Friday, 21 July 2017

अशांति इसलिए है क्योंकि मनुष्य स्वयं सुधरने के बजाय दूसरों को अपने मन के अनुकूल बनाना चाहता है

 संसार  में  अधिकांश  समस्याएं  इसलिए  उत्पन्न  होती  हैं  क्योंकि   जिसके  पास  धन , पद  आदि  की  ताकत  है   वह  चाहता  है  कि  दूसरे  उसके  अनुसार  चले   l  अशान्ति  तब  होती  है  जब  समर्थ  लोग  गरीबों , मजदूर,  किसानों  और  हर  तरह  से  कमजोर  लोगों  का  शोषण  करते  हैं  और  चाहते  हैं  वो  इसी  तरह  शोषित  होता  रहे ,  एक  शब्द  भी  न  बोले  ताकि ' उनका ' वैभव - विलास  चलता  रहे   l   ऐसे  लोगों  की  आड़  में   कितने  ही  ' दबंग ' समाज  में  तैयार  हो  जाते  हैं  जिन्हें  कानून  का  भय  नहीं  होता , उनमे  कोई  नैतिकता  नहीं  होती ,  दो  पैर  के  पशु  समान  होते  हैं  l  ऐसे  में  समाज  की  नयी  पीढ़ी  भी  सुरक्षित  नहीं  है  l  लोगों  की  सोच  बहुत  संकुचित  हो  गई  है  l  आज  जरुरत  है  ऐसे  विचारशील  लोगों  की  जो   अपनेश्रेष्ठ  आचरण  से  लोगों  को  जीना  सिखाएं  l   

No comments:

Post a comment