Wednesday, 25 November 2015

जीवन में सफलता और मन में शान्ति चाहिए तो कीमत चुकानी होगी

संसार  के  बाजार  में  कुछ  चाहिए  तो   मुद्रा  में  उसकी  कीमत  चुकानी  पड़ती  है    लेकिन  ईश्वर  से  प्रकृति  से  कुछ  चाहिए  तो    धार्मिक  स्थलों  पर  रूपये -पैसे  चढ़ाने  से ,  फूलमाला ,  फल -मिठाई  आदि    का  भोग  लगाने  से   कुछ  नहीं  मिलता  ,  ये  सब  कर्मकांड   तभी  सार्थक  हैं    जब  इनके  साथ  सत्कर्म  किये
 जाएँ   ।   अध्यात्म  में  सफलता  हो  या  संसार  में  सफलता    दोनों  के  लिए  ही  सत्कर्म  अनिवार्य  हैं  ।
और  ये  सत्कर्म  निष्काम  भाव  से  किये  जाएँ ,  इनमे  कोई  दिखावा  न  हो   ।
    निष्काम  कर्म  करने  से  ही  ईश्वर  की  कृपा  मिलती  है  ,  हमारे  मन  के  विकार  दूर  होते  हैं  ---- इससे  दोहरा  लाभ  है  --- एक  तो   मन  निर्मल  हो  जाने  से  ध्यान  करना  आसान  हो  जाता  है  और  दूसरी  ओर  संसार  में   सफलता  मिलती  है  । सत्कर्म  ढाल  बनकर   हमारी  रक्षा  करते  हैं  । 

No comments:

Post a comment