ईर्ष्या - द्वेष    दुश्मनी  के  ऐसे  कारण  हैं  जिनका  कोई  समाधान  नहीं  है  l   इन  सबके  अतिरिक्त   अशांति  का  जो  सबसे  बड़ा  कारण  है   वह  यह  कि  लोग  नैतिकता ,  मर्यादा ,  संवेदना  जैसे  सद्गुणों  को  भूल  गए  हैं   l  लोग  अपने  अनैतिक  और  गैर कानूनी  कार्य  दूसरे  की  मदद  से   करना  चाहते  हैं  ,  दूसरे  के  कंधे  पर  रखकर बन्दूक  चलाना  चाहते  हैं  l   और  जो  उनके  ऐसे  कार्यों  में  सहयोग  न  दे , उनके जाल  में  न  फंसे ,  उसकी    खैर  नहीं  l   आज  हम  सब  को  मिलकर  समाज  की  सद्बुद्धि  के  लिए  प्रार्थना  करनी  चाहिए   क्योंकि    अधिकांश  व्यक्ति   अपनी  कमजोरियों  और  दुष्प्रवृत्तियों  के  कारण  अपने  स्वाभिमान  को  गंवाकर  किसी  न  किसी  के  हाथ  की  कठपुतली  बने  रहते  हैं  ,  इसकी  डोर   किसके  हाथ  में  है  वे  स्वयं  नहीं  जानते  l    जब   समाज  का  वातावरण  ऐसी  दुष्प्रवृत्तियों    की   वजह  से  विषाक्त  हो  जाये    तब  लोगों  को   अधिक  से  अधिक  मात्रा  में  निष्काम  कर्म ,  पुण्य  कार्य  करने  चाहिए    जिससे  नकारात्मकता  दूर  होगी   l 

No comments:

Post a Comment