Thursday, 9 June 2016

सुख - शान्ति से जीने के लिए जागरूकता जरुरी है

    आज  संसार  में  अच्छाई  भी  है  और  बुराई  भी  है  ।   जरुरत  केवल  इस  बात  की  है  कि  हमारी  विवेक  द्रष्टि  विकसित  हो   जिससे  हम  अच्छाई  का  चयन  कर  सकें ।
 प्रत्येक  व्यक्ति  अपने स्वास्थ्य ,  अपनी  शिक्षा , अपने  कैरियर  और  अपने  परिवार  के  प्रति  जागरूक  रहे  तो  प्रत्येक  परिवार  का  निर्माण  होगा  ,  इसी  से  समाज  और  राष्ट्र  का  निर्माण  होगा  ।   जीवन  में  संतुलन  जरुरी  है  ।  शारीरिक  स्वास्थ्य  के  साथ  जरुरी  है  मन  स्वस्थ  हो  ,  मन  में  कुविचार  न  हों ,  क्रोध  पर  नियंत्रण  हो  ।
 इसी  तरह  व्यक्ति  संपन्न  है,   उच्च  पद  पर  है   तो  इसकी  सार्थकता  तभी  है  जब  उसमे  धन  व  पद  से  जुड़ी  हुई  बुराइयाँ  न  हों   ।  जो  धनी  हैं ,  शक्ति  संपन्न  हैं  उनकी  सबसे  बड़ी  कमजोरी  यही  है  कि  वे  दूसरे   को  आगे  बढ़ता  हुआ  नहीं  देख  सकते  ।  इस  वजह  से  वे  स्वयं  अशांत  रहते  हैं  ।  इस  धरती  पर  जीने  का ,  तरक्की  करने  का  हक  सबको  है   ।  शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है  कि  हम  दूसरों  की  ख़ुशी  में  खुश  हों   ।  

No comments:

Post a comment