Saturday, 11 April 2015

अपनी बुराइयों को मन व आत्मा से त्यागना चाहिए

हम  सब  मनुष्य  हैं,  हम  सब  में  अनेक  कमियाँ  हैं,  बुरी  आदते  हैं   । जब  हम  अपनी  कोई  बुरी  आदत  जैसे---शराब  और  मांसाहार  छोड़ने  का  संकल्प  लेते   हैं  और  इनका  प्रयोग  नहीं  करते  हैं  तो  यह  उस   बुराई   का  शरीर  से  त्याग  करना  है,     यदि  जब-तब  हमारा  मन  इनके  लिये   बेचैन  है,  हम  मन-ही-मन  ललचाते  हैं  तो  यह  उस  बुराई  का  सम्पूर्ण   त्याग  नही   है  ।
हमें इस बुराई  को  मन  से  भी  छोड़ना  होगा---- इसका  एक  ही  उपाय  है----- नियमित   रूप  से   निष्काम  कर्म  करें    और  ईश्वर  से    प्रार्थना   करें  कि  हमें  अपने  विकारों  को  जीतने  की  शक्ति  दें  |
निष्काम  कर्म  करते  रहने  से  धीर-धीरे  मन  निर्मल  हो  जाता  है  और  तब  ईश्वर  की  कृपा  से  मन  इतना  शक्तिशाली  हो  जाता  है  कि  कोई  भी  आकर्षण-प्रलोभन  उसे  विचलित  नही  कर  सकता  ।
निष्काम  कर्म,  सत्कर्म  एक  जादुई  करिश्मा  है  जो  मन  को  निर्मल  कर  देता   है  और  निरंतर  सत्कर्म   करते   रहने  से  आत्मविश्वास  बढ़ता  है  और  ईश्वर  की  कृपा  प्राप्त  होती    है  । 

No comments:

Post a Comment