Sunday, 29 November 2015

मुसीबत का सामना चुप रहकर करें

जब  भी  जीवन  में  दुःख  और  कष्ट  का  समय  हो   तो  उसे  रो - रोकर  न  गुजारें  ।  रोना  किसी  भी  समस्या  का  हल  नहीं  है   ।  ऐसे  कठिन  समय  में   सत्कर्म  अवश्य  करें  ।  अपने  दुःख  , अपनी  परेशानी  की  चर्चा  किसी  से  न  करें    ।   सकारात्मक  कार्यों  में  स्वयं  को  व्यस्त  रखे  ।  और  अपने  मन  में  आशा  का  दीप  जलाये  रखें   कि  अँधेरा  दूर  होगा  ,  जीवन  में  नई  सुबह  होगी  । 

No comments:

Post a comment