Monday, 6 April 2015

सुख-शान्ति से जीना है तो आदतों को बदलना ही होगा

मन  की  शान्ति  अनमोल   है,  जो  करोड़ों  रूपये  खर्च  करने  के  बाद  भी  नहीं  मिलती  ,   लेकिन  यदि  हम  अपनी  आदतों  में  छोटे-छोटे  सुधार  करते  चलें   और  निष्काम  कर्म  करते  रहें   तो   एक  दिन  ऐसा  आ   ही  जाता  है  जब  प्रकृति  हम  पर  दयालु  हो  जाती  है  और  ईश्वर  की  कृपा  से  इस  आपा-धापी  के   संसार में  अनेक  विषमताओं  के  बीच  भी   हमारा  मन  शांत  रहने  लगता  है  ।
कुछ  विकार  तो  ऐसे  हैं  जैसे  ईर्ष्या-द्वेष,  कामना-वासना--- इनका  तूफान  तो  हमारे  मन  में  उठता  है,  जब  मन  निर्मल  होगा  तो  ये  विकार  भी  दूर  हो  जायेंगे  | इसलिए  हमारा  प्रयास  हो    कि  हम  उन  विकारों  को  पहले  दूर  करें ,   जिन्हें  दूर  करना  हमारे  हाथ  में    है  जैसे  सर्वप्रथम  हम  मांसाहार  छोड़  दें  |
संसार   में  एक-से-बढ़कर-एक  शाकाहारी  वस्तुएं  हैं  जो  हमारे  मन   को  तृप्ति  देती  हैं  इसलिए  मांसाहार  छोड़ना  कोई  कठिन  काम  नहीं  है  |  मांसाहार  का  सबसे  बड़ा  नुकसान  यह   है  कि  जिस  प्राणी  को  यह कष्ट,  यह  यातना  दी  जाती  है  वह  मूक  है,  बोलता  नहीं  है  इसलिए  उसको  होने  वाला  कष्ट ,  मांसाहार  करने  वाले  के  जीवन  में  भी  किसी- न-किसी  रूप  में  आता  है  |  उस  प्राणी  की  चीत्कार  उसी  वायुमंडल  में  रहती  हैं  जिसमें   हम  सब  साँस  लेते  हैं  | ऐसे  नकारात्मक  वातावरण  में  मन  अशांत  रहता  है
|आरम्भ  में  सप्ताह  में  अपने  धर्म  के अनुसार  कोई  तीन  दिन  मांसाहार  न  करें  फिर  धीरे-धीरे  जब  इसका  फायदा  समझ  में  आने  लगे  तो  पूरी  तरह   से छोड़   दे   ,  इससे  मन  शांत  रहेगा  और  निरपराध  प्राणियों  की  हिंसा  के  पाप  से  भी  बचेंगे  ।  

No comments:

Post a comment