Saturday, 15 July 2017

धन का स्रोत क्या है ?

     मनुष्य  का  पारिवारिक  जीवन  कैसा  है  ?  समाज   में    शांति  है  अथवा  नहीं ,  लोगों  का  चरित्र  कैसा  है  आदि  बहुत  सी  बातें  इस  बात  पर  निर्भर  करती  हैं  किउनके  परिवार  में  धन  किस  तरह  आता  है  l
  जिन  परिवारों  में  बेईमानी  , भ्रष्टाचार  से  धन  आता  है   वहां  बीमारी ,  चारित्रिक  पतन   आदि  की  वजह  से  अशांति  रहती  है  l  
  यदि  लोगों  को  बिना  मेहनत  के  धन  मिल  जाये   जैसे  अनेक  लोग  ,  संस्थाएं   दान  के  नाम  पर ,  निष्काम  कर्म  के  नाम  पर   निर्धन  लोगों  को  विभिन्न सहायता  देते  हैं   l  दान - पुण्य  के  कार्य  करना  अच्छी  बात  है   लेकिन  हमारे  शास्त्रों  में  लिखा  है ---- किसी  को  आलसी  बना  देना ,   बहुत  बड़ा  पाप  है   l   कहते  हैं  '  खाली   मन  शैतान  का  घर '  l   जिस  समाज  में  ऐसे  आलसी लोग  ,  जिन्हें  बिना  श्रम  के  धन ,  सुविधाएँ  मिल  जाती  हैं  --- तो  ऐसे  समाज  में   विकास  रुक  जाता  है  ,  लोग  अपनी  उर्जा  का  उपयोग  नकारात्मक  कार्यों  में  करने  लगते  हैं  ,  समाज  में  अपराध , अराजकता  बढ़ने  लगती  है   जो  सबके  लिए  घातक  है  l   समाज  में  सुख  शांति  के  लिए  जरुरी  है   कि  लोगों  को  आत्म  निर्भर  बनाया  जाये ,  वो  अपनी  रोटी  स्वयं  कमा  कर  खा  लें  l   भिखारियों  को  भी  पुरुषार्थी  बनाया  जाये  l    केवल  वृद्ध  और  हर  तरह  से  असमर्थ  को  ही    भोजन   आदि  दिया  जाये   l  l 

No comments:

Post a comment