Monday, 16 November 2015

जब लोगों के मन में शान्ति होगी तभी संसार में शान्ति होगी

 आज  लोगों  के  मन  अशांत  हैं  ,  यही  अशांति  समाज  में  विभिन्न  रूपों  में  दिखायी  देती  है   | आतंक  व  अन्याय  को  दूर  करने  के  लिए   विभिन्न  सरकारें  प्रयास  करती  हैं  ।
यदि  हम  संसार  में  स्थायी  शान्ति  चाहते  हैं   तो  प्रत्येक  ऐसे  व्यक्ति  को  बदलना  होगा  जो  अहंकारी  है ,  लालची  है , क्रोधी  है ,  कामांध  है  ।  क्योंकि  इन  दुष्प्रवृत्तियों  के  आधीन  होकर  ही  व्यक्ति   दूसरों  को  सताता  है ,  उनका  हक  छीनता  है ,  शोषण  करता  है   ।  स्वयं  को  श्रेष्ठ  समझ  कर  दूसरों  की  हँसी  उड़ाना,  उनकी  उपेक्षा  करना ---- ये  सब  ऐसी  प्रवृतियां  हैं   जो  पीड़ित  के  मन  में  बदले  की  भावना  भर  देती  हैं   ।  इसी   से  समाज  में  अशांति  और  अपराध  होते  हैं  ।
 हमें  संकल्प  लेकर  स्वयं  को  बदलना  होगा ,  अपनी  दुष्प्रवृत्तियों  को  त्याग  कर  ,  सदगुणों   को  अपनाना  होगा    ।  जब  गुणी  व्यक्ति  अधिकाधिक   होंगे  तभी  शान्ति  होगी  । 

No comments:

Post a comment