Sunday, 15 April 2018

बच्चे की उत्सुकता ---- एक कहानी

 एक  बच्चा  बहुत  गरीब  ,  अपने  पिता  के  साथ  झोपड़ी  में  रहता  था  l   गरीबी  और  मजबूरीवश  माँ  मर  गई  या  मार  दी  गई  ,  कोई  नहीं   जानता    l  बच्चा  अपने  पिता  से  जिद्द  करता   बड़े - बड़े  महल  देखने  की   l   बेचारा  पिता  !  महल  कैसे  दिखाता  l   उसे  एक  युक्ति  सूझी  ,  वह  अपने  बच्चे  को   भगवान  के  महल ----  मंदिर , मस्जिद , गुरुद्वारा ,  चर्च  सब  दिखाने  ले  गया  l  बच्चा  आँख  फाड़े  देखता  रहा ---
 ' भगवान  तेरे  एक  को  इतना  बड़ा  मकान  "    बच्चा  रास्ते  भर  पूछता  रहा  -- इतने  सारे कमरे  है ,  कौन  रहता  है ,  क्या  होता  है   ?
  पिता  चुप  था ,  उसकी  आँखों  में  आँसू  थे   l   क्योंकि  वह  तो  उसे  शुरू  से  यही  समझाता  रहा  था  कि  महलों  से  दूर  रहना ,   ईश्वर  को  पाना  है  तो  ह्रदय  को  पवित्र  बनाओ   l  

No comments:

Post a comment