Wednesday, 15 April 2015

संसार में सुख-शान्ति के लिए विचारों में परिवर्तन बहुत जरुरी है

आज  संसार  में  अनेक  समस्याएं   हैं,  उनके  निवारण  के  लिए  अनेक  आन्दोलन चलते  हैं  लेकिन  समस्याएं  कम  नहीं  हुईं  बढ़ती  ही  जा  रहीं  हैं  | यदि  कोई  जहरीला  पेड़  है  तो  उसे  जड़  से  काटना  पड़ेगा ।  समाज  की  समस्याएं  मुख्य  रूप  से---- नशा---- सिगरेट,  शराब  और  मांसाहार  का---  इनसे  देश-दुनिया  के  अधिकांश  परिवार  पीड़ित  है,   यही    तीनो  आदतें  ऐसी  हैं  जो  व्यक्ति  की   बुद्धि  को  भ्रष्ट  कर  देतीं  हैं,    उसे  भीतर  से  खोखला  कर  देती  हैं  |  प्रत्येक   व्यक्ति  इनसे  होने  वाले  नुकसान  को  जानता  है  फिर  भी  इन्हे  छोड़ता  नहीं   हैं  |
इन  तीनो  समस्याओं  की  जड़  है--- इनका  बाजार  मे  उपलब्ध  होना  ।  यदि  कोई  वस्तु  बाजार  में  उपलब्ध  न  हो  तो  लोग  कुछ  दिन  परेशान  होंगे  फिर  धीरे-धीरे  उसे   भूल  जाएंगे  ।
      ऐसे  नशे  की  वस्तुओं  का  व्यापार  पूरी  दुनिया  में  करोड़ों-अरबों  रूपये  का  है,  उन्हें  बाजार  में  आने  से  कैसे  रोका  जाये   ?
आज  जो  लोग  इन  वस्तुओं  के  उत्पादन  में,  बिक्री  में,  विज्ञापन  में,  ग्राहकों  को  तरह-तरह  से  आकर्षित  करने  आदि  विभिन्न  तरीके  से  इन  तीनो  बुराइयों  के  व्यापार  से  जुड़े  हैं--- उन्ही  के  विचारों  में  परिवर्तन  की   इस  संसार  को  आवश्यकता  है  ।
  लोगों  को  यह  समझ  में    आना  चाहिए  कि   दूसरों  को  मिटाकर,  गलत  रास्ते  के  लिए  प्रेरित  कर  कभी  भी  जीवन  में  सुख-शांति  नहीं  आ  सकती  ।
व्यक्ति  स्वयं  अपने  जीवन  का  अवलोकन  करे---- क्या   ऐसे  व्यवसाय  से   असीमित  धन-संपति  कमा  लेने  से   वह   स्वयं  और  उसके  परिवार  के  सब  लोग  स्वस्थ  हैं ?     रात  को  मुलायम  बिस्तर  पर  चैन  की  नींद  आती  है ?   कहीं  कोई  भय  तो  नहीं  ?  ---------- ?
धन  जीवन  के  लिए  जरूरी  है  लेकिन  उससे  ज्यादा  जरुरी  है  ईश्वर  की  कृपा,  और  यह  कृपा  मिलती  है--  सन्मार्ग  पर  चलने  से  । जिसे  ईश्वर  की  कृपा  प्राप्त  हो  जाती  है  वह  निडर  हो  जाता  है  और  इस  आपा-धापी  के   संसार  में   आनन्द  से  रहता  है   ।

No comments:

Post a Comment