Monday, 4 May 2015

मानसिक शान्ति के लिए ईर्ष्या से बचें

यदि  हमे  सुख- शान्ति  से  जीना  है  और  अपने  जीवन  में  हर  पल  ईश्वरीय  कृपा  के  आनन्द  का  अनुभव  करना  है    तो  निष्काम  कर्म  करने  के  साथ  अपनी  मानसिक  दुर्बलताओं  को  दूर  करना  अनिवार्य  है  ।
     दूसरों  के  सुख  से,  उनकी  सफलता  से  ईर्ष्या  करना   अधिकांश  लोगों  की  कमजोरी  है,  इस  वजह  से  ऐसे  लोग  उनके  पास  जो  कुछ  है  उसका  आनंद  नहीं  उठा  पाते  और  अपना  जीवन  का   एक   लम्बा  समय  दूसरों  को  नीचा   दिखाने  व  षडयंत्र  करने  में  गुजार  देते  हैं  ।
  हम  दूसरों  को  तो  नहीं सुधार  सकते  लेकिन  अपने  भीतर  जो  ईर्ष्या  की  आदत   है  उसे  सुधार  सकते  हैं  हम  इस  सत्य  को  समझें  कि  सबके  सुख  में  ही  हमारा  सुख  है  ।
हम  ईश्वर  से  यह  भी  प्रार्थना  करें  कि  हमारे  पड़ोसी,  हमारे  परिवार  के  अन्य  सदस्य  सुख  से  रहें,  उनके  पास  हमसे  कुछ  ज्यादा  संपन्नता  हो  जाये  ताकि  वे  ईर्ष्यावश  हमारे  विरुद्ध  षडयंत्र  तो  न  रचेंगे,  हमें  चैन  से  तो  जीने  देंगे   । लेकिन  फिर  भी  यदि  ऐसे  लोग  हमारे  विरुद्ध  तरह-तरह  के  षडयंत्र  रचते  हैं  तो  हमारे  भीतर  के  पवित्र  भाव  उनकी  हर  चाल  को  असफल  कर  देंगे  । 

No comments:

Post a comment