Thursday, 16 June 2016

सुख - शान्ति से जीने का एक ही रास्ता ------ निष्काम कर्म

  आज  के  समय  में  जब  जीवन  इतना  अनिश्चित  है  -- कहीं  प्राकृतिक  प्रकोप  हैं ,  कहीं  दंगे - फसाद ,  लूट-पाट,  दुर्घटना ,   हमला --- कहा  नहीं  जा  सकता  कि  कब   कौन  इसमें  फंसकर  अपनी  जान  गँवा  दे  । मृत्यु  तो  निश्चित  है ,     लेकिन      अकाल  मृत्यु ,   स्वयं   मरने   वाले  के  लिए  ,  उसके  परिवार ,  समाज  सबके  लिए   दुःखदायी  होती  है   ।  कितनी  भी  पुलिस  हो ,  फौज  हो  ,  ऐसी  मुसीबतों  से  कोई  बचा  नहीं  पाता  ।  बचाने  वाला  सिर्फ   एक  है --- वो  है  --- ईश्वर  !    लेकिन  ईश्वर  भी   ऐसे  ही  बचाने  नहीं  आते  ।  जब  वे  देखते  हैं  कि  अमुक  ने  कोई  सेवा  , परोपकार  के  कार्य  किये  हैं  ( चाहे  इस  जन्म  या  पिछले  जन्मों  में  ) तब  इन्ही  सत्कर्मों  की  डोरी  से  बंधकर  भगवान  आते  हैं  बचाने ,  ईश्वर  की  कृपा  मिलती  है  ।  इसलिए   प्रत्येक  व्यक्ति  को  अपने  जीवन  में  नियमित  रूप  से  सत्कर्म    निष्काम  भाव  से  करना  चाहिए  ।  कब  ,  कौन  सा  कर्म  किस  मुसीबत  से  बचाने  में  काम  आ  जाये  ,  यह  कोई  नहीं  जनता  । 

No comments:

Post a Comment