Tuesday, 31 January 2017

लोगों की मानसिकता को परिष्कृत करना - आज की सबसे बड़ी जरुरत है

 समाज  में  आतंक ,  चोरी , लूट , हत्या , अपहरण , नशा ,  जुआ  आदि  दुष्प्रवृत्तियों  का  कारण  है ---- लोगों  की  मानसिकता  का  प्रदूषित  होना   ।  इस  प्रदूषण  का  सबसे  बड़ा  कारण  है --- नशा   ।   अश्लील  फिल्म ,  दूषित  साहित्य    तो  सारे  समाज  की  मानसिकता  को  प्रदूषित  कर  देता  है  ।   कहते  हैं   इन  सबसे  प्रकृति  भी   कुपित  हो  जाती  है  और  बाढ़ , सूखा,  भूकंप ,  महामारी  आदि  प्राकृतिक  प्रकोप  बढ़  जाते  हैं ।              यदि  सुख - शान्ति  से  जीना  है ,  स्वस्थ  रहना  है    तो  ----- साम -दाम , दंड - भेद  --- किसी  भी  तरीके  से    लोगों  की  मानसिकता  को  प्रदूषित  करने  वाले  कारणों  को  समाप्त  करना  होगा  ।    सुख  शान्ति  के  महल  के  लिए  परिष्कृत  विचारों  की   मजबूत  नींव  जरुरी  है   । 

No comments:

Post a Comment