Monday, 3 July 2017

जागरूकता का अभाव

  समाज  में  अशांति  का  सबसे  बड़ा  कारण  है ---- लोग  जागरूक  नहीं  हैं  l  अपने  आप  परिस्थितियों  से  ठोकर  खा कर  जागरूक  होने  में  जीवन  का  बहुत  बड़ा  हिस्सा  खप  जाता  है  l  सच्चाई  यह  है  कि  आज  लोग  दूसरों  को  बेवकूफ  बना कर  ही  पैसा  कमा  रहें   हैं ,  पद , शोहरत , वैभव  सब  तभी  तक  है  जब  तक  दूसरा   बेवकूफ  है  l   धर्म , शिक्षा ,  राजनीति,  चिकित्सा -------- कोई  भी  क्षेत्र  ऐसा नहीं  बचा  जहाँ  ईमानदारी  और  कर्तव्यपालन  हो  l  लोग  गरीब  और  कमजोर  को  जागरूक  करना  चाहते  भी  नहीं  अन्यथा  बहुतों  की  रोटी -रोजी  छिन  जाएगी  l   जो  गरीब  है , हर  तरह  से  कमजोर  है  उसी  को  सब  मिलकर  लूटते  हैं  ---- धार्मिक  कर्मकांडी  उसे  भाग्य  अच्छा  करने  के  लिए   तरह -तरह   की  पूजा , कर्मकांड  बताकर  पैसा  ऐंठते  हैं  ,  शिक्षा  के  क्षेत्र  में  उसे  प्रश्न -उत्तर  रटा  दिए , व्यवहारिक  ज्ञान  नहीं  हुआ ,   बीमार  हो  जाये  तो  चिकित्सक  छोटी  सी  बीमारी  को  बड़ा  बताकर ,  तरह - तरह  की  जांच करा  के  खूब  लूटते  हैं ,  कहीं  अपनी  समस्या  को  हल  कराने  के  लिए  जाये   तो  जो  उसका  बचा - खुचा   है , वह  भी  समाप्त  !
  हमारे  शास्त्रों  में ,  धर्म ग्रन्थों  में  कहा  भी  गया  है   गरीब  को , कमजोर  को  मत  सताओ ,  गरीब  की
 ' हाय '   बहुत  बुरी  होती  है  l     समाज  में  एक  वर्ग  सुख - वैभव  में  रहे  और  दूसरे  वर्ग  को  दिन - रात  मेहनत - मजदूरी  करने  पर  भी  दो  वक्त  भोजन   नसीब  न  हो   तो  अशान्ति  तो    होगी  l 

No comments:

Post a comment