Monday, 26 October 2015

समाज में अमन - चैन चाहिए तो बदलनी होगी ' अछूत ' की परिभाषा

युगों - युगों  से  समाज  में  उच्च  जाति  के  लोग  दलितों  और  निम्न  जाति  के  लोगों  को  अछूत  मानते  हैं ,  उन्हें  उपेक्षित  करते  हैं  ,  हर  पल  अपमानित  करते  हैं   ।  उनके  कष्टों  से  उन्हें  कोई  लेना -देना  नहीं  ।
    अ +  छूत -----  यानि  उनसे  दूर  रहो  ,  उन्हें  आगे  मत  बढ़ने  दो  !
                     समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है ----- जो  कमजोर  है ,  जिसकी  आर्थिक  स्थिति  दयनीय  है  ,  स्वास्थ्य  अच्छा  नहीं  है    वे  समर्थ  व  संपन्न  लोगों  को  क्या  परेशान  करेंगे   ?
फिर  भी  ऊँची  जाति  के  लोग  उनसे  भयभीत  रहते  हैं  ,  उन्हें  डर  है  कि  कहीं  वे  लोग  आगे  बढ़  गये  तो  उनका  वर्चस्व  समाप्त  न  हो  जाये  ?  इसी  लिए  वे  उन्हें  उपेक्षित  करते  हैं   ।
  समान  धर्म  के  होने  पर  भी  उच्च  जाति  ने  इस  वर्ग  को  अपने  से  अलग  कर  दिया  है  इसलिए  समाज  में  इतनी  अशांति  व  नकारात्मकता  है  ।
    हम  ईश्वर  से  प्रार्थना करें  कि  वे  हमें   सद्बुद्धि  दें    और  हम  समझें  कि  वास्तव  में  अछूत  कौन  ?  हमें  किस  से  दूर  रहना  है    और  किससे  स्वयं  की  रक्षा  करनी  है ---------
हमें  उन  लोगों  से  दूर  रहना  है  जिनसे  हमारे  व्यक्तित्व  को  चोट  पहुँचती  है  ,  हमारा  परिवार  संकट  में  आ  जाता  है  | 
  वास्तव  में  वे  लोग  अछूत  हैं  जो  काम,  क्रोध ,  लालच ,  अहंकार  और  ईर्ष्या  जैसे  दुर्गुणों  से  ग्रस्त  हैं  ।
   यदि  व्यक्ति   कामांध  है --  तो  उससे  दूर   रहो   क्योंकि  ऐसे  लोग  अपने  निकटतम  व्यक्ति  को  ,  जो  सरलता  से  उपलब्ध  हो  जाये  उसे  अपना  शिकार  बनाते   हैं  ।
 यदि  व्यक्ति  क्रोधी  है    तो  उससे  बचो ,  यदि  वह  परिवार  का  है  तो  जब  क्रोध  करे  तो  बहस  न  करो,  अपने  किसी  अनिवार्य  कार्य  का  बहाना  करके  चले  जाओ   ।
  यदि  व्यक्ति  लालची  है  तो  वह  सबसे  बड़ा  अछूत  है  ,  क्योंकि  वह  लालच में  अँधा  होकर  रिश्तों  को  भूल  जाता  है    और  धन -सम्पति   हड़पने  के  लिए   अपनों  के  विरुद्ध   षड्यंत्र  रचता  है  ।
  अहंकारी  और  ईर्ष्यालु  व्यक्ति    तो    अछूतों  का  भी  अछूत  है ,  उसकी  छाया  से  भी  बचो   । 
    ऐसे  दुर्गुणों  वाले  व्यक्तियों   से  दूर  रहकर  हम  अपनी  तरक्की  का  प्रयास  करें ,  कभी  किसी  के  आगे  हाथ  न  पसारें ,  स्वाभिमान  से  रहे  ,  ईश्वर  पर  विश्वास  रखे    और  जब  स्वयं  समर्थ  हो  जायें  तो  इन दुर्गुणों  से  दूर  रहें   ।   

No comments:

Post a comment