Saturday, 1 April 2017

सभी समस्याओं का कारण दुर्बुद्धि है

  जब  हम  बीमारी  को  अनुभव  करते  हैं   तभी  उसका  इलाज  करते  हैं   |  सर्वप्रथम  लोगों  को  यह  स्वीकार  करना  होगा  कि  सम्पूर्ण  समाज  पर  ही  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  ।   इस  सत्य  को  स्वीकार  करने  के  बाद  ही  सबके  सम्मिलित  प्रयास  से  दुर्बुद्धि  का  अंत  हो  सकता  है   ।
   आज  हमारे  देश  को  स्वतंत्र  हुए   बहुत  वर्ष  बीत  गए    ,  अब  कोई  विदेशी  आकर  यहाँ   न  तो   गौ  हत्या  करता  है  ,  न  ही  कोई  विदेशी  यहाँ    आकर  नारी  का  चरित्र  हनन  और   पवित्र  नदी  गंगा  को  प्रदूषित  करने  का  कार्य  करता  है   ।    ये  तीनो  महापाप  इसी  देश  के  लोग  करते  हैं   और  स्वयं  को  धार्मिक  कहते  हैं  ।  ------ यही  दुर्बुद्धि  है   ।  अपनी  संस्कृति ,  अपनी  पहचान  को  जीवित  रखना  है ,  दैवी  आपदाओं  से  बचना  है   -- तो  अब  जागने  की  जरुरत  है ,   कहीं   देर   न  हो  जाये  !   सबके    दृढ़  संकल्प  और  सम्मिलित  प्रयास  से  ही  इन  पापों  से  मुक्ति   संभव  है   ।
     

No comments:

Post a Comment