Monday, 30 November 2015

दुःख और कष्टों को मन से स्वीकार करें

   सुख  और  दुःख    वास्तव  में  हमारी  मन: स्थिति  है  ।  फिर  भी  जब  जीवन  में  कष्ट  और  पीड़ा  का  समय  हो  तो  इसे  हम अपना  प्रारब्ध  मानकर  स्वीकार  करें  ।  यह  सत्य  है  कि  जाने - अनजाने  में  हमसे  जो  भूलें  हुईं    उसी  के  परिणाम  स्वरुप  जीवन  में  कष्ट  आते  हैं  । हम  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमें  कष्ट  सहन  करने  की  और  सकारात्मक  ढंग  से  उसका  सामना  करने  की  शक्ति  प्रदान  करें  ।
      जब  हम  कष्टों  को  खुशी  से  स्वीकार  करते  हैं  ,   उस  समय  को  रो - कर  ,  खीज  कर  नहीं  गंवाते ,  नियमित  सत्कर्म  करते  हैं    और  फालतू  समय  को  सत - साहित्य  पढ़ने  और  सकारात्मक  कार्य  करने  में  व्यतीत  करते  हैं  तो  प्रकृति  भी  हम  पर  दयालु  हो  जाती    है ,  फिर  वे  कष्ट ,  हमें  कष्ट  नहीं  देते   ।  उस  स्थिति  में  भी  हमें  अनोखी  शान्ति  व  आनंद  प्राप्त  होता   है  ।  उन  कष्टों  की  सार्थकता  हमें  समझ  आती  है  |  

No comments:

Post a comment