Friday, 20 November 2015

जीवन जीने की कला की जरुरत क्यों है ?

 संसार  में  अच्छे  लोग  हैं ,  जो  सत्कर्म  करते  हैं ,  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं  लेकिन  इसके  साथ  ही  अनीति  पर  चलने  वाले , अन्यायी ,  अत्याचारी  भी  बहुत  हैं   जिनका  प्रतिदिन  हमें  सामना  करना  पड़ता  है  ,
  दुष्टता ,  असुरता  आज  से  नहीं  है  ,  युगों  से  इस  धरती  पर  दुष्प्रवृत्तियों  के  लोग  रहते  आ  रहें  हैं  ।
चाहे  भगवान्  राम  का  युग  हो ,  ईसा  मसीह  हों ,  गुरु  नानक  हों  या  कबीर  हों ,    सबके  समय  में  दुष्ट  लोग  थे  जिन्होंने  सच्चाई  पर  चलने  वालों  पर  अत्याचार  किये ।
व्यक्ति  अपना  दुष्टता  का  स्वभाव  नहीं  बदलता ----- शराबी  चाहे  छत  से  गिर  जाये ,  उसकी  सब  हड्डियाँ  टूट  जाएँ लेकिन  वो  शराब  पीना  नहीं  छोड़ता ,  भिखारी  को  कहें  कि  भगवन  नाम  की  माला  जपो ,  कुछ  श्रम  करो  ,  उसके  लिए  रूपये  देंगे  ,  तो  वह  यह  काम  नहीं  करेगा ,  उसे  तो  भीख  माँगना  ही  अच्छा  लगेगा  ।  इसी  तरह  कुछ  लोगों  का  भयंकर  बीमारी  से  शरीर  का  कोई  अंग  काटना  पड़ता  है  ,  वे  ठीक  भी  हो  जाते  हैं   लेकिन  इतनी  बड़ी  ठोकर  खाने  के  बाद  भी  वे  बदलते  नहीं  ।   थोड़ा   ठीक  होते  ही  उनकी  दुष्टता  ,  ईर्ष्या,   द्वेष   फिर  प्रबल  हो  जाता  है  ।  हजारों - लाखों  में  कोई  एक  होता  है  जो  ठोकर  खाकर  ,  प्रकृति  का  दंड  भोगकर   सुधर  जाये ,  नेक  रास्ते  पर  चलने  लगे ।
व्यक्ति  अपने  संस्कार ,  अपने  स्वभाव  के  प्रति  हठी  होता  है   । विचारों  में  परिवर्तन  होने  पर  ही  व्यक्ति  में  परिवर्तन ,  रूपांतरण  संभव  है  ।
  असुर  प्रवृतियों और  काम , क्रोध ,  लोभ ,  ईर्ष्या - द्वेष  जैसी  दुष्प्रवृतियों  से  ग्रस्त  लोगों  के  बीच  हमें  हर  पल  रहना  पड़ता  है ,   इसीलिए  भगवान  श्री कृष्ण  ने    गीता  का  उपदेश  देकर   हमें  जीना  सिखाया   ,   इस  संसार  में  जहाँ  चारों  ओर  छल -कपट   है , तरह -तरह  के  आकर्षण  है ,  कैसे  हम  शांतिपूर्वक  रहें ,  संसार  के  सारे  काम  भी  करें  और  परेशान   भी  न  हों  ।  जीवन  अनमोल  है  ,   इसे  रो - पीट  कर ,  शिकायते  कर  नहीं  गंवाएं  ।   गीता  का  ज्ञान  हमें  जीवन  जीने  की  कला  सिखाता  है   । 

No comments:

Post a comment