Tuesday, 28 February 2017

अशान्ति का सबसे बड़ा कारण है ----- अनैतिक तरीके से धन कमाना

 आज  समाज   में  सद्गुणों  का  नहीं  धन  का  महत्व  है   इसलिए  लोग  भ्रष्टाचार  से ,  हर  अनुचित  तरीके  से  धन  कमाते  हैं   ।  इस  तरह  का  धन  ही  ,  यह  पाप  की  कमाई  ही  ऐसा  धन  कमाने  वाले  की   और  उसकी  सन्तान  की  बुद्धि  को  भ्रष्ट  कर  देती  है  ।  ऐसे  लोग   इस  धन  का  उपयोग  किसी  के  हित  के  लिए  नहीं  वरन   अपनी   ' गुंडई '  को  कायम  रखने  के  लिए  करते  हैं  ।
    आज  समाज  को  जागने  की  जरुरत  है    क्योंकि  जब  बुद्धि  पर  लोभ  और  स्वार्थ  हावी  हो  जाता  है   तो  व्यक्ति  के  सोचने - समझने  की  क्षमता  समाप्त  हो  जाती  है  ,  ऐसे  लोग किसी  के   सगे  नहीं  होते   अपने  स्वार्थ  के  लिए  किसी    भी   स्तर   तक  गिर  सकते  हैं  ।
आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है ---- विवेक  की ,  सद्बुद्धि  की  ।  जीवन   के  सफ़र  में  जब  ऐसे  दुर्बुद्धि ग्रस्त  लोगों  से  पाला  पड़  जाये   तो  हम  विवेक  की  ढाल  से  ही  उसका  सामना  कर  सकते  हैं की ---' सांप  भी  मर  जाये  और  लाठी  भी  न  टूटे  "    l
  सत्साहित्य  का  अध्ययन ,  निष्काम  कर्म  ,  सेवा - परोपकार करना ,  प्रार्थना  -- इन  सबसे  ही  हमारे  भीतर  समझ  विकसित  होती  है  । 

No comments:

Post a comment