Tuesday, 7 June 2016

अशान्ति का कारण है ----- संवेदनाओं का समाप्त होना

   मानव  जीवन  की  जितनी  भी  समस्याएं  हैं  उन  सबके  मूल  में  एक  ही  कारण  है  ----- संवेदना  न  होना   आज  मनुष्य  इतना  स्वार्थी  हो  गया  है  कि  वह  अपने  सामने   हत्या , लूट,  जघन्य  अपराध  होते  देखता  है  ,  लेकिन  अनदेखा  कर  देता  है  ,  लोग  खड़े - खड़े  देखते  हैं  लेकिन  पीड़ित  को  बचाने  का  कोई  प्रयास  नहीं  करता  है  ।   अनेक  लोग  ऐसे  अपराधियों  से  गुपचुप  सांठ-गाँठ  कर  लेते  हैं  ताकि  उनके  सुख - भोग  में  कोई  कमी  न  आये  ।
   लोगों  के  संवेदनहीन  हो   जाने  के  कारण  ही  समाज  में  अपराधिक  प्रवृतियां  बढीं  हैं  । युद्धों  में  तो  एक  बार  में  सब  नष्ट  हो  जाता  है  लेकिन  समाज  में  होने  वाले  अपराध , हत्या , महिलाओं  के प्रति  और  , बच्चों  के  प्रति  अपराध  से  धीरे - धीरे  समाज  खोखला  होता  जाता  है   ।  ऐसी  घटनाओं  से  सामान्य  लोगों  की   मानसिकता  भी  प्रदूषित  हो  जाती  है  ।
        मनुष्य  केवल  मनुष्य  के  प्रति  ही  नहीं  अपितु  प्रकृति  व  पशु - पक्षियों  के  प्रति  भी  संवेदनहीन  हो  गया  है  ,  इसीलिए  इतने  प्राकृतिक  प्रकोप  हैं  ।  वैज्ञानिक  प्रगति  होना ,  भौतिक  सुख - सुविधाएँ  बढ़  जाना  ही  विकास  नहीं  है  ,  वास्तविक  प्रगति  तो  तब  है  जब  मनुष्य ,  इनसान  बने  ,'  जियो  और  जीने  दो  '   के  सिद्धांत  पर  चले  ।   

No comments:

Post a comment