Tuesday, 17 November 2015

सही अर्थों में ईश्वर विश्वासी बने

 धर्म  चाहे  कोई  भी  हो  यदि  व्यक्ति  केवल  कर्मकांड  करता  है  तो  यह  ईश्वर  विश्वास  नहीं  है  ।  कर्मकांड  स्वयं  करना  या  अपने  धर्म  के  पंडित - पुजारी -------- आदि  से  कराना  सरल  पड़ता  है  इसलिए  लोग  अब  इन्ही  कर्मकाण्डों  में  उलझ  गये  हैं  ।  देखने  में  लगता  है   कि  धार्मिकता  बहुत  बढ़  गई  है  किन्तु  वास्तव  में  सद्गुणों  को  महत्व  न  देने  के  कारण  अशांति  और  अपराध  बढ़  गये  हैं  ।
  ईश्वर --- वह  अज्ञात  शक्ति  उसे  चाहे  किसी  भी  नाम  से  पुकारो --- वह  सर्वशक्तिमान  है   ।   विभिन्न  कर्मकांड   ने  अब  व्यवसाय  का  रूप  ले  लिया  है   इसलिए  अब  उसका  सुफल  नहीं  मिलता  है  ।
ईश्वर  विश्वास  का ,  ईश्वर  की  कृपा  प्राप्त  करने  का  सबसे  सरल  तरीका  है  ----- सत्कर्म  करना  ।  हम  चाहे  किसी  भी  धर्म  के  हों  ,  यदि   नि:स्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करते  हैं ,  सेवा - परोपकार  के  कार्य  करते  हैं    तो  यही  सच्ची  पूजा  है   ।  यही  श्रेष्ठ  कर्म  ढाल  बनकर  हमारी  रक्षा  करते  हैं  ।
कोई  व्यक्ति  आस्तिक ,  ईश्वर  विश्वासी   तभी  कहलायेगा  जब  वह  सत्कर्म  करेगा ,  अपनी  बुरी  आदतों  को  छोड़कर  सद्गुणों  को  अपनाएगा ,  सन्मार्ग  पर  चलेगा   । 

No comments:

Post a comment