Friday, 4 December 2015

अशान्त लोगों के बीच हम शान्त कैसे रहें

 संसार  का  इतिहास  युद्धों  से ,  खून - खराबा  और  अपराध  की  घटनाओं  से  भरा  पड़ा  है  l  इसका  अर्थ  है  कि  काम ,  क्रोध , लोभ , ईर्ष्या,  द्वेष    आदि    दुष्प्रवृत्तियों  के  वशीभूत  होकर  मनुष्य  आरम्भ  से  ही  स्वयं  को  और  अपने  सुख - साधनों  को  नष्ट  करता  रहा  है   ।    इतिहास  का एक सकारात्मक  पक्ष  भी  है  ---- ऐसे   अनेक  महान  पुरुष  हुए  जिन्होंने  ऐसी  नकारात्मकता  के  बीच  रहते  हुए  भी  विभिन्न  क्षेत्रों  में  कीर्तिमान  स्थापित  किये ,  अपने  कार्यों  से  वे  संसार  में  अमर  हो  गये  ।
  हमें  ऐसे  ही  महान  लोगों  के  जीवन  से ,  उनके  विभिन्न  संस्मरण  से  हमें  जीना  सीखना  है  ।
   हमारी  साँसे  सीमित  हैं  ,  हमारी  ऊर्जा  भी  सीमित  है    ।  इसे  यदि  हम  ऐसे  लोगों  से   विवाद  कर , आपस  में  झगड़ा  कर   गंवाएंगे   तो  कुछ  सकारात्मक  करने  के  लिए   वक़्त  कैसे   बचेगा  ।
      दुष्प्रवृतियो  से  ग्रस्त  व्यक्ति  काँटे  के  समान  है  जो  सबके  साथ  चुभने  वाला  व्यवहार  करता  है  ।
काँटा  तो  फिर  भी  पाँव   पड़   जाये  तभी  चुभता  है ,  मनुष्य  के  पास  तो  बुद्धि  है   वह  इसका  दुरूप योग   हमेशा  षड्यंत्र  रचने  और  दूसरों  को  उत्पीड़ित  करने  में  करता  है  ।
हमें  ऐसे  लोगों  से  दूर  रहना  चाहिए ,  उनसे  किसी  बात  पर  उलझें  नहीं  ।
  हम  सहनशील  अवश्य  बने ,  पर  कायर  न  बने  ।  अत्याचारी ,  अन्यायी  का  सामना  करने  के  लिए  अपनी  आत्मशक्ति  को  बढ़ाएं ।   कर्तव्यपालन  के  साथ  सत्कर्म  करने  से  ,  सदाचार पूर्ण  जीवन  जीने  से ,  सन्मार्ग  पर  चलने  से   आत्मविश्वास  बढ़ता  है  ,  विवेकबुद्धि  जाग्रत  होती  है   और  ह्रदय  में  वो शक्ति  उत्पन्न  होती  है   जिससे  हम अत्याचारी  को  पराजित  कर  सकें  ।

No comments:

Post a comment