Wednesday, 1 February 2017

संसार में सुख - शान्ति के लिए नैतिक शिक्षा की जरुरत है

  आज  संसार  में  इतनी  अशान्ति  का  कारण  है  कि  लोगों  के  ह्रदय  में  संवेदना  का  स्रोत  सूख  गया  है  लोग  परोपकार  करने  के  बजाय  एक - दूसरे  को  परेशान  करते  हैं  ।  यदि  गहराई  से  देखें  तो   इसका  कारण  है  कि  आज  सद्गुण  सिखाने  वाली  नैतिक  शिक्षा  का  अभाव  है   ।  लोगों  में  प्रतिभा  तो  बहुत  है ,  ऊँची - ऊँची  डिग्री  है , ज्ञान  का  भंडार  है  लेकिन  सद्गुणों  के  अभाव  में   व्यक्ति  अपनी  प्रतिभा  का  दुरूपयोग  करने  लगता  है  ।
   वैज्ञानिकों  में  कितनी  प्रतिभा  है ,  कितना  ज्ञान  है  लेकिन  संवेदना  न  होने  के  कारण  वे  अपनी  प्रतिभा  का  उपयोग  भयंकर  बम  बनाने , मारक  अस्त्र ,  तोपें  आदि  बनाने  में  करते  हैं   जिससे  यह  सुन्दर  संसार  खंडहर  हो  जाये  ,  कुछ  लोग  ही  जैसे  तैसे  बच   पायें  जो  लाशों  पर  राज  करें  ।  वे  ऐसा  कोई  आविष्कार  नहीं  करते  कि  मनुष्य  में  सद्बुद्धि  जाग्रत  हो  जाये  ,  वो  मिलजुल  कर  रहे  युद्ध  की  जरुरत  ही  न  हो  ।
      हमारे  महाकाव्य  हमें  शिक्षा  देते  हैं  ---'- महाभारत '  के  अध्ययन  से  ज्ञात  होता  है  कि  पांडवों  ने  अस्त्र - शस्त्र  की  शिक्षा  तो  गुरु  द्रोणाचार्य  से  ली ,  लेकिन  उन्हें   पग - पग  पर  नैतिक  शिक्षा  उनकी  महान  तपस्वी  माता  कुंती  ने  दी  ।  इसलिए  इतने  कष्ट  सहने  के  बावजूद  भी  वे  अपने  पथ  से  विचलित  नहीं  हुए  ,  सन्मार्ग  पर  चले  और  अन्याय  के  विरुद्ध  युद्ध  में  विजयी  हुए  ।
       दूसरी  ओर  कौरव  थे  ।  अस्त्र - शस्त्र  की  शिक्षा  तो  उन्हें  भी  गुरु द्रोणाचार्य   से  मिली   लेकिन  उन्हें  नैतिक  शिक्षा  नहीं  मिली  ।  दुर्योधन  के  पिता  धृतराष्ट्र  अंधे  थे ,  वो  पुत्र मोह  में  भी  अंधे  थे  ।   दुर्योधन  की  गलतियों  पर  उसे  रोकते  नहीं  थे  ,  इससे  वह  बहुत  अहंकारी  और  अत्याचारी  हो  गया  था  ।  दुर्योधन  की  माता  गांधारी  ने  अपनी  आँखों  पर  पट्टी  बांध  ली  थी  ,  वे  भी  उसे  पांडवों  के  विरुद्ध  षड्यंत्र  करने ,  अन्याय , अत्याचार  करने  से  न  रोक  सकीं   ।   इसी  का  परिणाम  हुआ  कि  युद्ध  में  दुर्योधन  बन्धु- बान्धव  समेत  मारा  गया    ।   धर्म  और  सत्य  के  मार्ग  पर  चलने  वाले  पांडव  विजयी  हुए   ।   

No comments:

Post a comment