Friday, 26 February 2016

समाज में अशान्ति का मूल कारण भ्रष्टाचार

आज  समाज  में  धन  की  प्रतिष्ठा  है   इसलिए  प्रत्येक  व्यक्ति   उचित - अनुचित  तरीके  से  धन  कमाने  के   लिए  प्रयासरत  है  । यही  कारण  है  कि  कोई   भी  अपना  काम  ईमानदारी  से  नहीं   करता   । कर्तव्यपालन  में  ईमानदारी  न  होने  के  कारण  ही  अपराध  इतने  बढ़  गये  हैं   ।  धनी  अपने  धन  के  बल  पर  अपराध  कर  के  स्वतंत्र  घूमता  है  ,  दंड  का  भय  न  होने  के  कारण  ही  अराजकता  बढती  है  ।
       लोगों  की  मानसिकता  प्रदूषित  हो  गई  है   ।  गरम  जलवायु  के  देश  में  शराब  ,  मांसाहार ,  तम्बाकू  आदि  नशे  का  सेवन  व्यक्ति  के   भीतर  के  पशुत्व  को  जाग्रत  कर  देता  है  ,  अश्लील  साहित्य ,  फिल्मे  आदि  से  मनुष्य  के  सोचने - समझने  की  शक्ति  समाप्त  हो  जाती  है  ।
संस्कृति  की  रक्षा  करनी  है  तो  समाज  को  जागरूक   होकर  प्रत्येक  दिशा  में  सुधार  करने  होंगे  । 

No comments:

Post a comment