Saturday, 25 April 2015

संसार में सुख-शान्ति के लिए बड़े बदलाव की जरुरत है

आज   मानसिक    शांति  सब चाहते हैं  | शांति  के  लिए  सभाएं   होती    हैं,  शिविर  लगते  हैं,  तरह-तरह  के  प्रयास  किये  जाते  हैं  लेकिन  शांति  नहीं  है   ।  जो   युवा   हैं ,  बड़ी   उम्र   के   है   उन्हें   तो   समझाया   जा   सकता   है   लेकिन   जो   छोटे -छोटे   बच्चे   हैं ,  जिनके   कोमल   मन   हैं , हर   तरह   के   सीरियल   व   फिल्में   देखते   है   । आज   के   समय   में   सबसे   ज्यादा   परेशान   बच्चे   ही   है ,  माता -पिता   धन   कमाने   में   व्यस्त   हैं ,  बच्चे   अपनी   व्यथा ,  अपनी   समस्या  किसी   से   नहीं   कह   पाते   ।
      आज   जो   परिपक्व   आयु    के  व्यक्ति   हैं   यह  उनके   सोचने   की   बात   है   कि   वे   आने   वाली    पीढ़ियों   को    क्या   दे   जायेंगे  ?  केवल   धन  कमाने   के   लिए   हर   तरह  का   साहित्य ,  हर   तरह   की   फिल्में ,    अपना   स्वार्थ ,  भ्रष्टाचार ,  लालच ,  छल -कपट   !    जिस   व्यक्ति   के   पास   जो   कुछ   है   वह   वही    आने   वाली   पीढ़ियों   को   देकर   जाता   है   ।
यह   हम   सबको   समझना   है   कि   धरती   पर   बढ़ते   पाप ,  अत्याचार ,  शोषण , अन्याय   से   प्रकृति   नाराज   हो   गई   ।  प्रकृति   का   क्रोध   कब   कहां ,  किस   रूप   में   व्यक्त   हो   कोई   नहीं  जानता   ।
     ऐसा   नहीं   है   कि   धरती   पर   पुण्यात्मा   नहीं   है ,  एक -से -एक   बड़े   दानी ,  महात्मा   और   सत्पुरुष   हैं ,  जिनके   पुण्य   से   यह   धरती   टिकी   है    लेकिन   भ्रष्टाचार   और   लालच   लोगों   में   इतना   है   कि   वे   उनके  कार्यों   में   भी   पहले   अपना   स्वार्थ   सिद्ध   करते   हैं  ।
हम   इस   सत्य   को   समझें   कि   हम   जो   करते   हैं   और   जो   सोचते   हैं   उन  सब   पर   ईश्वर   की  नजर   है ,  प्रकृति   ही   ईश्वर   है ,  हम   ईश्वर   से   डरें   और   सन्मार्ग   पर   चलें   । 

No comments:

Post a comment