Saturday, 22 July 2017

अशान्ति इसलिए है क्योंकि लोग अत्याचार को चुपचाप सहन करते हैं

  नैतिकता और  मानवीय  मूल्यों  का  ज्ञान  न  होने  से   जो  समर्थ  हैं ,  जिनके  पास  धन  और  पद  की  ताकत  है ,  वे  अपनी  शक्ति  का  सदुपयोग  नहीं  करते  l  अपने  अहंकार  में  ,  शक्ति  के  मद  में  वे  कमजोर  पर  अत्याचार  करते  हैं  l  कहते  हैं  अत्याचार  में  भी  एक  नशा  होता  है  ,  यदि  अत्याचार  को  सहन  किया  जाये  तो  वह  धीरे - धीरे  बढ़ता  जाता  है ,  संगठित  हो  जाता  है   और  अपने  विरुद्ध  उठने  वाली  हर  आवाज  को  बंद  कर  देता  है  l
  समस्या  इसलिए  बढ़ती  जाती  है  --- यदि  छोटे बच्चे - बच्चियों  पर अत्याचार हुआ ,  उन्हें  तरह -तरह  से  सताया  गया ,  तो  वे  बेचारे  छोटे  हैं , ऐसे  आतताइयों  का  मुकाबला  कैसे  करेंगे  ? समाज  के  गरीब , कमजोर  लोगों   का  शोषण  हो , विभिन्न  संस्थाओं  में  उत्पीड़न  हो   तो  अकेला  उत्पीड़ित  व्यक्ति    कैसे   मुकाबला  करे  ?   सबसे  बड़ी  गलती  समाज  के  उस  वर्ग  की  है    जो  धन  के  लालच में ,  कुछ  सुविधाओं  के  लिए   और  सबसे  बढ़कर  अपने  चेहरे  पर  जो  शराफत  का  नकाब   है  उसे  बचाने  के  लिए  वे  अत्याचारियों  का  साथ  देते  हैं ,   उनकी  मदद  करते   हैं  , उनका  साथ  दे  कर  उन्हें  मजबूत  बनाते  हैं  l
  आज    अच्छाई  को  ,  सत्य  को  संगठित  होने  की  जरुरत  है   l   यश  प्राप्त  करने  की  कामना  को  त्याग  कर   जब  सुख-शांतिपूर्ण  समाज  व्यवस्था  की  चाह  रखने  वाले  लोग  संगठित  होंगे ,  जियो  और  जीने  दो ,    हम  सब  एक  माला  के  मोती  हैं --- इस  विचारधारा  के  लोग  संगठित  होंगे ,  अत्याचार  के  विरुद्ध  तुरन्त  संगठित  होकर  खड़े  होंगे    तभी  समाज  से  नशा , जीव हत्या ,  अत्याचार - अन्याय    समाप्त  हो  सकेगा   l 

No comments:

Post a comment