Friday, 24 February 2017

संसार में अशान्ति का कारण है ---- विषैला साहित्य

  जैसे  बीमारी  को  दूर  करने  के  लिए  दवा   के  साथ  परहेज  की  जरुरत  होती  है   इसी  प्रकार  समाज  में  लोगों  का  जीवन  सुरक्षित  हो  , अपराध  कम  हों   इसके  लिए  जरुरी  है  कि  लोगों  का  मन  शांत  हो    लेकिन  चारों  और  फैला  हुआ  अश्लील  साहित्य   मन  को  भी  जहरीला  बना  देता  है   |   कोई  एक   सुधार   कर  देने  से  समस्या  हल  नहीं  होती,  मन  को  विचलित  कर  देने  वाले  सभी  उपकरणों  पर  नियन्त्र  जरुरी  है  |  

No comments:

Post a comment