Sunday, 19 April 2015

श्रेष्ठ राह पर चलने के लिए धैर्य और विश्वास की जरुरत है

श्रेष्ठ  राह    ही  अध्यात्म  का  पथ  है  और  इस  राह पर  चलने  के  लिए  हमें  असीमित  धैर्य  और  अज्ञात  शक्ति  पर  अटूट  विश्वास  की  जरुरत  है  ।  हमें  इस  बात  को  हमेशा  ध्यान  में  रखना  चाहिये   कि  भगवान  के  यहां  कोई  सौदेबाजी  नही  चलती,  कहीं  कोई   दुकान  नहीं  खुली   है  कि  हमने  आज  से  निष्काम  कर्म  शुरू  किये  और  तुरंत  ही,  जल्दी  से  जल्दी  हमें  फायदा  हो,  हमारी  समस्याएँ  हल  हो  जायें
             हमें     अपना  कर्तव्य  पालन  करना  है  और  अपनी   गलतियों  को  दूर   करने   के  प्रयास  के  साथ  सतत  सत्कर्म  करते  रहना  है,  सत्कर्म  का  कोई  भी  मौका   हम  हाथ   से  जाने  न  दें  ।  जिंदगी  की  किस  समस्या    के  निवारण  में  कौन  सा  सत्कर्म  काम  में  आ  जाये,  यह  समायोजन  प्रकृति  में  अपने  आप  होता  रहता  है   ।   सत्कर्म  करने  में  हमारी  भावनाएं  पवित्र  हों,  उन्हें  बोझ  समझकर  या  दिखावे  के  लिये  न   करे  ।   जैसे  हमे  जीवित  रहने   के   लिए  भोजन,  पानी  और  हवा  अनिवार्य  है ,  उसी  तरह  सुख-शान्ति  से  रहने  के  लिए  सत्कर्म  जरुरी  हैं  ।   सत्कर्म  की  पूंजी  निरंतर  बढ़ते  रहें,  उनके  सत्परिणाम  स्वयं  महसूस  होंगे  । 

No comments:

Post a comment