Tuesday, 14 June 2016

शान्ति तभी होगी जब अशांत मन के लोग कम होंगे

संसार  में  बहुत  से  लोग  हैं  जो  सुख  शान्ति  से  जीवन  जीना  चाहते  हैं   और  इसके  लिए  वे  अपनी  परिस्थितियों  से  समझौता  कर  के  ,  ईश्वर  ने  जो  दिया  है  उसमे  खुश  रहते  हैं   ।  लेकिन  अनेक  लोग  ऐसे  भी  हैं  जो  किसी  को  खुश  नहीं  देख  सकते  ,  ऐसे  लोगों  का  मन  अशांत  होता  है  इसलिए  वे  जहाँ  भी  रहते  हैं  अशान्ति  फैलाते  हैं  ।   प्रश्न  ये  है  कि  लोगों  का  मन  इतना  अशांत  क्यों  होता  है  ?
  इसका  कारण  है  ---- लोगों  का  खान-पान ,  जीवन - शैली  ।   जो  लोग  बहुत  मांसाहार  करते  हैं  --- वे  धीरे  क्रूर  प्रवृति  के  हो  जाते  हैं  ,  उनके  भीतर  दया , करुणा , संवेदना  जैसी  म्रदुल  भावनाएं  समाप्त  हो  जाती  हैं     l  शराब  आदि  नशीले  पदार्थों  के  सेवन  से  मन  अस्थिर  हो  जाता  है  ,  चरित्र  सम्बन्धी  अनेकों   बुराइयाँ  ,  विकार  उत्पन्न  हो  जाते  हैं    l  इसी  तरह  आतंक  की   और  अश्लील  फिल्मे  देखने  से  लोगों  की  मानसिकता  विकृत  व  प्रदूषित  हो  जाती  है  । ।
  इसलिए  यदि  शान्ति  चाहिए   तो  समस्त  संसार  को  एक जुट  होकर  मांसाहार  पर  ,  आतंक  की  व  अश्लील  फिल्मों  पर  और  नशे  के  व्यवसाय  पर  प्रतिबन्ध  लगाना  होगा   ।   किसी  भी  समस्या  के  उत्पन्न  होने  के  मूल  कारणों  को  समाप्त  कर  दें  तो  समस्या  भी  हल  हो  जाएगी  

No comments:

Post a comment