Thursday, 18 February 2016

व्यक्ति सुख - शान्ति से तभी जी सकता है जब उसके भीतर का भय समाप्त हो जाये

 यह  कितना  आश्चर्य  है   कि  जो  जितना  संपन्न  है  ,  जिसके  पास  सुरक्षा  के  सारे  साधन  मौजूद  हैं  वह  उतना  ही  डरता  है   | हमें   एक  बात  याद  रखनी  चाहिए  कि  ईश्वर  ने  हमें  गिनकर   साँसे  दी  हैं  उनमे  से  एक  भी  कम  या  ज्यादा  नहीं  हो  सकती   ।  व्यक्ति  के  पास  जो  कुछ  है  उसे  उसके  खोने  का  भय  सताता  रहता  है   । इस  भय  से  बचने  का  एक  ही  रास्ता  है  ---- हम  उस  असीम  सत्ता  पर  आस्था  रखें ,  चिंता  में  जीवन  गुजारने  के  बजाय  अपने  जीवन  को  सार्थक  करें  ।  यदि  धन - सम्पदा  बहुत  है  तो  उसका  कुछ  भाग  लोक - कल्याण  में  लगायें,  केवल  धन  बांटना  ही  पर्याप्त  नहीं  है   , उसका  उपयोग  सकारात्मक  होना  चाहिए  ।  इसी  तरह  यदि  व्यक्ति   के  पास  पद - प्रतिष्ठा  है   तो  वह   इसका  प्रयोग  लोगों  का  शोषण  करने  के  लिए  नहीं  करे  ,  अपनी  शक्ति  का  प्रयोग  वह  समाज  के  कल्याण  के  लिए  करे  ।  ऐसा  करने  से  भय  अपने  आप  दूर  हो  जायेगा   । जब  व्यक्ति  दूसरों  के  हित  की  बात  सोचता  है  और   सत्कर्म  करता  है  तो  स्वयं  प्रकृति  उसकी  रक्षा  करती  है  । 

No comments:

Post a comment