Monday, 31 July 2017

धन का लालच और असीमित इच्छाओं के कारण वीरता और स्वाभिमान जैसे गुण लुप्त हो रहे हैं

अति  महत्वाकांक्षा  और  बढ़ती  हुई  तृष्णा  ने  मनुष्य  की  कायरता  में  वृद्धि  की  है  l  अपने  से  कमजोर को  संरक्षण  देने  के  बजाय  व्यक्ति  उसे  लूटने  में ,  उसे  गलत  दिशा  दिखाने  में  तत्पर  रहता  है  ताकि  वे  समर्थ  होकर  उसकी  बराबरी  में  न  आ  जाये  l  ' स्वाभिमान '  जैसा   गुण  जिससे   व्यक्ति  और  समाज  गर्व  से  सिर  उठाकर  रहते  हैं  ,  मिलना  बड़ा  मुश्किल  हो  गया  है  l  लोगों  का  दोहरा  व्यक्तित्व  है  l  बढ़ती  हुई  कामनाओं  और  वासना  की  पूर्ति  के  लिए  लोग  अपनी  आत्मा  को  बेच  देते  हैं  l  ऐसे  ही  लोग  समाज  में  अपने  अस्तित्व  को  बनाये  रखने  के  लिए  अत्याचार  और  अन्याय  का  सहारा  लेते  हैं  ,  इस  वजह  से  समाज  में  अशान्ति  बढ़ती  है  l 

No comments:

Post a comment