Sunday, 11 March 2018

नई पीढ़ी पुरानी पीढ़ी से प्रेरणा ग्रहण करती है

  आज  की  सबसे  बड़ी  समस्या  यह  है  कि  युवाओं  को  मार्गदर्शन  देने  वाला  कोई  नहीं  है   l  जो  बड़ी  उम्र  के  हैं  वे  धन  और  पद  के  लालच  में   बेईमानी  और  भ्रष्टाचार  में  गहरे  डूबे  हुए  हैं   l  ये  लोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए  नई  पीढ़ी  को  भी  इस्तेमाल  करते  हैं  l   आयु  बढ़ने  के  साथ  त्याग  और वैराग्य  का  भाव  बढ़ना  चाहिए ,  वह  कहीं  नहीं  दिखाई  देता , कामना , वासना  और  तृष्णा  बढ़ती  ही  जाती  है  l  व्यक्ति  अपनी  आखिरी  सांस  तक  इन्ही  की  पूर्ति  में  लगा  रहता  है  l  अच्छे  और  विवेकशील  लोग  भी    बहुत  हैं  लेकिन   अंधकार  इतना  घना  है  ,  दुर्बुद्धि  का  ऐसा  प्रकोप  है  कि  अच्छाई    इस  अंधकार  को  चीर  कर  बाहर  नहीं  आ  रही  l 
  हमें  आशावान  होना  चाहिए   और  ईश्वर  से  सद्बुद्धि  के  लिए  प्रार्थना  करनी  चाहिए  l  अंधकार  कितना  भी  घना   हो  ,  सुबह  अवश्य  होगी  l 

No comments:

Post a comment