Saturday, 14 November 2015

जीवन जीना सीखें

जो गरीब  हैं ,  बेरोजगार  हैं  उनकी  समस्या  तो  समझ  में  आती  है  लेकिन  जो  संपन्न  हैं ,  उच्च  पदों  पर  हैं ,  जिनकी  पर्याप्त  आय  है  ----- ऐसे  लोग  परेशान  हैं  तो  इसका  अर्थ  है  कि  उन्हें  जीवन  जीना  नहीं  आता  |  व्यक्ति  की  अधिकांश  समस्याएं  उसकी  स्वयं  की  आदतों  की  वजह  से  हैं  ।  जैसे  --- आज  की  युवा  पीढ़ी  के  लोग  जब  पढ़ - लिख  कर  उच्च पदों  पर  पहुंचकर  पर्याप्त  कमाने  लगते  हैं   तो  वे  अपने  फालतू  समय  का  उपयोग  शराब , सिगरेट ,  आदि  गलत  आदतों  में  करते  हैं   ।  इससे   उन्हें   स्वयं  नुकसान  होता  है  ।  नशे  की  आदत  होने  से   सेहत  ख़राब  होती  है    और वे  अपनी  आय  का  सकारात्मक  उपयोग  नहीं  कर  पाते    ।   बचपन  से  ही  यदि  बच्चों  को  सिखाया  जाये  कि  उनका  जीवन  अनमोल  है  ,  जो  कुछ  करना  है  ,  उन्हें  इसी  शरीर  से  करना  है  ,  उन्हें  शारीरिक  और  मानसिक  दोनों  रूपों  में  स्वस्थ  रहना  है    तभी  जीवन  में  सफल  होंगे  ।  जब  व्यक्ति  स्वयं  से  प्यार  करना  सीख  जायेगा  तो  वह  कोई  ऐसा  काम  नहीं  करेगा  जिससे  स्वयं  का  नुकसान  हो   ।  धन  के  लाभ - हानि  के  प्रति  व्यक्ति  जितना  जागरूक  रहता  है  ,  उतना  ही  यदि  अपनी  शारीरिक  और  मानसिक  उर्जा  के  प्रति  जागरूक  रहे  तो  जीवन  की  अधिकांश  समस्याएं  सुलझ  जाये  । 

No comments:

Post a comment