Sunday, 5 June 2016

सुख - शान्ति से जीने के लिए सोच में परिवर्तन जरुरी है

 कष्ट , दुःख ,  परेशानियाँ  सबके  जीवन  में  आती  हैं  ,  इनके  बीच   शान्त   वही  रह  पाते  हैं   जिनकी  सोच  सकारात्मक  है   और  जो  इन  कष्टों  की  सबसे  चर्चा  नहीं  करते  । हमें  हमेशा  इस  बात  का  प्रयास  करना  चाहिए  कि  जो  भी  कष्ट  , परेशानियाँ  हैं  उनके  पीछे  जो  सुख  छिपा  है  उसे  देखें   जैसे  व्यापार   में  घाटा  हुआ   तो  कितना  नुकसान  हुआ  यह  न  देखें  ,  जो  दौलत  अपने  पास  और  बैंक  में  है  उसे  देखें   । कोई  दुर्घटना  हुई  तो  उसका  दुःख  न  मनाएं,  जान  तो  बची  यह  सोचकर  खुश  रहें  ।
सकारात्मक  सोच  के  लिए  हमारा  मन  स्वस्थ  होना  चाहिए   और  मन  स्वस्थ  तब  होगा  जब  बुरी  आदतों  को  त्याग  देंगे  ।   बुरी  आदतों  को  छोड़ने  पर  ही  मन  में  अच्छे  विचार  आयेंगे  और  समस्याओं  से  जूझने  की  शक्ति  पैदा  होगी   ।  

No comments:

Post a comment