Wednesday, 8 August 2018

WISDOM ----- चिंता हमारे दुःखों को कम नहीं करती , बल्कि वर्तमान की खुशियों से हमें दूर कर देती है

 '  चिंता  हमारे  जीवन  को  घुन  की  तरह  खाती  है  इस  कारण  मनुष्य  कभी  किसी  लक्ष्य  तक  नहीं  पहुँच  पाता  l ' 
   लगभग  92  प्रतिशत  व्यक्तियों  की   चिंताएं  उन  कारणों  को  लेकर  होती  हैं  जिन्हें   बदल  पाना  हमारे  हाथ  में  नहीं  है  l   व्यक्ति  के  जीवन में    कुछ  चिंता   ही  ऐसी  होती  हैं  जिनके  पीछे  सार्थक  कारण  होता  है   ,     उनकी  चिंता  में  अपनी  ऊर्जा  बरबाद  न  कर  के  ,  उनके  सम्बन्ध  में  चिंतन  करना  चाहिए  l   उचित  समय  पर  विवेक  से   निर्णय  लेकर   उनका  समाधान  हो  सकता  है  और  सार्थक  परिणाम  प्राप्त  किया  जा  सकता  है  l   ईश्वर  की  प्रार्थना  और  सत्कर्मों  से  कठिन  समय  में  जीवन  को  सही  दिशा  मिलती  है  l  

No comments:

Post a Comment