Sunday, 16 July 2017

जिनके मन में अशान्ति है वही इस संसार में अशान्ति फैलाते हैं

  ' अशान्ति  भी  संक्रामक  रोग  की  तरह  है  ,  अशान्त  मन - मस्तिष्क  के  व्यक्ति  अपने  क्रिया - कलापों  से   आसपास  के  लोगों  को  अशांत  करते  हैं  और  इस  तरह  अशान्ति  का  क्षेत्र  बढ़ता  जाता  है  l
   पशु - पक्षियों  को  देखें   तो  वे  अपने  समुदाय  में  शान्ति  से  रहते  हैं ,  ईर्ष्या, द्वेष , अहंकार  जैसी  कोई  दुष्प्रवृत्ति  नहीं  है ,  मनुष्यों  से  उनकी  शांति  देखी  नहीं  जाती   इसलिए  मानव  समाज   बेजान  पशु - पक्षी   को  भी  चैन  से  जीने  नहीं  देता  l  मानव  समाज  में  भी   पुरुष  और  नारी  है  l  संसार  का  कोई  भी  देश  हो ,  कोई  भी  धर्म  हो   सभी  में  पुरुषों  ने  अपने  अहंकार  और  शक्ति  के  मद  में  नारी  पर  अत्याचार  किये  है  l
  संसार  में  जितने  बड़े - बड़े  युद्ध  हुए  वे  सब  पुरुषों  के  अहंकार  की  वजह  से  हुए    लेकिन  उसके  घातक  परिणाम   स्त्रियों  और  बच्चों  को  भोगने  पड़े   l  पुरुष  वर्ग   अपने  बेवजह  के  अहंकार  को  कम  कर  ले  ,  अपने  मन   को  शांत  रखे   तो    संसार    में  भी  शान्ति  रहे  l   आज  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  ---- मन  की  शान्ति  l    जब  शांत   मन  के  लोग  अधिक  होंगे  ,  लोगों  में  सद्बुद्धि  होगी , विवेक  जाग्रत  होगा  तभी  शान्ति  होगी  l 

No comments:

Post a comment