Monday, 24 July 2017

अत्याचारी को पहचानना कठिन है

 एक  जमाना  था  -- जब  डाकू   होते  थे  ,  पहले  से  ही  घोषणा  कर  के  डाके  डालने  आया  करते  थे  l  उनका  भी  ईमान  था , धर्म  था ,  देवी  के  भक्त  थे    और  समाज  से  बाहर  बीहड़ों  में  रहते  थे  l  लेकिन  अब   भ्रष्टाचार   के  युग   ने  सब  पर  लीपापोती  कर  दी   l  अब  तो  अपराधी  शराफत  का  नकाब  पहन  कर  समाज  में  सब  के  साथ  हिल -मिल  कर  रहता  है  l  विज्ञान  के  युग  में  लोगों  के  पास  दूसरों  का  शोषण  करने  के  बहुत  हथकंडे  हैं  l  थोड़े  बहुत  अपराध  तो  हर  युग  में  होते  रहे  हैं ,  लेकिन  तब  लोग  अपराधियों  को  , गुंडों  को  अपने  समाज  , अपनी  जाति  से  बहिष्कृत  कर  देते  थे   l  आज  की  स्थिति  में  यदि  किसी  तरह  अपराधी  पकड़  भी  जाये   तो  सबूत , गवाह ----- आदि  लम्बी  प्रक्रिया  से  वर्षों  खुला  घूमता  है  और  अपने  जैसे  अनेक  अपराधी  तैयार  करता  है   l   आज  समाज  की  अधिकांश  समस्याएं   बुद्धि  भ्रष्ट  होने  से ,  सद्बुद्धि  की  कमी  से  उत्पन्न  हुई  हैं   l  स्वतंत्रता  से पूर्व  ,  देश  की  आजादी  के  लिए  लोगों  को  जागरूक  करने  के  लिए   जो    देशभक्त   भाषण  देते , लेख  लिखते ,  अपनी  जान  जोखिम  में  डालते  उन्हें  अति  कठोर  जेल , काले  पानी  की  सजा ,  असहनीय  कष्ट  दिया  जाता  था    लेकिन   अब   मासूम  बच्चियों  से  बलात्कार  करने  वाले ,  छोटे  बच्चों  का  अपहरण  कर   उन्हें  सताने  वाले ,  बड़े - बड़े  अपराध  करने  वाले   समाज  में   खुले  घूमते  हैं  l    आज  जरुरत  है  -- ऐसे  लोगों  की  जिनके  पास  सद्बुद्धि  हो , विवेक  हो   जो  जाति  व  धर्म  के  आधार  पर  लोगों  को  न  बांटे  l  ऐसा  भेद  हो  जिसमे  एक   ओर  ईमानदार,  सच्चे  और  नेक  दिल  वाले  लोग  हों   और  दूसरी  तरफ  समाज  को  अंधकार  में  ले  जाने  वाले   अपराधी ,  अत्याचारी , अन्यायी  हों   l  इस  अंधकार  तरफ  के  लोगों  को  कठोर  सजा  भी  हो  और  सुधरने  का   प्रयास  भी  हो  तभी  एक  सुन्दर  समाज  का  निर्माण  हो  सकता  है  l 

No comments:

Post a comment