Friday, 8 May 2015

हमारी सोच सकारात्मक कैसे बने

आज  के  समय  में  लोगों  में  निराशा,  नकारात्मकता  इतने  गहरे  तक  छाई  हुई  है  कि   उसे   मिटाकर  सकारात्मकता  कों  स्थापित  करने  के  लिए  ठोस  प्रयास  करना  होगा------
सर्वप्रथम  हम  इस  सत्य  को  स्वीकार  कर  लें  कि  जब  इनसान  का  जन्म  मिला  है  तो  मुसीबत,  कठिनाइयां  जीवन  में  आती  रहेंगी  ।
हमारा  प्रयास  यह  हो  कि  इन  कठिनाइयों  रूपी  परीक्षा  में  हम  पास  हो  जायें,  हमारा  और  हमारे  परिवार  का  कोई  अहित  न  हो ।
इसके  लिए  हमें  ईश्वर  पर,  उस  अज्ञात  शक्ति  पर  विश्वास  करना  होगा  ।   केवल  बाह्य  आडम्बर  कर,  हम  स्वयं  को  ईश्वर-विश्वासी  नहीं  कह  सकते  । हमें  प्रकृति  द्वारा  ली  जाने  वाली  विभिन्न  परीक्षाओं  में  पास  होना  है,  कठिनाइयों  के  बीच  शांत  रहने  और  धैर्य  व  विश्वास  से  उनका  सामना  करने  का  आशीर्वाद  चाहिए  तो  कुछ  मेहनत  करनी    पड़ेगी  ।
हम      ईश्वर विश्वासी  होने  के  लिए  अपनी  पूजा-प्रार्थना  मे  तीन  बातों  को  सम्मिलित  करें------
1.निष्काम  कर्म   करें       2.कर्तव्य  पालन  करें     3.कभी  किसी  का  अहित  न  करें
इन  तीन  बातों  को  दिनचर्या  में  सम्मिलित  करने  से  हमारा  आत्म  विश्वास  बढ़ेगा,  हमारी   सोच  सकारात्मक  होंगी ,  अन्य  सद्गुण  भी  खिंचे  चले  आयेंगे    । 

No comments:

Post a comment